शायरी – भूल तो है मेरी कि मैं इश्क करता हूं

भूल तो है मेरी कि मैं इश्क करता हूं

आपसे जो हो न सका, वही काम करता हूं

कितना मुश्किल है आपसे मिलना हाय

इक मुलाकात की तमन्ना में मरता हूं

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.