Tag Archives: आवारगी

शायरी – मेरे पास है बचा क्या दिल के सिवा ऐ हमदम

love shyari next

आवारगी में अपना ठिकाना कहां से लाऊं
तेरे संग रह सके वो तमन्ना कहां से लाऊं

तुझे देखने की किस्मत मिल तो गई है लेकिन
आंखों में जल सके वो शम्मा कहां से लाऊं

मेरे पास है बचा क्या दिल के सिवा ऐ हमदम
तेरे लिए खुशी का मैं गहना कहां से लाऊं

सांसों में रह गए हैं आहों के चंद कतरे
दम मेरा निकल जाए वो सदमा कहां से लाऊं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – दीवानगी में न जाने कल कहां पे रहूँगा

love shayari hindi shayari

ये दिल किसी मुकाम पर ठहर न सका
मीलों तलक चला मगर मंजिल पा न सका

दीवानगी में न जाने कल कहां पे रहूंगा
आवारगी में अपना घर भी बना न सका

सर पे कफन है और जलता हुआ दिल है
चाहा बहुत पर जिस्म को खुद जला न सका

तड़पती हुई लहरों को शायद नहीं मालूम
साहिल की प्यास को वो कभी बुझा न सका

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari