no space to sit lonely in home shayari

shayari latest shayari new

sad girl image
सब पूछने लगे आखिर क्या बात हो गई
तन्हाई में जो एक पल के लिए बैठी हूं मैं
उदास रहना गुनाह माना जाता है यहां
ऐसे घर में मुजरिम की तरह जीती हूं मैं

shayari green pre shayari green next

Advertisements

Read real life love stories and original shayari by Rajeev Singh

Advertisements