Tag Archives: उदास शायरी

शायरी – हम तो किसी की आंख का काजल न बन सके

shayari latest shayari new

तुमको उदास शायरी

हम तो किसी की आंख का काजल न बन सके
अफसोस कि आशिकी में पागल न बन सके

मोहब्बत में हम भले लाख बरसकर दिखा दें
फिर भी कहेंगे वो कि हम बादल न बन सके

उतरकर चले गए वो मेरे दिल की सीढ़ियों से
हम तो उसकी जिंदगी की मंजिल न बन सके

देखता हूं उदास उसको, होता है दर्द मुझे भी
शीशे सा वजूद लेकर हम संगदिल न बन सके

©rajeevsingh                  shayri

shayari green pre shayari green next

Save

Save

Advertisements

शायरी – बहुत मुसीबतें थी इश्क की राह में

new prev new shayari pic

न तेरे ख्वाब होते, न हम खाक होते
न ही दिल में दर्द भरे जज्बात होते

बहुत मुसीबतें थी इश्क की राह में
आखिर कब तक तुम मेरे साथ होते

तेरी खुशियों की बड़ी ख्वाहिश थी
वरना क्यों हम सूरत से उदास होते

जीने की जद्दोजहद आसान हो जाती
सोचता हूं, काश तुम मेरे पास होते

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – जिस दिल पे इश्क का दाग है

love shayari hindi shayari


जिस दिल पे इश्क का दाग है
उस चांद पे न नकाब है

घर-घर में वो ही उदास है
जिस हुस्न पर ये शबाब है

ऐ खुदा, मुझे गिन के बता
मेरे जख्म का क्या हिसाब है

जो बेवफाई से ही जला
ये जहान ऐसा चिराग है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुझे करते हैं याद, दिन हो या रात

love shayari hindi shayari

ये जिस्मो-जां और मेरे सारे जज़्बात
तुझे करते हैं याद, दिन हो या रात

चांद अब तक नहीं आई मेरे दामन में
उदास है मन सोचकर बस यही बात

मैं समंदर हूं, दरिया हूं या कुछ भी नहीं
जब पानी नहीं तो सबके एक से हालात

मन में आती है, पहलू में तो नहीं आती
क्यों कराते हो ऐ ख्वाब उनसे मुलाकात

अब तो इंतहा हो चुकी है मेरे सब्र की
शायद खुदा को मंजूर नहीं हमारा साथ

शायरी – हैं दुनिया में कम ऐसे तेरे दीवाने

love shayari hindi shayari

किधर है ठिकाना, कहां आशियाने
आवारा चला खुद को आजमाने

अपनी हस्ती को जो मिटाने चला
हैं दुनिया में कम ऐसे तेरे दीवाने

मेरी सूरत को ऐसी उदासी मिली
हंस न पाया कभी करके झूठे बहाने

जिनको अपनों ने ही रुलाया बहुत
तू भी आई उसी के दिल को दुखाने

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – आ लौट के तू आ जा, पहलू उदास है

love shayari hindi shayari

आ लौट के तू आ जा, पहलू उदास है
बरसात में जलता दिल का चिराग है

तू तो बड़ा प्यासा है पर जानती हूँ मैं
समंदर नहीं तुमको रेतों की तलाश है

हर ओर से कयामत उठाया है जिगर ने
शायद ये मेरे खून में चढ़ता शबाब है

सावन का पपीहा भी रो-रो के थक गया
एक बूंद की खातिर वो इतना हताश है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari