Category Archives: love story

love story of Soniya from bhopal – भोपाल से सोनिया की लव स्टोरी

मेरा नाम सोनिया है। मैं एक बहुत सिंपल लड़की हूं। मुझे ब्वॉयज से बात करना पसंद नहीं है। मैं बस अपने आप में बिजी रहती हूं।

मुझे अर्पित नाम का लड़का 2 साल से लाइक करता था। इस बारे में मुझे पता नहीं था।

भोपाल लव स्टोरी

वो मेरी फ्रेंड की कोचिंग में साथ पढ़ता था। तब उसने मेरी फ्रेंड से कहा कि वो मुझसे फ्रेंडशिप करना चाहता है लेकिन मैंने मना कर दिया।

फिर कुछ टाइम बाद मैंने भी वही कोचिंग ज्वाइन की, तब तक वो कोचिंग छोड़ चुका था। पर जब उसे पता चला कि मैंने कोचिंग ज्वाइन की है तो वह भी फिर से आने लगा।

वो मुझे देखता रहता था लेकिन मैं उससे हेट करती थी। इग्नोर करती रहती थी। फिर धीर-धीरे हमारी बात होने लगी।

हमारी फ्रेंडशिप हो गई। उसकी ये बात मुझे बहुत पसंद आई कि उसने कभी मुझे बात करने के लिए फोर्स नहीं किया। बस फिर धीरे-धीरे हम बहुत क्लोज हो गए।
——–
हम एक दिन भी बिना बात किए नहीं रह सकते। हमारी लाइफ अच्छी चल रही है लेकिन हमारा एक दूसरे के बिना रह पाना अब मुमकिन नहीं है।

पर हम दोनों की फैमिली के लोग बहुत पुराने ख्यालों वाले हैं। और ऊपर से हम दोनों अलग-अलग कास्ट के हैं। हमारी फैमिली कभी हमारे रिलेशन को एक्सेप्ट नहीं करेगी। हम एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं।

प्लीज हमारी हेल्प कीजिए। हम क्या करें?

हम अपनी फैमिली को भी हर्ट नहीं करना चाहते और ना ही एक दूसरे के बिना रह सकते हैं।

क्या दूसरी कास्ट में प्यार करना गुनाह होता है? पर हमसे तो वो गुनाह हो गया अब हम क्या करें?
————
अर्पित मेरी बहुत केयर करता है। मेरी हर खुशी का ध्यान रखता है। हर प्रॉब्लम मे मेरे साथ खड़ा रहता है। गॉड, ऐसा प्यार करनेवाला सबको दे।

पर अब मेरी लाइफ खुद ऐसे मुकाम पर आ चुकी है कि हम कोई फैसला नहीं कर पा रहे। मेरे घरवाले मेरी शादी कही और करना चाहते हैं पर मैं उससे भी दूर नहीं रह सकती।

और अर्पित कहता है कि अपनी फैमिली की बात मानो। मैं तो अभी तुम्हारी लाइफ में आया हूं। क्या तुम मेरे लिए उन्हें छोड़ दोगी? ऐसा मत करना। वो तुमसे बहुत प्यार करते हैं। तुम्हारे भले के लिए कर रहे हैं ये सब। और तुम चिंता मत करो। मैं तुमसे प्यार करता हूं और हमेशा करता रहूंगा। जिंदगी में कभी खुद को अकेला मत समझना। मैं हमेशा तुम्हारे साथ हूं। बस हमेशा खुश रहना, प्लीज मेरे लिए।

अब मुझे समझ में नहीं आ रहा कि मैं क्या करूं?