शायरी – जमाने भर का गम भुला दे जरा

बांध ली क्यूं तुमने जुल्फें अपनी

अपने शाने पे इसे बिखरा ले जरा

जमाने भर का गम भुला दे जरा

ऐ गजल पहलू में सुला ले जरा

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.