Tag Archives: अंधेरा शायरी

शायरी- दर्द दिल में और उदासी में

love shayari hindi shayari


गम के तूफानों से घिरा रहता है
तू हकीकत से डरा रहता है

दिल को जाहिर नहीं होने देता
आंख में आंसू भरे रहता है

न हंसता है और न रोता है
कहीं तन्हा सा बैठा रहता है

दर्द दिल में और उदासी में
किसी अंधेरे में पड़ा रहता है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी- रोशनी हुस्न की पायी जबसे

prevnext

किसी दामन का क्या भरोसा है
हमको दुनिया का तजरबा है

रोशनी हुस्न की पायी जबसे
दिल की तस्वीर में अंधेरा है

उतर आया हूं गहरे सागर में
अब तो आंसू का ही सहारा है

क्यूं परायों से हम खुशी मांगें
जब मेरा गम ही मुस्कुराता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

 

शायरी – तेरे चेहरे की उदासी ने हमें बर्बाद किया

love shayari hindi shayari

इसका अफसोस है कि हम तुझे पा न सके
दिलरुबा तेरी पनाहों में सर छुपा न सके

ये अंधेरा मेरी आंखों में सिमट आया है
तेरे इस दर्द में हम दीपक जला न सके

तेरे चेहरे की उदासी ने हमें बर्बाद किया
तेरे आंसू से हम खुद को बचा न सके

अब तो तन्हा हुआ हूं उम्रभर के लिए
पर तेरी आहट इस दिल से मिटा न सके

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – ऐ हुस्न एक शम्मा जला दे जरा

love shayari hindi shayari

है चारों तरफ मेरे दिल में अंधेरा
हुस्न एक शम्मा जला दे जरा

चिट्ठी लिखूंगा उन्हें अब लहू से
ओ आंखें अब खूं तो बहा दे जरा

अब दिन-रात तेरे खयालों में हैं
इसे अब हकीकत बना दे जरा

गैरों के ताने जब दिल में चुभे
दिले-नादां तू मुस्कुरा दे जरा

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – अभी महफूज हूँ डूबी हुई तेरी यादों में

love shayari hindi shayari

अपनी दुनिया से न निकालो, मैं मर जाऊंगी
तुम मुझे छोड़ न जाओ, मैं किधर जाऊंगी

अभी महफूज हूं डूबी हुई तेरी यादों में
यूं ही रहना मेरे साथ, मैं जिधर जाऊंगी

क्यूं अंधेरे में बैठे हो तन्हा दिल में
जरा शम्मा तो जलाओ, मैं नजर आऊंगी

सात फेरे तो नहीं, सदियों के फेरे हैं लिए
जाने कब संग तेरे प्रेम-नगर जाऊंगी

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – कभी तो मिलोगी तुम उसी दरिया पे बैठे हुए

love shayari hindi shayari

हम दरिया के पास थे शाम में बैठे हुए
भीड़ से दूर तन्हाई में चुपचाप से बैठे हुए

खामोशी का सिलसिला यूं ही चलता रहा
जाने कितने दर्द थे दिल में भी बैठे हुए

जब हुआ अंधेरा तो चांद और निखर गया
तुमको याद करते रहे हम भी वहीं बैठे हुए

शाम भी गुजर गई और ये सोचते घर आ गए
कभी तो मिलोगी तुम उसी दरिया पे बैठे हुए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जब कभी मुझको याद आती हो

new prev new shayari pic

जब कभी मुझको याद आती हो
तुम मेरे दिल में आग लाती हो

मेरी तन्हाई के दर्दभरे अंधेरों में
खामोशी से मुझको रुलाती हो

दिल अश्कों को पीता रहे हमेशा
इसलिए प्यासे को भूल जाती हो

तुम अपनी उलझनों में फंसकर
कभी मिलने को कहां बुलाती हो

©राजीव सिंह शायरी