Tag Archives: आशियाना शायरी

शायरी – फूल बनकर तू खिलेगी जिस गुलशन में

love shayari hindi shayari

जीते जी मेरे आशियाने में कमी क्या होगी
बस तू नहीं आएगी, और कमी क्या होगी

फूल बनकर तू खिलेगी जिस गुलशन में
उस चमन में कांटों की कमी क्या होगी

ऐ सनम तू भी तो पत्थर दिल निकली
मेरे आंसुओं से भी तुझमें नमी क्या होगी

किसी को कभी एक बार इश्क जो होगा
फिर जिंदगीभर जख्मों की कमी क्या होगी

©RajeevSingh # love shayari

 

Advertisements

शायरी – वहीं मिल जाएगी एक दरिया उसे रोती हुई

love shayari hindi shayari

अभी बरसात है, कभी रुकती कभी गिरती हुई
और एक शाम है भीगी हुई सी ढलती हुई

कौन जाने कि ये घटाएं कहां तक जाएंगी
जाने किस मोड़ पे बेवफा होगी हवा चलती हुई

जिस जगह कोई तलाशेगा वजूद अपना
वहीं मिल जाएगी एक दरिया उसे रोती हुई

ये फलक कितने मुसाफिरों का आशियाना है
फिर भी चिंगारियां हैं उसके दामन में जलती हुई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुम तो हर दर्द से वाकिफ हो दुनिया में

love shayari hindi shayari

कितने तन्हा-तन्हा से नजर आते हो
देखते हो नहीं, तुम ऐसे गुजर जाते हो

आग जब लग ही गई दिल के आशियाने में
चंद अश्कों से बुझाने में बुझे जाते हो

तुम तो हर दर्द से वाकिफ हो दुनिया में
इस उदासी में भी इतना मुस्कुराते हो

जब भी नजरें मिली तुमने मुंह फेर लिया
तुम भी दुश्मन की तरह हमसे पेश आते हो

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – फिर क्यूं शिकायत करें बेवफा से

love shayari hindi shayari

दुख भी सहा था दिल की रजा से
फिर क्यूं शिकायत करें बेवफा से

करजदार हूं मैं दुनिया में सबका
दगा भी मिले हैं सबकी दुआ से

खंजर को पहलू में रखा था लेकिन
चलाया था खुद पे अपनी अदा से

तेरा आशियाना तुम्हीं को मुबारक
मुसाफिर को क्या काम ऐसी बला से

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari