babita-shayari

बेवफा का अहसान शायरी

किससे कहूं अब अपने दिल की हालत
तुम ही मेरे न हुए, यकीं करूं किस पर

दिल पर एक बोझ है जो बस कहता है
एक बेवफा ने अहसान किया मुझ पर

Advertisements

Leave a Reply