Tag Archives: आंचल शायरी

शेर ओ शायरी – कुछ अरमां आंसुओं में भीगे हैं

new prev new shayari pic

तेरे आंचल की हवा जो लग जाए
ये दिल की आग तो भड़क जाए

कुछ अरमां आंसुओं में भीगे हैं
जाने कब किस घड़ी दहक जाए

चांद पाने की अब जरूरत क्या
जब तुझे देख अक्स चमक जाए

गुलाबों जैसे तेरे इन खयालों में
मुहब्बत भरी ये रात महक जाए

©rajeev singh shayari

Advertisements

शायरी – जान में भी तू ही बसी है

love shayari hindi shayari

खोने भर को जान बची है
जान में भी तू ही बसी है

एक कफन मुफलिस को दे दो
तुमको आंचल की क्या कमी है

तेरी उल्फत भी अब मुझको
आखिरी मंजिल पे ला चुकी है

अब जगाना न मुझे आके
बरसों बाद तो आंख लगी है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी- याद रहा चेहरा दिलबर का

love shyari next

उनकी गली को जबसे जाना
बिसर गया मैं रस्ता घर का

अपनी सूरत भूल गया मैं
याद रहा चेहरा दिलबर का

हाल मिला नहीं अब तक हमको
उनके दिल के अंदर का

आंखों के आंचल का आंसू
भिगो गया दामन चादर का

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इश्क और बंदगी के आंसू हैं

love shyari next

ये मेरी जंदगी के आंसू हैं
इश्क और बंदगी के आंसू हैं

लाल रंगत का भरम है वरना
मेरे खूं भी तो मेरे आंसू हैं

कोई आंचल पोछेगी एक दिन
इसी ख्वाहिश में बहते आंसू हैं

कोई मीठी सी खुशी क्या देगा
जो इतने सारे खारे आंसू हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द से अब निजात दिलाए कोई

love shayari hindi shayari

मुझे अपने पहलू में छुपाए कोई
दर्द से अब निजात दिलाए कोई

हमसफर मेरा जिस डगर पे है
उस मोड़ तक मुझे पहुंचाए कोई

मेरी जिंदगी में कोई रोशनी नहीं
मेरे घर में शम्मा जलाए कोई

जमाने की इतनी कड़ी धूप में
आंचल की छांव में बुलाए कोई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है

love shayari hindi shayari

समंदर तेरी सूरत महबूब से मिलती है
तेरी आंखें उस खूबसूरत सी लगती है

तेरे दामन सा फैला है उसका आंचल
उसकी जुल्फें तेरी लहरों सी लगती है

उसकी बाहों में खुशियों के मोती है
वह भी गहरी सी, गुमसुम सी लगती है

मासूम जज़्बातों के लहू से बनी है वो
उसकी परछाई तेरे पानी सी लगती है

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – मेरे आंचल में दर्द है और कुछ भी नहीं

love shayari hindi shayari

दिल लगाने के लिए तुम चले आए हो
इश्क में जान गंवाने तुम चले आए हो

मेरे कांटे तेरे दामन को चुभ जाएंगे
क्यूं अपना खून बहाने तुम चले आए हो

कोई दरिया मेरे दागों को न धो पाएगा
इसे आंसू से छुड़ाने तुम चले आए हो

मेरे आंचल में दर्द है और कुछ भी नहीं
इस दामन से क्या लेने तुम चले आए हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरे आंचल को आंसू से भींग जाने दो

love shayari hindi shayari

ना करो जज्ब इस दर्द को बह जाने दो
मेरे आंचल को आंसू से भीग जाने दो

तू भी तन्हा है कितना मेरी ही तरह
आज दोनों की तन्हाई को मर जाने दो

सिर्फ सुनते रहोगे तुम मेरे जज्बातों को
अपनी खामोश जुबां को भी खुल जाने दो

कितना सूना है मेरा दिल भी मेरे सीने में
इश्क का रंग इस फूल में भर जाने दो

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – फूल बन जाएंगी कलियां मेरे आंचल की

love shayari hindi shayari

दूर बैठ रहोगे, पास न आओगे कभी
ऐसे रूठोगे तो जान ले जाओगे कभी

फूल बन जाएंगी कलियां मेरे आंचल की
अपने दामन की खुशबू से जो सींचोगे कभी

हाथ गालों पे लिए, दर्द को आंखों में
ऐसी तस्वीर में मुझको भी पाओगे कभी

एक नदी कह रही तुमसे कि रोते क्यूं हो
उसके पानी को आंखों में क्या रखोगे कभी

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जब तलक जिंदगी में आप रहे

love shayari hindi shayari

इस पापी दुनिया में हम पाक रहे
जब तलक जिंदगी में आप रहे

मैल कितने भी जमे बदन पे
मगर दिल से बड़े ही साफ रहे

जल रहे हैं यही दुआ करके
तेरे आंचल में मेरी राख रहे

हम भटकते रहें भूखे ही सही
इस तरह से बची ये प्यास रहे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जानती हूं तुझे जाने कितनी सदी से

love shayari hindi shayari

ठहर जा ऐ सावन, ठहर जा ऐ बादल
बहने दे निगाहों से थोड़ा तो काजल

छोड़के ओ फरिश्ते तुम जा न सकोगे
जब चिड़िया तुम्हीं से हुई है रे घायल

जानती हूं तुझे जाने कितनी सदी से
जुदाई में भीगा है बरसों से आंचल

अब तू ही बस सहारा है ऐ खुदा मेरे
बिन तेरे लगता है हो जाऊंगी पागल

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज फिर बिखर जाएगा कजरा बहकर

prevnext

एक तक़लीफ़ उमड़ती है मेरे सीने में
अरे बेदर्द आता है क्यूँ आँसू बनकर
आज सँवरी हूं आईने में बस तेरे लिए
आज फिर बिखर जाएगा कजरा बहकर

अपने आँचल की घूँघट ओढ़कर
तेरी दुल्हन रोती है राह देखकर
तू न आया है, न तू आएगा
आज फिर बिखर जाएगा कजरा बहकर

कहां रहता है इस बेरहम ज़माने में
मन में आता है, सामने क्यूँ नहीं आता
ओ सलोने तेरी याद में रो-रोकर
आज बिखर जाएगा कजरा बहकर

सोलहवाँ साल बीता है जाने कबके
कई रूत आके गुजरी है दुख देकर
एक नई रात दुख की घिर आई है
आज फिर बिखर जाएगा कजरा बहकर

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – तेरा दामन ना भींगा मेरे आंसू से अब तक

love shyari next

भटकते जा रहे हो, बरसते जा रहे हो
तपी धरती से रिश्ता निभाते जा रहे हो

मुझे कितनी कसक है, तुझे मालूम है सब
मगर मुझसे दुख अपना छुपाते जा रहे हो

अरे मैं तो इधर हूं, उधर बस तू ही तू है
कदम किसकी तरफ तुम बढ़ाते जा रहे हो

तेरा दामन ना भींगा मेरे आंसू से अब तक
मगर आंचल को मेरे भिंगोते जा रहे हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari