Tag Archives: इज्जत शायरी

शायरी – अच्छा किया जो मुझपे ये गुलाब रख दिया

love shayari hindi shayari

रोते हैं वो रुखसती पे जब मैं नहीं रहा
अब पास वो बैठे हैं जब मैं नहीं रहा

अच्छा किया जो मुझपे ये गुलाब रख दिया
लो कर लिया कुबूल जब मैं नहीं रहा

जिंदा रहा तो बेरुखी देकर ही खुश रही
अब रुख वो दिखाती है जब मैं नहीं रहा

मेरे गमों की आबरू तेरे हाथ लुट गई
इज्जत से तो दफना दिया जब मैं नहीं रहा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – लो मेरे वालिद तेरे कदमों में, हमने ये रूह गिरवी रख दी

prevnext

 

लो मेरे वालिद तेरे कदमों में
हमने अपनी रूह गिरवी रख दी

तूने बेबस को जमाना दिया
खेलने के लिए खिलौना दिया
रोटी-मकां का सहारा दिया
तेरे अहसानों के बदले
लो मेरे वालिद तेरे कदमों में
हमने ये रूह गिरवी रख दी

ये जिंदगी तेरी गुलामी में है
भुलूंगी जो खता जवानी में है
इस दिले-नादां का खूं कर दूँगी
जहाँ बाँधोगे, खुद को बाँध लूँगी
लो मेरे वालिद, तेरी इज़्जत के लिए
हमने अपनी रूह गिरवी रख दी

मेरे आशिक तुझे जख़्म दे रही हूँ मैं
बेवफाई का रस्म निभा रही हूँ मैं
आशिक को आँसू का सामां देकर
लो मेरे वालिद, तेरे कदमों में
हमने अपनी रूह गिरवी रख दी

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – सौ बार टूटा दिल मेरा, सौ बार बिखरी आरजू

love shyari next

सौ बार टूटा दिल मेरा, सौ बार बिखरी आरजू
दुनिया में इज्जत ढ़ूंढ़ी तो सौ बार लुट गई आबरू

मुझसा ही तू उदास था, मुझसा ही तू बर्बाद था
मुझसे ही तुमको इश्क था, आया न तू मेरे रू-ब-रू

दिल पे मैं क्या गुमां करूं, जिसने मुझे बस दुख दिया
दुख में ही कटती रात है, दुख से ही होता दिन शुरू

अब तो जरूरत ना रही, तेरी भी ऐ मेरे खुदा
जब मौत से ही प्यार हो तो मैं किसी से क्यों डरूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari