शायरी – ये कैसा प्यार है जो तोड़कर खुश होता है

new prev new shayari pic

तूने उसी नाजुक बेजुबां को तोड़ लिया
जिस गुलाब से कभी जरा भी प्यार किया

किसी से अपने दिल को जोड़ने के लिए
टूटा गुलाब देकर प्यार का इकरार किया

ये कैसा प्यार है जो तोड़कर खुश होता है
दुनिया में तूने क्यों ऐसा कारोबार किया

मुरझा गया जब तेरे किसी काम का न रहा
फेक देने का सितम तूने कितनी बार किया

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – तेरी हर अदा पे ये इल्ज़ाम है

new prev new shayari pic

तेरी हर अदा पे ये इल्ज़ाम है
लबो-ज़ुल्फ-आँखों पे इल्ज़ाम है
क्यूँ लायी थी तुम सूरत में अपने
मेरी बर्बादियों के जो सामान हैं

Teri Har Adaa Pe Ye Ilzam Hai
Labo-Julf-Aankhon Pe Ilzam Hai
Kyon Layi Thi Tum Surat Me Apne
Meri Barbadiyon Ke Jo Saman Hain

©rajeev singh shayari

Read real life love stories and original shayari by Rajeev Singh

Advertisements