what is article 497

धारा 497- किसी मर्द से शादीशुदा औरत जब संबंध बनाती है तो सजा सिर्फ मर्द को ही क्यों?

आजकल धारा 497 काफी चर्चा में है। जब शादीशुदा औरत यानी किसी और की पत्नी से गैर मर्द के शारीरिक संबंध बनते हैं तो ऐसे मामले में मर्द के खिलाफ धारा 497 के तहत व्यभिचार का केस दर्ज किया जा सकता है। मर्द को पांच साल तक की कैद की सजा हो सकती है और उस पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है। धारा 497 के तहत उस शादीशुदा औरत पर कोई मुकदमा नहीं चलाया जा सकता जो स्वेच्छा से गैर मर्द के साथ संबंध बनाती है। केंद्र सरकार ने कहा है कि इस कानून को नहीं बदला जाना चाहिए क्योंकि शादी की संस्था को सुरक्षित रखने के लिए ऐसा किया गया है।

supreme court

धारा 497- मर्दों के खिलाफ कानून

इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई जिसमें कहा गया है कि धारा 497 में मर्दों के खिलाफ भेदभाव किया गया है। जब शादीशुदा औरत भी स्वेच्छा से शारीरिक संबंध बनाती है तो ऐसे में मर्द ही दोषी क्यों? औरतों को क्यों इस मामले में छूट दी जा रही है?

धारा 497- औरत मर्द की प्रॉपर्टी

याचिकाकर्ता का कहना है कि धारा 497 औरतों को मर्द की प्रॉपर्टी बनाता है। महिला का पति उस मर्द के खिलाफ केस दर्ज करा सकता है जिससे वो संबंध बनाती है। यह ठीक वैसा ही है जैसे कोई किसी की प्रॉपर्टी पर कब्जा कर ले तो प्रॉपर्टी मालिक कब्जा करने वाले के खिलाफ केस कर सकता है।

धारा 497- समानता और जीवन के अधिकार का उल्लंघन

याचिका में यह कहा गया है कि धारा 497 के तहत जो कहा गया है उससे संविधान की धारा 14 (समानता का नियम) और धारा 15 व 21 का उल्लंघन होता है जिसमें किसी को भी जीवन के अधिकार दिए गए हैं। इस याचिका में एक्सट्रा मैरिटल अफेयर संबंधों के लिए औरत और मर्द दोनों को समान रूप से जिम्मेदार बनाने की मांग की गई है।

धारा 497 पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा। केंद्र सरकार ने कहा है कि धारा 497 भारतीय समाज को देखकर बनाया गया है और इसमें महिलाओं को सुरक्षा दी गई है क्योंकि इससे शादी सुरक्षित रहेगी। फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने इसे संविधान पीठ के पास विचार के लिए भेजा है।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.