Tag Archives: अजनबी शायरी

शायरी – तेरी बेवफाई का गिला कैसा

new prev new shayari pic

हम उस मुकाम पर नहीं होते
अजनबी रास्ते जहां नहीं होते

तेरी बेवफाई का गिला कैसा
धोखे दुनिया में कहां नहीं होते

ऐ हुस्न गर तू उदास न होती
तुम्हारे दीवाने वहां नहीं होते

हर टुकड़ा दर्द का कहता है
टूटे आईनों के जुबां नहीं होते

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – मेरी आंखों के आंसू पे इतने सवाल करती हो तुम

new prev new shayari pic

खो गया हूं किधर मुझको भी अब, ये मालूम नहीं
रिश्तों के भंवर में डूब गया मैं कब, ये मालूम नहीं

मैं ऐसी जगह पहुंचा जहां सुकूं नहीं मिलता कभी
मेरे हालात पर हंसते हैं क्यों सब, ये मालूम नहीं

सब कुछ यहां मिलता है मगर ये गम रह जाता है
किस किसको प्यार मिलता है रब, ये मालूम नहीं

मेरी आंखों के आंसू पे इतने सवाल करती हो तुम
कैसे बताऊं क्या है रोने का सबब, ये मालूम नहीं

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – अजनबी तू क्यों दिल के करीब लगता है

love shyari next

जबसे देखा है तुमको, तू ही हबीब लगता है
अजनबी तू क्यों दिल के करीब लगता है

तेरे उदास चेहरे पे ये लबों की मुस्कुराहट
देखती हूं तो ये अहसास अजीब लगता है

मेरे पास आकर तुम दामन जो थाम लो
अब जिंदगी में यही अच्छा नसीब लगता है

तूने मेरी दुआ न सुनी तो मर जाऊंगी
तेरे बिन जीवन अब तो सलीब लगता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरी तन्हाई को गम से आबाद कर गया

prevnext

मेरी तन्हाई को गम से आबाद कर गया
तेरा इश्क जो मुझको बरबाद कर गया

घेरती हैं मुझको जो तेरी हसीं जुल्फें
अंधेरों में दिल तेरा अहसास कर गया

ऐ अजनबी किस ओर ले चली हो मुझे
ये आवारगी तो मुझको खराब कर गया

तेरे चेहरे को ख्वाबों में निहारता हूं मैं
मुझे चैन से महरूम ये शबाब कर गया

©RajeevSingh

शायरी – तेरे जीने की दुआ मांगती रहती हूं मैं

love shayari hindi shayari

मेरी आंखों में सिर्फ तू ही तू बसता है
ये मुझे पता है और आईने को पता है

तेरे जीने की दुआ मांगती रहती हूं मैं
और तूने मुझको दी मौत की सजा है

कोई न जान सका है ये राज-ए-इश्क
अजनबी पर दिल क्यों होता फिदा है

जब भी आहट सुनाई दे जाती है कोई
मुझे लगता है कि ये तुम्हारी सदा है

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – क्या मांगू मैं खुदा से जब मेरे मन को तू मिल गया

love shayari hindi shayari

ना इश्क की फरियाद हो, ये सदा जुबां को याद हो
तुम दिल में यूं समा गए, अब दूर हो ना पास हो

क्या मांगू मैं खुदा से जब, मेरे मन को तू मिल गया
अब तेरे सजदे में सनम, मुझमें तेरी आवाज हो

किसको खबर तू कौन है, मुझे क्या खबर मैं कौन हूं
रहूं अजनबी खुद के लिए, तुझे जानने की प्यास हो

तेरे दर्द से भरी हुई, मैं राहों पे भटकी हुई
मुझे ले के चल उस जगह, जहां सिर्फ तेरा साथ हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तस्वीर के मानिंद ही आँखों में आ जरा

love shayari hindi shayari

घूंघट उठा ऐ अजनबी, सूरत दिखा जरा
पर्दे की ओट में न छिप, बाहर निकल जरा

दिल के सफ़र में कट गई रातें जगी हुई
मुद्दत हुए सोया नहीं, लोरी सुना जरा

बढ़ती हुई ये धड़कनें, होती हुई तेज सांस
पसीने-पसीने हो गया, आंचल डुला जरा

राहत मिलेगी चंद पल तुझको निहारकर
तस्वीर के मानिंद ही आंखों में आ जरा

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – संग रहता है मेरे पास अजनबी सा कोई

prevnext

जिंदगी एक तरफ है मेरी तन्हाई में
और तू एक तरफ है दर्द की अंगड़ाई में

तोड़ न दे कहीं धड़कन को सीने की तड़प
थाम लेते हैं कलेजे को हम जुदाई में

संग रहता है मेरे पास अजनबी सा कोई
ढूँढता हूँ तुझे मैं अपनी ही परछाई में

आईना डालता है मुझपे जब अपनी नजर
चंद आँसू ही दिखे आँखों की गहराई में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – वो जो तन्हा सा, परेशां सा है

prevnext

वो जो तन्हा सा, परेशान सा है
इस दुनिया में दिले-नादान सा है

जाने क्या खोया उसका अपना
अजनबी खुद से ही अंजान सा है

इस जमाने की भरी महफिल में
किसी कोने में रखे सामान सा है

कोरे कागज से उदास चेहरे पे
आंसुओं से लिखा बयान सा है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

 

शायरी – एक आह सी आती है, उनकी तो नहीं

prevnext

रातों में सुनी है मगर देखी तो नहीं
एक आह सी आती है, उनकी तो नहीं

अपना हुनर तराशा है जिनके हुस्न से
मेरी इन गजलों में वही अक्स तो नहीं

दिल को ये दिलासा है, वो है जमीं पे
ये चांद उसी दिलदार का साया तो नहीं

जिस अजनबी ने मुझको तलबगार किया
उनसे मेरी रूह का कोई रिश्ता तो नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – कभी रोए तेरे खातिर, कभी चुप हुए तेरे खातिर

prevnext

कभी रोए तेरे खातिर, चुप हुए तेरे खातिर
कभी जलते तो कभी बुझते रहे तेरे खातिर

खर्च होने न दिया हंसी को अपने होठों से
अपनी खामोशी में सहेजते रहे तेरे खातिर

मेरी मंजिल वहीं है जहां पर तुम ठहरी हो
हर कदम पे हम मुंतजिर रहे तेरे खातिर

हो गया हूं मैं अजनबी सा खुद अपने लिए
खो गया हूं न जाने कहां पर तेरे खातिर

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari