Category Archives: love story

आसनसोल से शिवानी की लव स्टोरी – love story of shivani from asansol

मेरा नाम शिवानी है। जब मैं फर्स्ट ईयर में गई थी तब मुझे दीपक नाम के लड़के से प्यार हो गया था। मेरी फैमिली की फाइनेंसियल कंडीशन बहुत खराब थी, मेरे पापा कुछ काम नहीं करते थे तब। सो मैं जॉब करती थी, ट्यूशन भी पढ़ाती थी और साथ में खुद की स्टडी, मेरे भाई की स्टडी और फैमिली की पूरी जिम्मेदारी मेरे ऊपर थी।shivani love story
—–
दीपक से मुलाकात कुछ इस तरह हुई। दुर्गा पूजा के टाइम मैं अपने घरवालों के साथ घूमने गई तो बहुत भीड़ थी। लाइन में खड़े थे हमलोग। मेरे पीछे मेरे जीजू खड़े थे। तभी अचानक मैंने जीजू समझ के किसी और का हाथ खींच लिया। जब मेरी नजर उस लड़के पे गई तो मैंने उससे माफी मांगी तो उसने कहा कि कोई बात नहीं, गलती हो जाती है।

फर्स्ट टाइम मिले थे तब। उसके बाद से दीपक को मैं अच्छी लग गई। उसने मेरे बारे में पता किया। मैं उसके फ्रेंड की फ्रेंड निकल गई। उसने उस फ्रेंड के जरिए मुझसे बात की। उसके बाद धीरे-धीरे बात बढ़ती गई। एक दिन उसने मैसेज कररके प्रपोज कर दिया। मैंने कुछ रिप्लाई नहीं दिया।

उसके दो दिन बात उसने मुझे फिर से मैसेज में प्रपोज किया। दो दिन से मैं सिर्फ यही सोच रही थी कि मुझे क्या कहना चाहिए। फिर उसने कॉल करके कहा तो मैंने तभी रिप्लाई दे दिया। फिर लव स्टोरी स्टार्ट हो गई।
—-
सबकुछ बहुत अच्छा ही चल रहा था। एक सप्ताह में एक दिन मिला भी करते थे हम दोनों। लेकिन मैं ज्यादा टाइम नहीं दे पाती थी तो वो थोड़ा बहुत नाराज रहता था। देखते-देखते 1 साल गुजर गया। एक दिन अचानक उसको टेंशन में देखा तो मैंने रीजन पूछा। उसने कहा कि होटल मैनेजमेंट करने बाहर जाना है लेकिन पैसा नहीं है।

मैंने पूछा कि कितना लगेगा? पहले नहीं बता रहा था लेकिन मैंने दबाव डाला तो बता दिया। मैंने अपनी खुद के हाईयर स्टडीज के लिए कुछ सेविंग की थी, वह सारा 70,000 रुपया उसको दे दिया।
—-
वो तो चला गया बाहर पढ़ने। सिर्फ फोन पर बात होती रही। बाहर जाने के बाद ही उसके बिहेवियर में चेंज नजर आया मुझे। वो मुझे कॉल नहीं करता था। मैं जब फ्री होती थी तब कॉल कर लेती थी। उसके मंथली खर्चे भी कभी-कभी मुझे भेजने पड़ते थे।

एक दिन फोन पर बात कर रही थी कि तब अचानक मुझे बताया कि उसको किसी लड़की ने प्रपोज किया है। वो क्या आंसर दे उस लड़की को। मैंने कहा कि तुम्हें जो सही लगे, वह करो। उसने लड़की को हां कह दिया और ये बात मुझे नहीं बताई।
——-
उसके घर के सब लोगों से मैं बात करती थी। एक दिन उसके मामाजी ने मुझे उसकी गर्लफ्रेंड के बारे में बताया तो मैंने उससे पूछा कि क्या ये सच है? उसने कहा कि ये तो टाइम पास है और तुम लाइफटाइम हो तो मैंने भी कह दिया कि अपने टाइम पास को ही लाइफटाइम बना लो। मैं ऐसे इंसान के साथ नहीं रह सकती, मैंने अपना फोन भी ऑफ कर दिया था उसके बाद।

कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। तीन दिन बाद वो वापस आ गया और मुझे मनाने लगा कि ऐसी भूल कभी नहीं होगी, प्लीज तुम मेरी लाइफ से मत जाओ। मैंने मान लिया। फिर से हमारा रिश्ता सही चल रहा था।
—-
मेरे घरवाले मेरी शादी के लिए लड़का देखने की बात कर रहे थे तो मैंने अपनी मां को उसके बारे में बताया और उसका पिक भी दिखाया। मेरी मां नहीं मान रही थी। मां ने घर पे सबको बता दिया। किसी को कभी उम्मीद नहीं थी कि मैं किसी से लव करुंगी।

उसके लिए घर पे बहुत मार भी पड़ी मुझे। मेरे भाई ने मुझे ऐसे मारा कि मुझे हॉस्पिटलाइज्ड होना पड़ा। फिर भी मैंने कहा कि मुझे उसी से शादी करनी है। लास्ट में मां मान गई और उन्होंने कहा कि लड़को को बुलाओ, हम लोग मिलेंगे उससे।
——
मैंने दीपक को पहले ही सबकुछ बताया था। उसने हां कहा था तब जाकर मैंने अपने घर पे बताया था। मैंने दीपक को कॉल करके बताया कि मां ने तुमको मिलने के लिए बुलाया है, प्लीज टाइम पे आ जाना इस दिन।

बहुत इंतजार किया उस दिन लेकिन वो नहीं आया। मेरे घरवालों ने कहा कि भूल जाओ उसे, वो कोई प्यार नहीं करता है। मैंने घरवालों से कहा कि मुझे सिर्फ लास्ट बार उससे मिलने दो, मुझे जाना है और पूछना है कि क्यों किया उसने मेरे साथ ऐसा। बहुत मिन्नत करने के बाद परमिशन मिली मुझे।
—-
मैं अपनी सिस्टर के साथ उसके घर गई। मुझे उसके घर का पूरा एड्रेस नहीं पता था। मैंने उसके जीजू को क़ॉल करके कहा कि हमलोग आ रहे हैं। आधे घंटे बाद उसके सभी घरवालों का नंबर ऑफ आ रहा था। मेरी सिस्टर ने कहा कि दीदी, घर चलो, ऐसे कैसे जाएंगे हमलोग। मैंने कहा कि नहीं आज जैसे भी हो, उसके घर को खोजना है।

मैंने अपने उस फ्रेंड को कॉल किया जो उसको जानता था। वो बाहर था और उसने मुझे उसके ब्रदर का नंबर दिया। मैंने उससे कॉन्टेक्ट किया और उसके घर पहुंच गई। उसके बाद क्या होना था, मैंने खुद रिलेशन खत्म कर दी।

मैंने उससे कहा कि ये मत सोचो कि मैं यहां तुमसे रिक्वेस्ट करने आई हूं, मैं सबकुछ खत्म करने आई हूं और अब सबकुछ खत्म करके जा रही हूं।

Advertisements