Category Archives: सूफी शायरी

शायरी – ठेस न लग जाए नाजुक दिल को

love shayari hindi shayari


साईं न जइयो छोड़ के मुझको
मैं जी लूंगी देख के किसको

बच-बच चलियो प्रीत में प्रीतम
ठेस न लग जाए नाजुक दिल को

दर्द से भीगी है मेरी अंखियां
तेरे दरस का रोग है इसको

तू भूलेगा तो मर जाऊंगी
भूल न जाना इस जोगन को


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – दिल की आह न आए जुबां पे

new prev new next

दिल की आह न आए जुबां पे
इश्क जो होया तो जी भर रोया

ओय बुल्लिया तेरी बात न माना
इश्क में पड़के दर्द को जाना
अपने जिगर में कांटों को बोया
इश्क जो होया तो जी भर रोया

रात फकीरी रे दिन भी फकीरा
सारे जहां में अब कोई न मेरा
घर भी गंवाई, सब कुछ खोया
इश्क जो होया तो जी भर रोया

©RajeevSingh

शायरी – प्रीत में जोगन बन जाऊंगी मैं

new prev new next

प्रीत में जोगन बन जाऊंगी मैं
तोरी नगरी पिया चली आऊंगी मैं

घर की दीवारें तो तोड़े नाही टूटे
अपनी देहरी मोसे जाने कब छूटे
पिंजरे को तजके उड़ जाऊंगी मैं
तोरी नगरी पिया चली आऊंगी मैं

नगरी में आके पिया तोरे दर पे
धूनी रमाऊंगी मैं दिल की अगन से
हवन की लकड़ी बन जाऊंगी मैं
तोरी नगरी पिया चली आऊंगी मैं

©RajeevSingh

शायरी – मुझसे नाराज हो जाते हो, मेरा क्या होगा

love shyari next

मुझसे नाराज हो जाते हो, मेरा क्या होगा
मुझे यूं छोड़ न जाओ, मेरा क्या होगा

दिले-नादां का सिला है मेरे बहते आंसू
यही आगाज है तो अंजाम मेरा क्या होगा

होश जब तक रहेगा, राह तेरी देखूंगी
दर्द से होश ना जाएगी, मेरा क्या होगा

जानती हूं मेरे दामन में तेरी खुशियां हैं
मेरा दामन जो छूट जाए, तेरा क्या होगा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – सबकी तरह बेदर्द थे हम जब इश्क से बेगाने थे

love shayari hindi shayari

मैं परिंदा भी नहीं और हूं आस्मा भी नहीं
लेकिन मेरा दिल इन दोनों से कम भी नहीं

मेरा सबकुछ लुट गया, मैं वो खुशनसीब हूं
आज दुनिया में कुछ खोने का गम भी नहीं

मुफलिसी मेरा खुदा है, फाकामस्ती इबादत है
जिंदगी के बारे में अब कोई वहम भी नहीं

सबकी तरह बेदर्द थे हम जब इश्क से बेगाने थे
जिसने दर्दे-दिल दिया, अब वो सनम भी नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – सीने की गहराइयों में मुहब्बत जिंदा दफन है

prevnext

सीने की गहराइयों में मुहब्बत जिंदा दफन है
उसपे बिछा मेरे जिस्म का सादा कफन है

ये मौत जिंदगी के करीब ले आई है
और जिंदगी में अब तू ही तू समाई है

अपना ही साया है ये रात का अँधेरा भी
अपना ही अक्स है ये चाँद का चेहरा भी

आज जहाँ भी रहूँ जमीं-आस्मा बदलती नहीं
शहर की रौनक से मेरी तबियत बहलती नहीं

घर-शहर-देश की सरहदें मैं नहीं जानता
मैं जानता हूँ बस तेरे दर्दे-मुहब्बत को

और आँसू के उन सच्चे कतरों को
जिसे मैंने तेरी प्यासी उदासी में देखा है

तेरे उजड़े हुए बाल और मरता सा बदन
मुझे याद है बस एक जोगन जो तेरे जैसी है

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – ऐ मेरे दोस्त, मेरे दर्द पे तू क्यों मर गया

love shayari hindi shayari

मेरी दुनिया कभी आबाद खुदा कर देता
अपने अहसास से भी जुदा वो कर देता

सारा मंजर उसके हुस्न की रानाई है
काश सबको वो ऐसी इश्क की नजर देता

ऐ मेरे दोस्त, मेरे दर्द पे तू क्यों मर गया
इससे पहले तू मुझे थोड़ी सी जहर देता

उस मालिक ने मेरे पैरों को इतने कांटे दिए
कि कभी सोचा नहीं फूलों की रहगुजर देता

(रानाई – सौंदर्य)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ऐ हुस्न मेरे इस दिल में बस अक्स बना है तेरा

prevnext

ये इश्क दीवाना तेरा, ये इश्क दीवाना तेरा
ऐ हुस्न मेरे इस दिल में बस अक्स बना है तेरा
ये इश्क दीवाना तेरा, ये इश्क दीवाना तेरा

मैं भूल गया था रस्ता, धरती पर जनम लिया जब
इस जिस्म में रूह मिली तो महसूस हुआ ये मजहब
अब तू खुदा है मेरी और दिल बंदा है तेरा
ये इश्क दीवाना तेरा, ये इश्क दीवाना तेरा

ये दर्द है जब भी थकता, मेरे आंसू रूक जाते हैं
सदियों से प्यासे राही को बस रेत नजर आते हैं
जाने कबसे अंखियों को है इंतजार बस तेरा
ये इश्क दीवाना तेरा, ये इश्क दीवाना तेरा

सारी दुनिया में न तो अपने हैं, न ही पराए
पूरा गुलशन खिलता है, बस हम ही हैं मुरझाए
तेरे बिन मौसम बंजर और झूठा है जग सारा
ये इश्क दीवाना तेरा, ये इश्क दीवाना तेरा

©RajeevSingh