शायरी – जब हुस्न के शोलों में वो संवर के आते हैं

new prev new shayari pic

 

जब हुस्न के शोलों में वो संवर के आते हैं
मेरे सीने में इश्क के चिराग जल जाते हैं

उस नूर का दुनिया पर ये असर होता है
उसे देखकर मुरझाए चेहरे खिल जाते हैं

जुबां खोला नहीं, नजर से सब बोल गए
बेजुबां में कभी कभी खुदा मिल जाते है

वह फूल जो जिंदगी में बहार ले आती है
लोग उसको अक्सर यहां मसल जाते हैं

©rajeevsingh              शायरी

prev shayari green next shayari green

Advertisements

Top shayari site on love relationship, love shayari, hindi shayari, sad shayari, image shayari and love story for true lovers.