Category Archives: खामोशी शायरी

शायरी – तुमको अगर मैं अपने दिल में बसा लूं

prevnext

जो खुदा हर पल मेरे अहसासों में है
मेरी जां तू उसकी एक झलक तो नहीं

तुमको अगर मैं अपने दिल में बसा लूं
ये काम जमाने में कोई गलत तो नहीं

यूं सोचता रहूं और तुमसे कह न सकूं मैं
तो फिर रहोगी तुम हमसे अलग तो नहीं

रातभर तेरी तस्वीर को देखता रहा लेकिन
झपकी एक बार भी मेरी पलक तो नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – जीवन तन्हा रास्ता है

#100 लव शायरी

जीवन तन्हा रास्ता है, दो कदम का वास्ता है

एक अंधेरे का मुसाफिर, सबको दीपक बांटता है

उम्र के चरखे पे हरदम, दर्द के धागे कातता है

रात के सन्नाटे में वो, रोता-मरता जागता है

  1. कांटें मिले हैं जिसको उसे मैं दिलजला लिखूं
  2. मौसम तन्हा-तन्हा है तेरी खुशबू के बिना
  3. मैं किसी की ख्वाहिशों का गुलाम नहीं
  4. मुश्किल हुआ है शहर में रहना मेरा, चलना मेरा

शायरी – न आखिरी ख्वाहिश है बची

#100 दर्द शायरी

न आखिरी ख्वाहिश है बची

न आखिरी तमन्ना है कोई

 

बेखुदी में कटे ये दर्दे-सफर

राह में बेदर्द मिले न कोई

  1. वो गज़ल है जो मिली है कोरे कागज़ को
  2. अश्कों में डूबता हुआ जलता हुआ दिल है
  3. दिल के मसले पे न बनिए खुदगर्ज़ सनम
  4. जिस अज़नबी ने मुझको तलबगार किया है

शायरी – हंसने की कभी सूरत न हुई

love shyari next

हंसने की कभी सूरत न हुई
हम रोये भी तो किसको खबर

जिस दर पे झुके थे सर मेरे
उस दर पे नहीं कर पाया बसर

तन्हाई का आलम, आंसू हैं बस
जिंदगी औ दर्द बने हमसफर

अपने दिल को दिखलाएं किसे
कहां मिलेगी वो दुखती नजर

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इन भरी आंखों से दुआ न दो

love shyari next

बुझ गए चांद को सदा न दो
इस कदर दिल को सजा न दो

तुम किसी की खुशी के लिए
इन भरी आंखों से दुआ न दो

जिसने दुनिया में जीना सीखा
उसके ईमान का वास्ता न दो

हुस्न और सादगी का वो चेहरा
यादकर दर्द को रास्ता न दो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – कांटों ने ही अब तक हमको जीना है सिखाया

love shayari hindi shayari

खामोशियों की बस्ती में जिसने घर हो बनाया
उसने दर्द के गुलों से तन्हा कमरे को सजाया

सफर के रहगुजर से यही कहते चले अक्सर
कांटों ने ही अब तक हमको जीना है सिखाया

जिसकी हस्ती में वफा का नामोनिशां नहीं था
उसके लिए ही जाने क्यों दिल औ जां लुटाया

पेड़ों के पत्तों को है शायद गर्दिश से मुहब्बत
जो टूटकर पतझड़ के लिए खुद को मिटाया

©RajeevSingh # love shayari