Tag Archives: आस्मा शायरी

शायरी – सौगात दी गम की चंद बरस के प्यार में उसने

love shyari next

कभी किस्मत ने दिया धोखा, कभी हमने उसे मारी ठोकर
जिंदगी यूं ही गुजरी खुद से लड़ने और झगड़ने में

सौगात दी गम की चंद बरस के प्यार में उसने
मौत के आखिरी पल तक तड़पे हम इंतजार करने में

जज्बातों के सौदे में हम साबित हुए अनाड़ी सौदागर
खुशियां बेचते रहे और मसरूफ रहे दर्द खरीदने में

इक प्यासी रूह है मेरे अंदर जिसे चाहत है चांद की
उम्र बीत गई मेरी बेदर्द आस्मा की की राह तकने में

 

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – प्यासे ही रह गए यहां दिलरूबाओं के सनम

love shayari hindi shayari

भूले नहीं है दर्द को हमसाया समझ के हम
जाएंगे हम जहां-जहां वहां चलेंगे दर्दो-गम

कितनी उदास सी फिजा, कितना वीरान आस्मा
गुलशन में चारों ओर है रोता हुआ मेरा चमन

दुनिया के रेगिस्तान से कोई उम्मीद क्या करें
प्यासे ही रह गए यहां दिलरूबाओं के सनम

दो बरस का हादसा उम्रभर होता रहा
घायल सी तन्हाइयों में अब चोट खा रहे हैं हम

शायरी – इन दीवारों से बनी कैद में जी लेती हूं

love shayari hindi shayari

अपनी तन्हाई की तस्वीर बनाकर रखूं
आईने को अपने रूबरू बिठाकर रखूं

इन दीवारों से बनी कैद में जी लेती हूं
इस तरह खुद को मैं दुनिया से बचाकर रखूं

चांद सितारों से भरे उस आस्मा की तरह
अपने सीने में कई आग मैं जलाकर रखूं

रोक लेती हूं दरिया को जब भी चाहूं
अपनी आंखों में इसे झील मैं बनाकर रखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – सबकी तरह बेदर्द थे हम जब इश्क से बेगाने थे

love shayari hindi shayari

मैं परिंदा भी नहीं और हूं आस्मा भी नहीं
लेकिन मेरा दिल इन दोनों से कम भी नहीं

मेरा सबकुछ लुट गया, मैं वो खुशनसीब हूं
आज दुनिया में कुछ खोने का गम भी नहीं

मुफलिसी मेरा खुदा है, फाकामस्ती इबादत है
जिंदगी के बारे में अब कोई वहम भी नहीं

सबकी तरह बेदर्द थे हम जब इश्क से बेगाने थे
जिसने दर्दे-दिल दिया, अब वो सनम भी नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – रात तड़प के गुजर गई और चांद तन्हा रह गया

love shayari hindi shayari

रात तड़प के गुजर गई और चांद तन्हा रह गया
आस्मा के मंजर में एक दर्द गूंजकर खो गया

गमजदा सूरत पे देखो मायूसी के साये हैं
जबसे हमको छोड़ गए हो, हुस्न हमारा खो गया

इश्क की बेताब लहरें बहुत सताती हैं हमें
बहते आंसू ये कहते हैं, वो समंदर खो गया

अब मेरी दीवानगी की इंतहा तो हो चुकी
ये निगाहें बुझ गई और ये जुबां भी खो गया

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari