शायरी – तनहा सफर में दर्द की आग जो भड़की

new prev new shayari pic

चिरागों को जलाने से रात रंगीन होती है
दिल को जलाने से ये गमगीन होती है

मेरी आंखों की उदासी बढ़ती है जितनी
एक हुस्न की सूरत और भी हसीन होती है

टूटकर भी बार बार वो ज़हन पे छा गई
रातभर ख्वाबों में एक नाजनीन होती है

तनहा सफर में दर्द की आग जो भड़की
वो चुभने वाली शोलों की संगीन होती है

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – अब मुझे रोने का तरीका आया है

new prev new shayari pic

तेरे गम में अब मुस्कुराते हैं लब
अब मुझे जीने का सलीका आया है
दर्द उठने पै सूख जाती हैं आंखें
अब मुझे रोने का तरीका आया है

Tere Gham Me Ab Muskurate Hain Lab
Ab Mujhe Jeene Ka Tarika Aaya Hai
Dard Uthne Pe Sukhh Jati Hain Aankhen
Ab Mujhe Rone Ka Tarika Aaya Hai

©rajeev singh shayari

Read real life love stories and original shayari by Rajeev Singh

Advertisements