Tag Archives: इनायत शायरी

शायरी – हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत

love shayari hindi shayari

हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत
ऐसे में दिल-ए-आशिक कैसे रहे सलामत

एक बूंद दर्द में डूबा, तब बन गया समंदर
किसी बेवफा ने की थी उसपे कभी इनायत

सब सूख चुकी हैं वो गुलाब की पंखुरियां
संभाल के रखा था आखिरी तेरी अमानत

आंखों में जमा होके गिले-शिकवे हुए पानी
चेहरे पे बहता दरिया, आईने की है शिकायत

©RajeevSingh # love shayari

 

Advertisements

शायरी – तू ही तस्वीर थी और दिल मेरा आईना था

love shayari hindi shayari

मैं परिंदों की तरह आस्मा में उड़ता था
आठों पहर तेरे खयालों में डूबा रहता था

मुझपे इतनी तो सनम इनायत की तुमने
मुस्कुराती थी जब तुमको सनम कहता था

तू जो खोयी तो ये सारा जहां वीरान हुआ
अब वो जोगी हुआ जो कल तेरा दीवाना था

मैं तो टुकड़ों को जोड़ता हूँ कि तुझे देखूं
तू ही तस्वीर थी और दिल टूटा आईना था

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अब आप कत्ल भी कर दें तो कोई गम नहीं

new prev new shayari pic

आपकी अदाओं पर ये दिल कुरबान करते हैं
आपकी नजर ए इनायत को सलाम करते हैं

आप आईं मेरी तरफ इश्क का चिराग लेकर
हम आपके नूर से जज्बातों को जवान करते हैं

दिल में दबे जख्म हैं मरहम के इंतजार में
आप ही तो इलाज ए दर्द का इंतजाम करते हैं

अब आप कत्ल भी कर दें तो कोई गम नहीं
मोहब्बत में मर मिटने का हम ऐलान करते हैं

©राजीव सिंह शायरी