Tag Archives: आह शायरी

शायरी – ये खामोश दर्द, ये खामोश आह

love shayari hindi shayari


ये बंजर सी जमीं, ये बंजर आस्मा
ये बंजर सा शमा, ये बंजर दास्तां

काली सी घटा, काली सी हवा
है काले वक्त पे कुदरत के निशां

ये खामोश दर्द, ये खामोश आह
है खामोश इश्क, बेबस है जुबां

एक कली खिली मगर टूट गई
उसे लग गई शहर की आंधियां


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – रंग आँसू ने भी बदले तन्हाई में

love shayari hindi shayari

दर्द से आह गई गूँज तन्हाई में
कोई सुनता नहीं आवाज तन्हाई में

डोर तो टूट गयी दो टुकड़े बाकी हैं
कौन जोड़ेगा दोनों को तन्हाई में

आँख तो लाल हुई फिर बेरंग बरसी
रंग आँसू ने भी बदले तन्हाई में

सारी परतें दिल में मेरे सलामत हैं
जख्म दर जख्म संभाले हैं तन्हाई में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है

love shyari next

गम इस कदर बरस पड़े, सावन भी शर्मसार हो
इस हिज्र में दो आंखों से, कुदरत की तकरार हो

हर सिलसिला रूका रहे, हर जलजला थमा रहे
ठहरी-अंधेरी रात में खामोशी की झनकार हो

कोई रास्ता नहीं मिला खूने-जिगर को तब मुझे
ऐसा लगा कि जख्म भी खंजर से धारदार हो

मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है
मेरी मौत का शायद तुम्हें, मुद्दत से इंतजार हो

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – एक आह सी आती है, उनकी तो नहीं

prevnext

रातों में सुनी है मगर देखी तो नहीं
एक आह सी आती है, उनकी तो नहीं

अपना हुनर तराशा है जिनके हुस्न से
मेरी इन गजलों में वही अक्स तो नहीं

दिल को ये दिलासा है, वो है जमीं पे
ये चांद उसी दिलदार का साया तो नहीं

जिस अजनबी ने मुझको तलबगार किया
उनसे मेरी रूह का कोई रिश्ता तो नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari