मैं लवर के साथ शादी कर सकती हूं लेकिन भाई का सहारा कौन बनेगा – कविता की लव स्टोरी

मेरा नाम कविता है। मैं रायपुर में रहती हूं। मैं एक लड़के से प्यार करती हूं और वो मुझसे बहुत प्यार करता है। हमारे रिश्ते को सात साल हो गए हैं। वो बहुत अच्छा लड़का है लेकिन वो दूसरे कास्ट का है इसलिए हमारी फैमिली वाले इस रिश्ते के लिए राजी नहीं हैं और हम भागकर शादी नहीं कर सकते क्योंकि इससे हमारी फैमिली की बदनामी होगी।

हम बार बार मिलते हैं फिर घर में पता चलता है तो हम कुछ दिन के लिए अलग हो जाते हैं। ये सिलसिला सात सालों से चलता आ रहा है लेकिन इतना होने के बाद भी हमारे मम्मी पापा हमसे बहुत प्यार करते हैं। वे बिल्कुल भी नाराज नहीं होते। थोड़ी देर के लिए होते हैं फिर नॉर्मल हो जाते हैं।

kavita love story

मेरा एक भाई है जो हैंडिकैप है। वो चल नहीं सकता। मम्मी पापा के बाद मैं ही उसका सहारा हूं। हमारी फैमिली के लोग मेरे लिए रिश्ता खोज रहे हैं। अब मैं समझ नहीं पा रही हूं कि क्या करूं क्योंकि मैं राजपूत हूं और वो मेरा लवर साहू कास्ट का है। मेरे मम्मी पापा पुराने ख्यालों वाले हैं। दूसरे कास्ट के लड़के से शादी करना पाप समझते हैं।

मैं अगर उस लड़के से शादी करती हूं जिससे मैं प्यार करती हूं तो मेरी फैमिली वाले हमसे रिश्ता तोड़ देंगे और फिर मेरा भाई का सहारा कौन बनेगा? मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा है कि मैं क्या करूं..मम्मी पापा के पसंद से शादी करूं या जिससे मैं प्यार करती हूं, उससे शादी करूं…कोई सही रास्ता दिखाइए…

Advertisements

पैरेंट्स ने मना किया लेकिन अब हम कोर्ट मैरिज करेंगे – शिखा की लव स्टोरी

मेरा नाम शिखा है। मैं हरियाणा से हूं। मैं 27 साल की हूं। लाइफ में काफी उतार चढ़ाव आते रहे। मेरा एक लवर है, जिसका नाम विशाल है। फ्रेंडशिप हुई और धीरे धीरे एक दूसरे को जाना। हम कब एक दूसरे की लाइफ बन गए, पता नहीं लगा। हम दोनों ने डिसाइड किया कि हम शादी करेंगे लेकिन फैमिली के परमिशन से।

उसने अपने घर मेरी पिक दिखाई और अपने रिलेटिव के जरिए मेरे पापा से रिश्ते की बात की लेकिन पापा ने मना कर दिया और उन्हें पता नहीं था कि मेरी मर्जी से रिश्ता आया है। मेरे घर में भी मेरी शादी की बातें हो रही थी तो मैंने उनको विशाल के बारे में बताया। मैंने घरवालों से कहा कि एक लड़का है सेम कास्ट का। यह सुनकर मेरी फैमिली ने कहा कि मैंने डायरेक्ट विशाल से बात क्यों की, हमें बताना था, हम बात करते, अगर हमें पसंद आता तो हम बात आगे करते।

shikha love story

पापा ने विशाल की फोटो तक नहीं देखी और मना कर दिया और विशाल के रिश्तेदार को धमकी दी कि लड़का मेरी बेटी से बात न करे लेकिन मैं आज भी उससे बात करती हूं। हम दोनों एक दूसरे को समझते हैं। हमारे पैरेंट्स ने इसलिए भी मना कर दिया क्योंकि हम रिच हैं और विशाल हमारे लेवल का नहीं है। मैं मांगलिक हूं और वो नहीं है।

घरवाले सोचते हैं कि मेरी शादी किसी रिच फैमिली में करें। मैंने उन्हें समझाया कि लड़का हार्डवर्किंग है, आज नहीं तो कल सेट हो जाएगा क्योंकि उसका बिजनेस है। मम्मी बोली कि अगर तुम वहां शादी करोगी तो हमारा तुम्हारा कोई रिश्ता नहीं रहेगा।

हम दोनों ने ये सोचा है कि कुछ महीने बाद सेट्ल होकर कोर्ट मैरिज कर लेंगे। ये कदम हम दोनों लेना तो नहीं चाहते थे लेकिन मेरी फैमिली हमें मजबूर कर रही है। मैरिज की एज होते हुए भी नहीं समझ रहे कि मैं अपने डिसीजन खुद ले सकती हूं। मैं उन्हें कभी खोना नहीं चाहती लेकिन मेरे पास और कोई रास्ता नहीं बचा है। मेरे मां-बाप इस विषय पर मेरी कोई बात सुनना तक नहीं चाहते।

मां-पापा से कोई रिश्ता नहीं रहेगा यह सोचकर मैं कभी-कभी कमजोर हो जाती हूं। और मेरे पास रास्ता भी क्या है…आप लोग बताइए। कमेंट्स करते वक्त प्लीज मेरी फीलिंग्स का मजाक मत बनाना। सीरियस एडवाइस देना।

Read real life love stories and original shayari by Rajeev Singh

Advertisements