Category Archives: दर्दे दिल शायरी

shayari – नहीं थी खबर कि इस तरह रुसवा करोगे हमें

shayari latest shayari new

मोहब्बत कर बैठी शायरी इमेज

नहीं थी खबर कि इस तरह रुसवा करोगे हमें
बस्ती में जाकर सबसे तुम बेवफा कहोगे हमें

एक ऐतबार पर खा चुकी अब तक इतने धोखे
देखती हूं कि कब तक ठोकरें लगाओगे हमें

मेरी जिंदगी में ये कैसी आग लगा गए हो तुम
खाक हो चुकी हूं और कितना जलाओगे हमें

दिल नादान था जो तुमसे मोहब्बत कर बैठी
कहां सोचा कि आखिर में ये सिला दोगे हमें

©rajeevsingh                                    shayari

shayari green pre shayari green next

Advertisements

शायरी – सांसों की कशमकश में कितने शहर बदल चुके

new prev new shayari pic

ऐ जिंदगी तेरे इश्क में पागल भी हम हो चुके
कांटों से नहीं, हम यहां फूलों से घायल हो चुके

अपने हमें समझाते रहे दुनिया की वो रवायतें
हम समझ न पाए तो अपने घर से निकल चुके

मोम सा जलते रहे हम चांद की खातिर रातभर
बुझ गए हैं आज हम जो पूरी तरह पिघल चुके

एक जगह रुकने से अब घुटता है क्यों दम मेरा
सांसों की कशमकश में कितने शहर बदल चुके

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – कातिल से मोहब्बत कर बैठे

love shayari hindi shayari

खुद ही से अदावत कर बैठे
कातिल से मोहब्बत कर बैठे

वही अपना न रहा इस शहर में
जिनके लिए हम सबसे लड़ बैठे

उनके चर्चे जब हरसू होने लगे
सारे इल्जाम मेरे सर वो धर बैठे

खोजें जीने का कोई और ठिकाना
मिलने लगे हैं ताने अब घर बैठे

अदावत –  दुश्मनी
हरसू – हर तरफ

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जाने किन रास्तों पर मेरे सपने भटक गए

love shayari hindi shayari

जाने किन रास्तों पर मेरे सपने भटक गए
सदियों की तलाश में लम्हें भटक गए

ऐ रकीब, मेरे दिलबर का ख्याल रखना
अपनी तन्हाई में हम अब खुद में भटक गए

मुसीबत में जब-जब मेरी जिंदगी पड़ी
जाने किधर मेरे यार और अपने भटक गए

एक मैं नहीं हूं, हर दिल है यहां बीमार
देखो तो कितने लोग तेरे गम में भटक गए

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – इश्क में ये कैसी कशमकश है दिल में

तुमसे जबसे प्यार हुआ है तुम्हारे पास आने से मैं न जाने क्यों घबराता हूं। तुमको दूर से देखता हूं और तुम सामने से आती हो तो रास्ता बदल लेता हूं। ख्याल ये भी आता है कि कहीं तुम मुझसे दूर चली गई तो मेरा क्या होगा? ये इश्क की ऐसी कशमकश है जिसमें दिल में उलझन सी रहती है।

तुमसे अभी तक कह नहीं पाया कि तुमसे प्यार करता हूं। मेरी जुबां तुमसे इजहार करने से शरमाती है। तुम सामने से आती हो और रोज गुजर जाती हो और मैं बस उदास होकर चला जाता हूं कि आज भी तुमसे वो बात कह नहीं पाया जिसको कहने के लिए दिल बेकरार है लेकिन जुबां खामोश।

प्यार में दूरी शायरी इमेज
उतना ही क्यों दूर जाती हो
हम तुम्हारे जितने पास आएं

ऐसा क्यों है? इश्क में इसकी भी वजह है। आशिक के दिल में ये डर रहता है कि कहीं तुम इजहार पर ना कह दो तो क्या होगा। दिल तो ये कहता है कि तुम हां कहोगी और यह सोचते ही मन में खुशी का फूल खिल उठते हैं और महकने लगते हैं लेकिन अगले ही पल ये महसूस होता है कि कहीं तुम ना कह दोगी तो…

तुम्हारे ना के ख्याल से ही सिहर सा जाता हूं, डर जाता हूं। इसलिए तुम्हारे पास आने से घबराता हूं, तुमसे दिल की बात कहने से डरता हूं। इस डर ने ऐसा परेशान किया है कि जी उदास रहता है, मन परेशान रहता है। इसी उम्मीद में ये गजल लिख रहा हूं कि शायद तुम दिल की धड़कनों की परेशानियों को समझ सको…

तुम्हारे पास आने से मैं घबराता हूं
तुमसे दूर जाने से मैं डर जाता हूं

इश्क में ये कैसी कशमकश है दिल में
कि जुबां से कहने से मैं शरमाता हूं

तुम बेफिक्र सी अक्सर गुजर जाती हो
और मैं गमगीन होकर चला जाता हूं

तुमसे ‘हां’ की उम्मीद से मुसकाता हूं
मगर तेरी ‘ना’ सोचकर सिहर जाता हूं

©RajeevSingh

शायरी – कैसे मरे आखिर कोई तेरे प्यार के लिए

love shyari next


कैसे मरे आखिर कोई तेरे प्यार के लिए
जब जीना पड़ता हो घर-बार के लिए

दिल को कह दो कि ये आंसू न बहाए
इसकी कीमत नहीं कुछ संसार के लिए

मुहब्बत के किस्सों के खरीदार हैं बहुत
ये तमाशा तो बिकता है बाजार के लिए

आईना टंगा रहे या गिरके टूट जाए
कोई फर्क नहीं पड़ता है दीवार के लिए

©RajeevSingh