Tag Archives: आशियां शायरी

शायरी – जो फूल उसकी जुल्फों तक नहीं पहुंच सका

love shayari hindi shayari

मुहब्बत के मुकद्दर में वो हसीं शाम कभी होती
सोचता हूं ये जिंदगी तो उसके नाम कभी होती

जो फूल उसकी जुल्फों तक नहीं पहुंच सका
उसे तोड़ने को वो दिल से परेशान कभी होती

मुझे पत्थर समझकर जो हमेशा तराशती रही
उस खुदा से हमारी दुआ सलाम कभी होती

जिसको देखा किए हर शब उल्फत के आइने में
वह अक्स हमारे आशियां की मेहमान कभी होती

©RajeevSingh # love shayari

Advertisements

शायरी – इस रात के आलम में मेरा इश्क जानेजां

love shyari next

आ जाओ, अब मौसम भी मस्त हो चला
खड़ा है तेरी राह में देखो एक दिलजला

आंखों की रोशनी से एक चांद बनाएं
आशियां में तारों सा हम जाएं झिलमिला

आओ तुझे बाहों में भरके प्यार करूं मैं
मिट जाए दोनों की तन्हाई का सिलसिला

इस रात के आलम में मेरा इश्क जानेजां
तेरे हुस्न की आगोश में खोने को है चला

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – सोचकर तुमको ऐ हमदम, रो दिया, रो दिया

love shayarihindi shayari

अपना हर एक दर्द हमने, लिख दिया, लिख दिया
तुमने दिल जो-जो कहा, कर दिया, कर दिया

सुबह से शाम तलक और रात भर ये हुआ
सोचकर तुमको ऐ हमदम, रो दिया, रो दिया

मैं भला क्यूं जाउंगा, भीड़ भरी राहों पे
लाशों के जुलूस से मैं, डर गया, डर गया

बस्तियों से अब उजड़के आ गया तन्हाई में
इश्क के इस आशियां में, रह गया, रह गया

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – अंधेरी रात में तुम कभी ठोकर न खाओ

love shayari hindi shayari

सफर कट जाएंगे, बिछड़ के मर जाएंगे
तेरे बारे में लेकिन गजल कह जाएंगे

अंधेरी रात में तुम कभी ठोकर न खाओ
जहां पे तुम रहोगे, वहीं जल जाएंगे

न जुड़ पाया है हमसे ये टूटा आशियां भी
तेरे बिन ये हुनर हम कहां से पाएंगे

चले आए हैं लिखने इश्क की दास्तां हम
किताबों में ही हम-तुम संग रह जाएंगे

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – ऐ हुस्न तेरे दर्द में क्या-क्या न किए

love shayari hindi shayari

न बस्ती के रहे, न ही तेरे आशियां के रहे
हुस्न तेरे इश्क में हम अब कहीं के न रहे

कुछ रूह में जलता है, दिल में सुलगता है
बन सके न माहताब तो हम चिराग ही रहे

कितनी तमन्नाएं थीं मेरे ख्वाबों के दामन में
फुरकत के सिवा और कुछ न आखिर में रहे

ऐ रात न छीन मुझसे उनके दर्द के तोहफे
सब कुछ तो खो चुके हैं, चंद आंसू तो रहे

माहताब- चांद
फुरकत- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – तेरी जुल्फों में सजा गुलाब यही कहता है

love shayari hindi shayari


मेरी नम आंख से रोशन सा धुआं उठता है
सीने में कहीं मेरे गम का दीया जलता है

सामने आते हो पर पलकें उठाते हो नहीं
तेरी इस हया से मेरा दर्द जनम लेता है

ये आवाज मेरी दीवारों से टकराती रही
गम मेरा तन्हा ही आशियां में रह जाता है

मैं फूल हूं कोई अंधेरों में खिला हुआ
तेरी जुल्फों में सजा गुलाब यही कहता है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari