sahil love story

गर्लफ्रेंड के पापा पुलिस में थे, उन्होंने मुझे जेल में डलवा दिया- साहिल लव स्टोरी

मैं साहिल मध्य प्रदेश से हूं। मैं आपके पेज से बहुत समय से जुड़ा हूं। आज तक मैंने कभी अपनी फीलिंग्स किसी से शेयर नहीं की लेकिन आज मन कर रहा है कि किसी को बताऊं इसके बारे में। मेरी भी एक लव स्टोरी है। ये बात तब की है जब मैं इंदौर में रहा करता था। लाइफ में सबकुछ ठीक चल रहा था। स्टडी कंप्लीट हो चुकी थी और अच्छी जॉब मिल गई थी। इंग्लिश में थोड़ा वीक था इसलिए एक कोचिंग क्लास ज्वाइन की थी। यहीं से मेरी लव स्टोरी शुरू हुई।

मैं उसको संजू कहकर बुलाता था और मुझे उसका यही नाम पसंद था। वो मेरे साथ मेरी ही क्लास में आया करती थी। वहां हमारी फ्रेंडशिप हुई और फिर धीरे धीरे प्यार करने लगे। करीब दो महीने के बाद क्लास खत्म हो गई पर हमारा मिलना जारी रहा। वो इंजीनियरिंग की स्टूडेंट थी तो वो शाम को सात बजे क्लासेज के लिए जाया करती थी। बस वहीं उसकी क्लास के बाद हम मिला करते थे।

sahil love story

रोज करीब एक घंटे हम साथ रहते थे फिर मैं उसको उसके घर तक छोड़ने जाया करता था। फिर अपने घर चला जाता था। दो साल तक ऐसा ही चलता रहा। अगर उसको एक दिन भी ना देखूं तो मुझसे रहा नहीं जाता था। मुझे कई बार डर लगता था कि कहीं हम अलग हो गए तो मैं कैसे रह पाऊंगा। वो बहुत ही अच्छी थी। मुझे उसकी आवाज बहुत पसंद थी जो आज भी आंखें बंद करता हूं तो सुनाई देती है। उसकी आंखें जिसको देखकर पता नहीं क्या हो जाता था मुझे।

हमने कई बार शादी करने के बारे में सोचा। भाग कर शादी कर लें ये भी सोचा क्योंकि हमारी कास्ट अलग थी। हम दोनों का परिवार ये रिश्ता मंजूर नहीं करता, हमें पता था। वो जब भी शादी के लिए कहती तो मेरे मन में एक बात आती थी कि वो अपनी स्टडी कंप्लीट कर ले, फिर उसके बाद शादी कर लेंगे क्योंकि मेरा ड्रीम था कि वो इंजीनियर बने। ऐसे ही चलता रहा और धीरे धीरे उसके घरवालों को हमारे बारे में शक होने लगा।

उसके पापा पुलिस डिपार्टमेंट में थे इसलिए उन्होंने फाइनली मुझे एरेस्ट कराया और केस फाइल किया। एक दिन जेल में रहना पड़ा। उसके बाद मुझे जमानत मिली और केस भी बंद हो गया। पर संजू के लिए प्यार दिल में वैसा का वैसा ही रहा। उसके बाद मैंने उससे मिलने की या कॉन्टेक्ट करने की कोशिश नहीं की। मुझे मेंटल शॉक लगा था। छह महीने तक मैं घर से बाहर नहीं निकल पाया क्योंकि कुछ समझ नहीं आ रहा था कि आखिर मेरे साथ ये क्या हुआ और क्यों हुआ?

दो साल तक मैं इन सब चीजों से लड़ता रहा। अपने को अकेला कर लिया। किसी से बात नहीं की, किसी से कुछ नहीं कहा कि हुआ क्या था मेरे साथ…इंदौर में रहना मुश्किल हो रहा था क्योंकि जहां भी जाता उसकी कोई न कोई याद जुड़ी हुई थी हर जगह से। फाइनली मैं वहां से दूर एक दूसरी जगह आ गया और जॉब करने लगा। सब भूलने की कोशिश करने लगा। मेरी फैमिली ने मेरा रिश्ता पक्का कर दिया है। 5 महीने बाद मेरी शादी किसी और लड़की से हो जाएगी। जिससे मेरी शादी हो रही है, उससे पिछले एक महीने में बस हाय हेलो हुई है। मुझे अपनी जिंदगी में आगे क्या होगा, कुछ पता नहीं, लेकिन संजू के पिता ने मेरी अच्छी सी लव स्टोरी को शॉक देकर खत्म कर दिया।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.