Category Archives: जुदाई शायरी

shayari – तन्हाई के आलम में जब तेरी याद होती है

shayari latest shayari new

मुंतजिर जिंदगी शायरी

तन्हाई के आलम में जब तेरी याद होती है
आंखों में ठहरे अश्कों की बरसात होती है

वजूद मेरा है मगर तुम इस कदर समाए हो
जिस्मो जान में, ख्यालों में तेरी बात होती है

काश हमें तुमसे कभी मोहब्बत ही न होती
यही सोचने में दिन से अब मेरी रात होती है

तेरे बिन मेरे दिल की दुनिया बेजान सी हुई
रोज तेरे लिए मुंतजिर जिंदगी हताश होती है

shayari green pre shayari green next

Advertisements

शायरी – अब तुम ही खफा हो तो बताओ क्या करूं

new prev new shayari pic

इंतजारों के कांटों को मैं चुनता चला गया
पल पल गिरे आंसू को गिनता चला गया

रिश्तों ने हर कदम पर मुझको बहुत टोका
मगर मैं तेरी बात को बस सुनता चला गया

अब तुम ही खफा हो तो बताओ क्या करूं
तेरा जवाब न मिला तो सिर धुनता चला गया

कुछ दिन में शायद सबकुछ ठीक हो जाए
इसी उम्मीद में ये गजल मैं बुनता चला गया

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – तू नहीं आई एक बार जो गई

new prev new shayari pic

जागते-जागते सहर हो गई
इस सफर में ही बसर हो गई

रातभर रोज ही तमाशा किए
देखनेवाले की नजर सो गई

खोजता कौन है मुसाफिर को
तू नहीं आई एक बार जो गई

तेरे सिवा आखिर कौन है मेरा
ये सोचते हुए जिंदगी खो गई

सहर – सुबह

©राजीव सिंह शायरी

जुदाई शायरी- तेरे बिन जिएं हम किस तरह

love shyari next
तेरे बिन जिएं हम किस तरह
और तू जिएगी किस तरह

उल्फत में जो हम खो चुके
वो फिर मिलेगी किस तरह

शम्मे जो लौ से घिर गए
कब तक जलेगी किस तरह

मैं तो शुरू से ही नादान हूं
पर तू समझेगी किस तरह

©RajeevSingh

शायरी – इश्क और बंदगी के आंसू हैं

love shyari next

ये मेरी जंदगी के आंसू हैं
इश्क और बंदगी के आंसू हैं

लाल रंगत का भरम है वरना
मेरे खूं भी तो मेरे आंसू हैं

कोई आंचल पोछेगी एक दिन
इसी ख्वाहिश में बहते आंसू हैं

कोई मीठी सी खुशी क्या देगा
जो इतने सारे खारे आंसू हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में

love shayari hindi shayari

तुम्हारी यादों में ये कैसा जादू है
दिल के शहर में हालात बेकाबू है

तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में
करवटों से भरी ये रात बेकाबू है

मेरी तन्हाई है गवाह इस मंजर का
कि इन आंखों में बरसात बेकाबू है

कट रही है उम्र मेरी दोजख में
जिंदगी में ये भड़की आग बेकाबू है

(दोजख- नर्क)

©RajeevSingh # love shayari