शायरी – कतरा-कतरा मुझे मरता देखने चांद निकला हूं

उजली चांदनी में आंसू तारों सा चमकते हैं

तारों को बरसता देखने को चांद निकला है

उसकी ये हसरत कई दिनों से देख रहा हूं

कतरा-कतरा मुझे मरता देखने चांद निकला हूं

Advertisements

Top shayari site on love relationship, love shayari, hindi shayari, sad shayari, image shayari and love story for true lovers.