banny love story

वो प्यार करती थी लेकिन मिलने गया तो बोली, नहीं मिल सकती – बन्नी की लव स्टोरी

मेरा नाम बनवारी है। अनु मुझे बन्नी कहती थी। मैं राजस्थान से हूं। मैं बेंगलौर में एक इन्टरनेशनल ब्रांड में जॉब करता था। मेरी फेसबुक पर कोलकाता की एक लड़की से दोस्ती हुई और धीरे-धीरे दो साल में वो दोस्ती प्यार में बदल गई। मैंने अभी उसको देखा तक नहीं। हमारी मुलाकात फेसबुक के एक ग्रुप में हुई थी। मैं उसकी फ्रेंडलिस्ट में एड नहीं था और उसने कभी किया भी नहीं। मैंने भी कभी पूछा नहीं उससे। बचपन में घर से दूर रहने लगा था इसलिए किसी का प्यार मिल न सका।

जिंदगी में पहली बार कोई ऐसा इनसान आया जिससे मुझे काफी प्यार मिलने लगा। ये सब कुछ इतना आनंदित करता था मुझे जिसकी कोई सीमा नहीं। फिर मैंने बेंगलौर में जॉब छोड़ दी और दिल्ली चला गया। कुछ दिन दिल्ली में रहने के बाद मैंने कोलकाता की एक कंपनी ज्वाइन कर ली क्योंकि अनु कोलकाता से ही थी और मैं उसके और पास रहना चाहता था।banny love story

अब मेरी खुशी सातवें आसमान पर थी लेकिन फिर जो हुआ उसने मुझे तोड़कर रख दिया। मैं कोलकाता गया तो उसने मुझे बोला कि मैं मिल नहीं सकती। मैंने कारण पूछा तो बताया नहीं। वो आज भी रहस्य ही है मेरे लिए। फिर धीरे-धीरे मुझे उसके दोस्तों से पता चला कि मुझसे पहले वो एक लड़के से मिलने जमशेदपुर तक गई हुई है, घर से झूठ बोलकर लेकिन मुझसे मिलने कोलकाता में घर से नीचे नहीं आ सकती।

फिर धीरे-धीरे मुझे पता चला कि उसने मुझे अपनी फ्रेंडलिस्ट में एड क्यों नही किया? वो फेसबुक पर 5-6 ग्रुप चलाती थी मनोरंजन के लिए और वो मुझसे छुपाना चाहती थी। बहुत बार ऐसा होता था कि वो मुझे बोलती थी कि मैं बिजी हूं या तबियत सही नहीं है लेकिन फिर मुझे उसके ही दोस्त स्क्रीनशॉट भेजते कि देख यार ये तो उस ग्रुप में मस्ती कर रही है। ऐसे अनगिनत झूठ सामने आए लेकिन मेरी आंखों पर कौन सा चश्मा लगा था, मैं समझ नहीं पाया। मैंने अपने दिल पर पत्थर रख कर सवाल करने शुरू किये।

अब मैं अंदर ही अंदर घुटने लगा था क्योंकि मुझे उसे खोने का डर था लेकिन फिर भी मैंने सवाल किये और हर सवाल का एक ही जवाब वो देती थी कि बनी तुम नहीं समझोगे। आज भी मेरे पास अनगिनत स्क्रीनशॉट हैं जो मेरी बर्बादी के सबूत हैं। मैं इस कदर पागल हो गया था। मेरी ब्लैक कलर की टीशर्ट है क्योंकि अनु का पसंदीदा कलर है। सबकुछ उसके हिसाब से था मेरा सूटकेस से लेकर जूतों तक।

जॉब ऐसी थी कि महीने में 20 दिन प्लेन में रहता था लेकिन प्लेन उड़ने के बाद फोन खुद ब खुद बंद होता था पर मैं मन ही मन अनु से बात करता रहता था। लोग स्टोरी पढ़कर क्या सोचेंगे, पता नहीं लेकिन मैंने उससे दिल से प्यार किया। आज भी मानता हूं कि अब भी वो अगर आये तो सबकुछ भूल कर मैं उसे अपनाने को तैयार हूं।

मेरी आज की हालत ये है मैं रात को 3-3 घण्टे फव्वारे के नीचे नहाता रहता हूं। पंजाबी गाने सुनता रहता हूं। लगता है या तो कोई बीमारी हो जायेगी या पागल हो जाऊंगा …….

# लवयूअनु # तुम्हारा बन्नी

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.