mirza sahiba love story in hindi: मिर्जा साहिबा की प्रेम कहानी

पंजाब में मिर्जा साहिबा की लव स्टोरी (love story of mirza sahiba) अमर प्रेम कहानी है। इस कहानी का अंत इतना चौंकाने वाला है अन्य प्रेम कहानियों से यह बिल्कुल ही अलग है।

एक फिल्म आ रही है ‘मिर्जया’। यह पंजाब की फेमस लव स्टोरी मिर्जा साहिबा पर बनी है। इस कहानी का अंत इतना चौंकाने वाला है कि यह अन्य प्रेम कहानियों से बिल्कुल ही अलग है। मिर्जा साहिबा बचपन में साथ पढ़े। प्यार हुआ। मिर्जा बहुत बड़ा तीरंदाज और घुड़सवार था। गजब का निशाना था उसका।

जब साहिबा के प्रेम के बारे में उसके भाइयों को पता चला तो उस पर बंदिश लगाने लगे। साहिबा की शादी किसी और के साथ तय कर दी। जिस रात साहिबा की शादी होने वाली थी उसी रात मिर्जा के साथ साहिबा भाग गई।

बहुत दूर निकल जाने के बाद दोनों थोड़ा आराम करने के लिए रुके। मिर्जा को नींद आ गई। इधर साहिबा को अपने भाइयों की चिंता सताने लगी। चिंता ये कि अगर उसके भाइयों ने उनको पकड़ लिया तो मिर्जा उन्हें मार डालेगा। उसे चिंता होने लगी कि उसके भाइयों की बीवियां विधवा हो जाएगी और बच्चे अनाथ हो जाएंगे। भाइयों को मरवाकर वह मिर्जा के साथ कैसे खुश रह पाएगी।

यही सोचते सोचते उसने खतरनाक फैसला लिया। उसने मिर्जा के सारे तीर तोड़कर फेंक दिए। तब तक साहिबा के भाई वहां आ पहुंचे। मिर्जा ने पाया कि उसके तीर गायब हैं और वो तलवार से लड़ते लड़ते बुरी तरह घायल हो गया। तब साहिबा मरते मिर्जा को धोखा करने की बात बताकर रोने लगी लेकिन मरते मरते मिर्जा ने उसे माफ कर दिया।

mirza sahiba
sahiba

उसके बाद साहिबा मरी या नहीं इस बारे में दो तरह की कहानी है। एक कहानी में साहिबा वहीं मिर्जा के तलवार से खुद को मार लेती है। लेकिन दूसरी कहानी के मुताबिक साहिबा से मिर्जा मरते मरते वादा लेता है कि वह जिंदा रहेगी। साहिबा जिंदा रहती है। उसकी शादी बच्चे सब होते हैं। लेकिन वह पति में भी मिर्जा को ही देखती है। इसलिए ये कहा जाता है – मन मिर्जा तन साहिबा।

इश्क में साहिबा का जिस्म तो उसका ही था लेकिन उसका मन मिर्जा था। साहिबा की आदत अपनी खुशी से ज्यादा दूसरों की खुशी देखने की थी। उसने भाइयों की खुशी के लिए अपने आशिक को मरवा दिया। यह बात मिर्जा समझता था इसलिए साहिबा का यह धोखा उसे धोखा नहीं लगा। अजीब कहानी है न !

मैं इस पूरी कहानी को उपन्यास के रूप में यहां पेश करूंगा। इस कहानी में साहिबा मरेगी नहीं। वह मिर्जा से किया वादा निभाने के लिए जिंदा रहेगी। यह कहानी साहिबा खुद सुनाएगी। कोशिश करूंगा कि इसे जल्दी से जल्दी लिखकर पाठकों के सामने रखूं।

पंजाब की एक और फेमस लव स्टोरी हीर रांझा मैं लिख ली हैं। पढ़ें – हीर रांझा की प्रेम कहानी

Advertisements