मैं किसी से प्यार करती हूं लेकिन पापा मेरे लिए लड़का खोज रहे हैं, माही की स्टोरी

मैं बिहार से माही हूं। तीन साल पहले मेरी फ्रेंडशिप फेसबुक पर एक लड़के से हुई। वो यूपी का है और जॉब करता है। हमदोनों रोज बातें करने लगे। वो मुझसे हर बात शेयर करने लगा। धीरे-धीरे हमारी फ्रेंडशिप प्यार में बदल गई। मैं उसे तीन साल से जानती हूं लेकिन हमारी कभी मुलाकात नहीं हुई है।

वो मुझसे मिलना चाहता है। मेरी नजर में बहुत अच्छा लड़का है। मैं उससे बहुत प्यार करती हूं। वो भी मुझे बहुत प्यार करता है। मेरे बिना वो एक पल नहीं रह सकता। वो मुझसे शादी करना चाहता है। मैं भी उसे बहुत चाहती हूं लेकिन मैं बहुत डरती हूं कि कहीं हमलोग अलग न हो जाएं।

love story pic1

मैं एक मिड्ल क्लास फैमिली से हूं। मेरे पापा बहुत स्ट्रिक्ट हैं। मैं जानती हूं कि मेरे पापा हमारी शादी के लिए कभी रेडी नहीं होंगे क्योंकि वो बहुत दूर रहता है और फेसबुक का प्यार है। मैं पापा की एक ही बेटी हूं तो उन्होंने कभी खुद से मुझको दूर नहीं किया। अब वो कहीं दूर मेरी शादी भी नहीं करेंगे। मैंने इस बारे में मां से बात की तो उन्होंने भी कहा कि पापा नहीं मानेंगे।

मैं उसके बिना नहीं रह सकती। एक दिन भी बात नहीं होती तो मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता। मैं उससे बात करने के लिए पागल होने लगती हूं। मैं खुद को उससे एक पल भी अलग नहीं कर सकती। मेरे प्यार के बारे में मेरी मम्मी को पता है लेकिन वो भी बार-बार कहती है कि यह शादी नहीं हो सकती।

पापा अब मेरे लिए रिश्ता खोज रहे हैं। मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा कि मैं क्या करूं? मैं उसके बिना जीने की कल्पना भी नहीं कर सकती हूंं। वो कहता है कि चलो, कोर्ट मैरिज कर लेते हैं लेकिन मैं फैमिली के खिलाफ शादी नहीं कर सकती। मेरी फैमिली मुझसे बहुत प्यार करती है।

मैं क्या करूं, कुछ समझ में नहीं आ रहा। मैं उसके बिना नहीं जी सकती। मैंने इस पेज की कुछ स्टोरी पढ़ी तो वहां सबको हेल्प मिली हैं। मुझे भी आप सबकी हेल्प की जरूरत है, मैं बहुत परेशान हूं, प्लीज मेरी हेल्प कीजिए…

पेज एडमिन राजीव की बात

माही, और भी गम हैं जमाने में मोहब्बत के सिवा…शायद लड़कियों को भी ये समझने की जरूरत है। खैर, आपकी सिचुएशन में दो ही विकल्प बचते हैं- या तो फैमिली को अपनाइए या फिर प्यार को अपनाइए। प्यार को अपनाएंगी तो फैमिली को छोड़ना होगा या फैमिली को चुनेंगी तो प्यार को छोड़ना होगा।

तीसरा विकल्प होता है घरवालों को मनाने का। अगर इस कोशिश में असफल हों तो फिर वही पहले वाले दो विकल्प बचते हैं। दिमाग के जाले साफ कीजिए। विकल्पों पर विचार कीजिए। उलझन नहीं रहेगी। किसी भी परिस्थिति में इंसान ऑप्शन देखता है।

अगर दो ऑप्शन हैं और दोनों ही ऑप्शन में से किसी एक को चुनना हो तो स्पष्ट फैसला जीवन को उलझनों से बचाता है वरना वक्त के सिवा दुनिया की कोई ताकत ऐसी उलझनों को नहीं सुलझा सकती।

पेज रीडर्स की बात

Advertisements

मैट्रिमोनियल साइट पर धोखा, भारतीय लड़कियों को फंसा रहे पाकिस्तानी एजेंट!

मुंबई के चार बंगला इलाके की 28 साल की प्रिया ने शादी के लिए एक मैट्रिमोनियल साइट पर अपना अकाउंट बनाया। वहां एक शख्स से उसकी बातचीत शुरू हुई जिसने अपना परिचय दिया कि वो ब्रिटेन में बसा भारतीय यानी एनआरआई है। उसने कहा कि वो प्रिया से शादी करना चाहता है।

वाट्सएप पर प्रिया से उसकी बातचीत शुरू हुई तो उसने अपनी कई तस्वीरें भेजीं। प्रिया ने ध्यान से देखा तो वो किसी स्टूडियो की फोटो थी। तस्वीरों पर उस स्टू़डियो का मोबाइल नंबर भी लिखा था। जब प्रिया ने उस नंबर पर कॉल मिलाया तो पैरों तले से जमीन खिसक गई। वह पाकिस्तान का नंबर था और स्टूडियो भी पाकिस्तान में ही था। खुद को ब्रिटिश एनआरआई कहनेवाला वो शख्स भी पाकिस्तानी निकला।

matrimonial fraud

प्रिया ने जैसे ही उससे कहा कि वो शादी नहीं करेगी इसके बाद वो उसे जान से मारने की धमकी देने लगा। इसके बाद प्रिया ने वर्सोवा पुलिस स्टेशन में उसके खिलाफ केस दर्ज कराया। खुफिया एजेंसियों का कहना है कि पाकिस्तानी खुफिया एंजेंसी आईएसआई के लिए कई लड़के काम करते हैं जो फेसबुक या मैट्रिमोनियल साइट के जरिए भारतीय लड़कियों को प्यार के जाल में फंसाते हैं। उन लड़कियों को भारत के खिलाफ काम में लगा दिया जाता है।

इसलिए इंटरनेट पर सावधानी बरतिए। तुरंत किसी पर भी यकीन मत कीजिए। मैट्रिमोनियल साइट के जरिए या फेसबुक पर किसी से रिश्ता जोड़ने में भी दिमाग को खुला रखिए। भावनाओं में बहने का रिजल्ट बहुत बुरा हो सकता है और ऐसा कइयों के साथ हो चुका है।

पुलिस ने कहा, तेरा आशिक चोरी करने आया होगा, नेहा की स्टोरी

मैं नेहा दिल्ली से हूं। मुझे एक सवाल पूछना है, इंडिया के सभी पुलिस से कि अगर कहीं पर कोई वारदात होती है तो शुरू में तो पुलिस बहुत से इ़धर-उधर के सवाल करती है जैसे चुटकी में अपराधी को पकड़ लेगी लेकिन एफआईआर लिखने के बाद इतना धीरे काम करती है जैसे कोई फर्क ही नही पड़ता।

मेरे घर में चोरी हुई। रात 2:30 बजे चोर ने मेरे घर से 5 मोबाइल और 1 लैपटॉप चुराया। उसके बाद चोर ने मझे अकेला देखकर गलत फायदा उठाने की कोशिश की तो मेरी चोर से हाथापाई हुई और जब मैंने जोर से आवाज लगाई तो चोर भाग गया। बहुत मुश्किल से मैंने खुद को उससे बचाया। उसके हाथ में चाकू और ब्लेड भी था।

neha story

फिर मैंने पापा को जगाया, गली में भी सब जाग गये। इतना सब होने के बाद पापा ने पुलिस को रात 3 बजे पुलिस को फोन लगाया तो पुलिस ने कहा कि सुबह 7 बजे पुलिस स्टेशन आ जाना और फोन काट दिया। फिर पापा ने गुस्से से दोबारा फोन लगाया तब जाकर पुलिस घर आई। घर आने के बाद जब पुलिस को मैंने सारी बात बताई तो पुलिस उल्टा मुझपर इल्जाम लगाती है कि तेरा ही कोई आशिक होगा।

बार-बार मुझ पर इल्जाम लगाकर पुलिस बोली कि तेरा ही कोई आशिक चोरी करने आया होगा। अभी भी वक्त है बता दे और जब मैंने कहा की ऐसा कुछ नहीं है, आप खुद पता करो चोर का, शायद आसपास का ही है तो कहती है बेटा, कार्रवाई करना हमारा काम है। फिर उन्होंने एफआईआर कराने को कहा। ऑनलाइन एफआईआर कराना था लेकिन उनका सर्वर काम नहीं कर रहा था इसलिये केस पूरे एक हफ्ते बाद हुआ।

उसके बाद भी पुलिस ने कुछ नहीं किया। हर कोई मुझसे यही कह रहा था कि पुलिस खुद चोरों से मिली होती है, वो कुछ नहीं करेगी, अगर हम कोई वीआईपी होते तो शायद कोई एक्शन लेती। पूरा एक महीने तक पुलिस के चक्कर काटने के बाद जब पापा ने अपने ऑफिस के बॉस के रेफरेंस से मदद ली तब जाकर पुलिस ने सभी मोबाइल और लैपटॉप का बिल मांगा। उसके बाद भी अभी तक कुछ पता नही चला।

मेरा बस यही सवाल है कि क्या क्राइम पेट्रोल और सावधान इंडिया में जो कुछ पुलिस के बारे में दिेखाया जाता है कि किस तरह से पुलिस ने अपराधी को पकड़ा, वो सब झूठ होता है क्या?? और अगर सच होता है तो इसका मतलब पुलिस वही पर अपना काम ठीक से करती है जहां मीडिया की नजर होती है ताकि अपराधी पकड़ कर मीडिया को दिखा सके, या पुलिस सिर्फ अमीर और VIP लोगों के लिये होती है?

अकसर यही कहा जाता है कि छोटी-मोटी चोरी पर पुलिस कुछ नहीं करती लेकिन जिसके घर में चोरी होती है ये तो वही जानता है कि उस पर क्या बीतती है और इसी तरह की चोरी के बाद चोर बड़ा डाका डालते हैं। अब तो पुलिस पर बिलकुल भी भरोसा नहीं रहा। एक आम इंसान का पुलिस पर भरोसा करने का मतलब रेगिस्तान में पानी ढूंढने के बराबर है। जब ऐसे पुलिस और न्याय करने वाले लोग कुछ नहीं करते हैं तब जाकर आम इंसान मजबूर हो जाता है। खुद से सबूत मिटाने के बाद कहते है कि चोर का कोई सुराग नही मिला! लानत है ऐसे पुलिस पर जो पावर होने के बावजूद कुछ नहीं करती…

पेज रीडर्स की बात

अपने मन से पूछिए, कई समस्याओं का समाधान मिल जाएगा

कल रात इस पेज के एक रेगुलर रीडर का मैसेज आया। अक्सर उनके कमेंट आते हैं। उन्होंने जब अपनी प्रॉब्लम बताई तो मैं थोड़ा चौंक गया। उन्होंने बताया कि चार महीने पहले उनकी प्रेमिका की शादी किसी और से हो गई और वो उनसे अब कॉल पर बात करती है। चूंकि वे खुद काफी संवेदनशील और समझदार इंसान हैं इसलिए उनको लगा कि इसमें कुछ गलत है लेकिन वो खुद को बात करने से रोक नहीं पा रहे इसलिए उलझे हुए थे।

मैंने उनसे कहा कि ऐसी परिस्थिति में आप जो दूसरों को सलाह देते वही समाधान है। हलांकि उन्होंने जाते-जाते लिखा कि उनको समाधान मिल गया और मेरा धन्यवाद भी किया।

love story msg

जब आपके मन में इस तरह की कोई उलझन या समस्या हो तो उसके समाधान के लिए विचार तलाशने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप यह सोचें कि आपकी सिचुएशन में अगर कोई और होता तो उसे आप क्या सलाह देते। आप जो दूसरों को सलाह देते, वही समाधान है और उसी पर एक्शन लेना चाहिए।

जैसे कोई आपसे कहे कि शादी के बाद भी किसी और की बीवी बन चुकी प्रेमिका मुझसे बात करती है तो आप तुरंत कहेंगे कि नहीं ये ठीक नहीं है, उसका घर उजड़ सकता है वगैरह वगैरह। बस जो दूसरों के मामले में लागू होता है उसे भी आप अपनी जिंदगी में भी लागू कीजिए। अमूमन लोग दूसरों की जिंदगी की उलझनों पर तो सलाह दे लेते हैं लेकिन अपनी जिंदगी उलझती है तो कुछ सोच नहीं पाते।

सोचने के लिए खुद के अंदर झांकना जरूरी है। जैसे आप दूसरों को देखते हैं, वैसे ही खुद को आईने में देखिए। देखिए कि आईने में ये कौन है और फिर उसे बताइए कि तुमको क्या करना चाहिए। कभी-कभी खुद को ही दूर खड़े रहकर देखने से जीवन की बहुत सारी बातें समझ में आती हैं कि आखिर हम कर क्या रहे हैं। आशा है आप यह नहीं कहेंगे कि फिलॉसफी झाड़ रहा हूं और यह बात आपके सर पर से भी नहीं गुजरी होगी। एक शायर ने लिखा-

दूसरों से मिलना तो बहुत आसान है साकी
अपनी हस्ती से मुलाकात बड़ी मुश्किल है

जिस दिन आप खुद से बात करने लगेंगे। खुद से संवाद स्थापित कर पाएंगे, बहुत सारी समस्याओं का समाधान मिल जाएगा। अकेलापन भी दूर होगा जब आपके अंदर ही आपको कोई मिल जाएगा, उसे तलाशिए। बाहर से ज्यादा हमारे अंदर बहुत कुछ है।

ब्रेकअप के बाद वो मुझसे प्यार करने लगी, फिर बीएफ के पास वापस चली गई

मैं यूपी से आभास कुमार हूं। मैं टीचर की नौकरी करता हूं। सबकी तरह मेरी भी लव लाइफ में प्रॉब्लम है इसलिए शेयर करना चाहता हूं। मैं अपनी लाइफ जी रहा था और स्कूल की नौकरी कर रहा था। 2016 के जनवरी में मेरे पास वाट्सएप पर मैसेज आया, वो मैसेज स्कूल में ही पढ़ाने वाली एक लेडी टीचर का था।

वैसे तो वो नॉर्मल मैसेज ही था लेकिन इसकी वजह से हमारी बातें शुरू हुईं। एक दिन उसने मुझे बताया कि उसका बीएफ उस पर बहुत ज्यादा शक करता है। मैंने उसको बोला कि उसको समझाओ और परेशान मत हो। ऐसे ही चलता रहा। वो जो भी काम बोलती थी, वो मैं कर देता था।

love story6

फिर एक दिन वो रोने लगी। बोली कि मेरा ब्रेकअप हो गया। मैंने फिर उसको समझाया। फिर हमारी बातें देर रात तक होती रहीं। कभी कभी सुबह भी हो जाती थी बात करते-करते। और एक दिन उसने कहा कि उसको मुझसे प्यार हो गया है। मुझे कुछ समझ नहीं आया कि क्या बोलूं?

वैसे मैं भी उसको लाइक करने लगा था लेकिन उसने मुझे सामने से प्रपोज किया था। उसने कहा कि सोच लो, फिर बता देना। मैंने उसका प्रपोजल एक्सेप्ट कर लिया। इसके बाद हम एक दूसरे कि बना खाना भी नहीं खाते थे। वो मेरे लिए लंच लाती थी। साथ जीने मरने की कसमें खाती थी। ये हाल था कि वो मेरे बिना और मैं उसके बिना रह नहीं पाता था।

लेकिन एक दिन उसका फोन आया और वो कहने लगी कि उसका एक्स बीएफ बहुत रो रहा है और वो उसको ऐसे नहीं देख सकती तो मुझको भूल जाओ, जो कुछ भी हुआ, वो सब भूल जाओ। अब आप लोग ही बताइए कि इसमें मेरी क्या गलती थी?

पेज एडमिन राजीव की बात

मैं रोज लोगों की लव स्टोरी से गुजरता हूं और अपनी जिंदगी के भी अनुभव हैं। दोनों को मिलाकर मैं आपके प्रश्न का जवाब दे रहा हूं –

– ब्रेकअप के बाद नए किसी को पकड़ने के पीछे लवर की एक रणनीति होती है चाहे वो लड़का हो या लड़की। मैं दोनों की फितरत की बात कर रहा हूं। प्लान ये होता है कि नए के सााथ प्रेम-प्रसंग बढ़ेगा तो पुराना वाला जलभुनकर खुद ही वापस उनकी लाइफ में आ जाएगा। और अक्सर यही होता है…जैसे ही यह होता है तो नए साथी से तुरंत ब्रेकअप कर पुराने साथी यानी एक्स का दामन थामने में ऐसे लवर देर नहीं लगाते।

– दूसरी रणनीति टाइमपास और दर्द में किसी की सहानुभूति पाने की होती है। कोई भी अपना दुखड़ा किसी के सामने रोएगा तो निश्चित तौर पर सामने वाले के दिल पर इसका असर होता। एक्स के साथ जो टाइमपास होता था वो टाइम ब्रेकअप के बाद भी पास होता रहे इसलिए नए साथी के सहारे की तुरंत तलाश की जाती है।

– इसमें प्रॉब्लम यह होती है कि लोग तो अपने प्यार के पास लौट जाते हैं लेकिन नए साथी को प्यार के पहले ही कदम पर धोखा दे जाते हैं। नया साथी पहले ही प्यार में ऐसा सबक पाता है कि इससे उसकी जिंदगी पर काफी बुरा असर पड़ता है।

– प्यार का यह खेल हमारे समाज में बहुत होता है और इस खेल का शिकार होने में हमारी भी नासमझी होती है लेकिन नासमझ दिल ऐसी ही ठोकरों से समझदार बनता है वरना हमारी सोसायटी में कोई ऐसी पाठशाला नहीं जहां दिल धोखे न खाने की ट्रेनिंग ले। रियल लाइफ के प्यार में ही दिल की ट्रेनिंग होती है।

पेज रीडर्स की सलाह

उसकी गर्लफ्रेंड थी लेकिन वो घर के दबाव में मुझसे शादी करने चला था, प्रिया की स्टोरी

मैं बिहार के एक कस्बे से प्रिया हूं। मेरी शादी के लिए पापा-मम्मी लड़का तलाश रहे हैं। मैं जिस समाज से हूं वहां इंगेजमेंट से पहले लड़की और लड़के बातचीत नहीं करने देते हैं। लड़के की नौकरी है तो उसे अच्छा और योग्य वर मान लिया जाता है और उसके बाद लड़की की शारीरिक खूबसूरती पर बहुत कुछ डिपेंड करता है कि उसे बहू के रूप में पसंद किया जाएगा या नहीं। इसके अलावे लड़की के मां-बाप को कमाऊ लड़के के मां-बाप को दहेज में बहुत सारा पैसा और सामान भी देना पड़ता है।

love story3

मैं चाहती हूं कि इंगेजमेंट से पहले मैं लड़के से बात करूं लेकिन मेरी बात कोई सुनता ही नहीं। मां-पापा कहते हैं कि तुम बहुत सुंदर नहीं हो इसलिए तुमको कोई पसंद कर ले, यही बहुत है। हमारे समाज में लड़कियों को उसकी खूबसूरती का पैमाना बनाकर घर में ही दबाया जाता है। ऐसा मेरे साथ ही नहीं हुआ, मैं अपने आसपास की कई लड़कियों के साथ ऐसा होते देखती हूं। मेरे पापा ने मेरे लिए हाल में एक इंजीनियर लड़का खोजा।

लड़का बेंगलौर की एक कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर था। उसके मां-बाप ने उसकी सैलरी भी अच्छी-खासी बताई जिससे मेरे पापा काफी प्रभावित हो गए और मेरी शादी वहीं फिक्स करने लगे। मैं जानती थी कि पैसों की लेनदेन की बात फाइनल होते ही मेरा इंगेजमेंट कर दिया जाएगा। मेरे पापा ने सिर्फ ये पता लगाया कि वो लड़का सच में नौकरी करता है या नहीं और उसका पैकेज कितना है। लेकिन मैं इन सबसे ज्यादा उस लड़के के बारे में जानना चाहती थी।

मैंने फेसबुक पर बिना मां-पापा को बताए उस लड़के से कॉन्टेक्ट किया तो वो बात करने लगा। पहले तो उसने कहा कि हां ठीक है, शादी करेंगे। लेकिन दो-तीन दिन बात वो कहने लगा कि वो ये शादी नहीं कर सकता और इसके लिए मुझे कहने लगा कि मैं मना कर दूं। उसने कहा कि मां-पापा उस पर शादी के लिए दबाव डाल रहे हैं लेकिन वो ये शादी नहीं करना चाहता। मैंने उससे कहा कि तो आप मना कर दो, मैं क्यों मना करूं? तो कहने लगा कि नहीं, आप मना कर दो, मैं अपने मां-पापा को ना नहीं कह सकता।

अब यहां देखिए कि मां-पापा के इस आज्ञाकारी बेटे से अगर में शादी करती तो मेरा क्या हाल होता? मैंने उसके बारे में पता लगाने के लिए उसकी कंपनी में काम करने वाले उसके एक दोस्त से कॉन्टेक्ट किया। उसको यह पता नहीं था कि मेरी शादी उसके दोस्त से तय की जा रही है। मैंने बातों-बातों में उस लड़के के बारे में पूछा तो मेरे पैरों तले से जमीन खिसक गई। वो लड़का बेंगलौर में एक लड़की के साथ लिव इन में रह रहा था।

मैं पापा के पास गई और रोने लगी। मैं कुछ कह नहीं पा रही थी। जब उन्होंने पूछा तो मैंने उनको सारी बातें बता दीं। पहले मेरे पापा मानने को तैयार नहीं हुए कि ऐसा कुछ है लेकिन जब मैंने उनको चैट दिखाया तब जाकर यकीन हुआ। इस बात का पता लगाने के लिए पापा ने बेंगलौर में रह रहे एक दोस्त को उस लड़के के कमरे पर भेजा तो बात सही निकली। मैं बस यही कहना चाहती हूं कि शादी से पहले लड़के-लड़की को एक दूसरे से बात करने के लिए, एक दूसरे को जानने का मौका मिलना चाहिए जो फिलहाल हमारे समाज में कई जगहों पर नहीं है।

इसके साथ ही अगर किसी लड़के-लड़की का अफेयर कहीं और है तो वो मां-पापा को इस बारे में न बताकर किसी और की जिंदगी के साथ न खेलें। हमारे समाज में मां-बाप के दबाव की वजह से कई लड़के-लड़कियां किसी और से शादी करते हैं और बाद या तो क्राइम होता है या फिर आपस में झगड़े होते हैं। एक्सट्रा मैरिटल अफेयर से दोनों में से किसी एक की लाइफ खराब हो जाती है। इसलिए शादी से पहले इन सबके बारे में जरूर पता लगा लें वरना मां-बाप के दबाव में आकर जीवन में बहुत कुछ गलत हो जाएगा।

अगर मां-बाप के उस आज्ञाकारी बेटे से मैं शादी करती तो मेरी लाइफ खराब हो जाती। अगर मैं उससे इंगेजमेंट से पहले बात नहीं करती तो वो मुझे कुछ बताता ही नहीं। और फिर लिव इन की बात तो उसने छिपा ही ली थी। इसलिए मैंने अपने मां-पापा को बिना बताए ये सब पता लगाया और जब उनको पता चला तो वो भी शॉक्ड रह गए। मां-पापा को भी चाहिए कि वो हमें जिंदगी के फैसले लेने के लिए स्पेस दें…हमें भी अपनी जिंदगी जीने का हक है…हम भी अपनी जिंदगी के बारे में सही सोच सकते हैं।

पेज रीडर्स की राय

original hindi shayari heart touching