Tag Archives: इशारा शायरी

शायरी – वो सामने बैठी है चाय की दुकान में

new prev new next

हम इधर खड़े हैं किराए के मकान में
वो सामने बैठी है चाय की दुकान में

सोचता हूं कभी उनकी राह रोक लूं
डर है कि पहुंच न जाऊं श्मशान में

इशारा तो करता हूं मगर देखती नहीं
कैसे कहूं कि मिलो बगल के बगान में

कोई नहीं आई है अब तक जिंदगी में
यही दर्द रहता है दिल ए परेशान में

(अपने मुहल्ले में बगान यानि पार्क के बगल में चाय की दुकान से प्रेरित गजल)

©rajeevsingh

शायरी – अजी हम मर गये थे आपके इशारे पे

love shayari hindi shayari

नजर में डूबके न आ सके किनारे पे
अजी हम मर गये थे आपके इशारे पे

गुजरती रात के आलम में चैन हो कैसे
निगाहें हैं टिकी उस चांद के नजारे पे

कहीं पे सब्र का पानी मिले तो मैं पी लूं
भटक रहा हूं मैं हर एक के चौबारे पे

मुझे भी दफ्न करो अपने दिल की तरह
कि रूह जीता रहे तेरे दर्द के सहारे पे

©RajeevSingh #love shayari

 

शायरी – था कैसा इशारा तेरे इश्क का वो

love shayari hindi shayari

बड़ी बेरुखी से निगाहें थी फेरी, था कैसा इशारा तेरे इश्क का वो
मैं समझी कि तू शरमा रहा है, क्या था इशारा तेरे इश्क का वो

अगर मैं गलत हूं तो ये बता दे, मुझे देख क्यूं उधर मुड़ गया था
तेरीअदा से मैं घबड़ा गई थी, ऐसा था शरारा तेरे इश्क का वो

मासूमियत के बुत से बने थे, मुझे देखकर तुम छुपे जा रहे थे
तुझे देखकर मैं मुसका रही थी, हसीं था नजारा तेरे इश्क का वो

मुझे मेरी मंजिल मिल तो गई है, ले चलो मुझे जहां जाना चाहो
हमारे भी दिल को खबर हुई है, यही था इशारा तेरे इश्क का वो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इश्क में दो कदम भी बढ़ाना है मुश्किल

new prev new shayari pic

तेरे दिल तक ये बात ले जाना है मुश्किल
इश्क में दो कदम भी बढ़ाना है मुश्किल

आंख लड़े तो क्या, होठ हिले भी तो क्या
हाले दिल करीब आके बताना है मुश्किल

शहर की राहों में रोज मिल जाते हो तुम
तुमको किसी इशारे से बुलाना है मुश्किल

सोचता हूं बता दूं मगर अंजाम से डरता हूं
कशमकश से दिल का निकलना है मुश्किल

©rajeevsingh              shayari

prev shayari green next shayari green