शायरी – मेरी तन्हाई में करीब आ जाओ

प्रीतम मेरी प्रीत में खो जाओ

मेरी तन्हाई में करीब आ जाओ

रात की चांदनी अंधेरी लगती है

मेरी पलकों में चिराग जला जाओ

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.