Tag Archives: आग शायरी

शायरी – दिल के घर में चुपके से वो

new prev new shayari pic

हमने ही तो आग लगाई
बेशक उसने थी सुलगाई

दिल के घर में चुपके से वो
एक दीया थी लेकर आई

जलकर खाक हुआ फिर भी
हमने उसकी जान बचाई

मरकर चला गया दीवाना
तुम देने नहीं आई विदाई

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – जिसके दिल में कांटे हों

#100 दर्द शायरी

दर्द में हम जीते-मरते हैं

सबसे हंसकर मिलते हैं

 

जिसके दिल में कांटे हों

वहीं तो गुलाब खिलते हैं

 

वो आग लगाकर जाती है

दीये खामोशी से जलते हैं

 

  1. जबसे तुम मेरे दिल के गुलाब बन गए
  2. ताउम्र तेरे इश्क में मरने की दुआ दे
  3. इस दिल को ये मंजूर है, तू खुश रहे हर हाल में

शायरी – सावन आया हर रातों में

love shayari hindi shayari


आग ये कितनी दूर जली है
हमपे ये लौ बरस रही है

दूर निगाहों से होकर भी
वो आंसू मुझे परोस रही है

हिलता नहीं है एक भी पत्ता
कोई आंधी तरस रही है

सावन आया हर रातों में
दुख की घटा गरज रही है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हर दामन में शोला है

love shayari hindi shayari


हर दामन में शोला है
जीवन आग का गोला है

दुख की अग्नि एक चिता है
इंसां लाश का चोला है

अपने लड़ते हैं अपनों से
हर घर में ये झमेला है

दुनिया के ये सारे लफड़े
बेमतलब का खेला है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द की बज रही है शहनाइयां

love shayari hindi shayari


निगाहों की शाम आ ही गई
जुदाई की रात आ ही गई

दर्द की बज रही है शहनाइयां
यादों की बारात आ ही गई

जलती है शम्मा हौले-हौले
मीठी सी आग आ ही गई

सन्नाटे में तो कुछ आता नहीं
करवटों की आवाज आ ही गई


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आंसुओं में डूबे मेरे साये, तेरे बिन दिल कहां जाए

love shayari hindi shayari


खुशी के पल आए-जाए
हम तो हैं इन सबसे पराए

आग बरसाती है जिंदगी
आंसुओं में डूबे मेरे साये

आगे-पीछे दाएं-बाएं
तेरे बिन दिल कहां जाए

यारों की तो बात छोड़ो
रिश्तों में भी हम हैं पराए


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आग लगी है रूह के धागे में

love shyari next

एक सिलसिला सा चल रहा है
दिल आंसुओं में गल रहा है

कभी झांककर देखा अपने अंदर
हर तरफ वहां कुछ जल रहा है

आग लगी है रूह के धागे में
जिस्म मोम सा पिघल रहा है

बहुत साफ है मन का आईना
आंसुओं से जब वो धुल रहा है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में

love shayari hindi shayari

तुम्हारी यादों में ये कैसा जादू है
दिल के शहर में हालात बेकाबू है

तू गुलाब सी महकी जिस्मो जां में
करवटों से भरी ये रात बेकाबू है

मेरी तन्हाई है गवाह इस मंजर का
कि इन आंखों में बरसात बेकाबू है

कट रही है उम्र मेरी दोजख में
जिंदगी में ये भड़की आग बेकाबू है

(दोजख- नर्क)

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – सीने में जो आग जली है, जलके कोई राख न छूटे

love shayari hindi shayari

दर्दे दिल से आह न रूठे
साज का एक तार न टूटे

सीने में जो आग जली है
जलके कोई राख न छूटे

जख्मों पे बस तेरे निशाँ हैं
दाग ये पड़ जाए न फीके

अश्कों ने आवाज तो दी थी
बेकस के गम तूने न देखे

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आग से सीने को भरिए, पानी को आंखो में रखिए

love shayari hindi shayari

आग से सीने को भरिए
पानी को आंखो में रखिए

आएगी एक दिन कयामत
दिल में थोड़ा धीरज रखिए

आपसे हैं मेरे मरासिम
आप रखिए या न रखिए

जाने कब प्यास जग जाए
पैमाने में दर्द को रखिए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मैं किसी की ख्वाहिशों का गुलाम नहीं

love shayari hindi shayari

मैं किसी की ख्वाहिशों का गुलाम नहीं
मेरी आजादी का लेना कभी इम्तहान नहीं

दिल भले ही मुहब्बत के लिए रोता है
मगर हमने लिया कभी तेरा अहसान नहीं

आग की लहरों में देखा कीए अपना चेहरा
आईनों का किया घर में कभी इंतजाम नहीं

क्यूं नहीं आई खुशी तेरी जिंदगी में ऐ दोस्त
तुम लोगों की तरह हंसे कभी सरेआम नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – कुछ भी नहीं मिलेगा मुझे तेरी दुआ से

love shayari hindi shayari

किसको खुदा कहेंगे कोई मेरा खुदा नहीं
है कोई भी खुदा तो वो मुझसे जुदा नहीं

शायर तो मुहब्बत के सिवा कुछ नहीं चाहे
लेकिन जमाने के किसी दिल में वफा नहीं

कुछ भी नहीं मिलेगा मुझे तेरी दुआ से
लगती है बेकसों को किसी की दुआ नहीं

वो हंसके बुझा देती है मेरे सीने में लगी आग
आंसुओं से कभी दामन उसका जला नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जो आँखें न उठा सके मेरे दर्द की तरफ

prevnext

जब रो रहे थे हम अपने हालात पर
सब मुस्कुरा रहे थे जाने किस बात पर

हम जिंदगी की आग में यूं झुलस गए
कि यकीं नहीं होता अब बरसात पर

क्यूं हम कहीं पे जाएंगे तेरी तलाश में
जब घर नहीं बसाना दिले-बर्बाद पर

जो आंखें न उठा सके मेरे दर्द की तरफ
वो कान क्या देंगे मेरी फरियाद पर

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari