शायरी – बेवफाओं की भीड़ आज साथ चली है

बेवफाओं की भीड़ आज साथ चली है

माशूक के मैयत की बारात चली है

रस्मो-रिवाज में हुस्न कैद रह गई

सूली पे चढ़के ही वो आजाद हुई है

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.