Tag Archives: उदास शायरी

शायरी – हम तो किसी की आंख का काजल न बन सके

shayari latest shayari new

तुमको उदास शायरी

हम तो किसी की आंख का काजल न बन सके
अफसोस कि आशिकी में पागल न बन सके

मोहब्बत में हम भले लाख बरसकर दिखा दें
फिर भी कहेंगे वो कि हम बादल न बन सके

उतरकर चले गए वो मेरे दिल की सीढ़ियों से
हम तो उसकी जिंदगी की मंजिल न बन सके

देखता हूं उदास उसको, होता है दर्द मुझे भी
शीशे सा वजूद लेकर हम संगदिल न बन सके

©rajeevsingh                  shayri

shayari green pre shayari green next

Save

Save

Advertisements

शायरी – बहुत मुसीबतें थी इश्क की राह में

new prev new shayari pic

न तेरे ख्वाब होते, न हम खाक होते
न ही दिल में दर्द भरे जज्बात होते

बहुत मुसीबतें थी इश्क की राह में
आखिर कब तक तुम मेरे साथ होते

तेरी खुशियों की बड़ी ख्वाहिश थी
वरना क्यों हम सूरत से उदास होते

जीने की जद्दोजहद आसान हो जाती
सोचता हूं, काश तुम मेरे पास होते

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – जिस दिल पे इश्क का दाग है

love shayari hindi shayari


जिस दिल पे इश्क का दाग है
उस चांद पे न नकाब है

घर-घर में वो ही उदास है
जिस हुस्न पर ये शबाब है

ऐ खुदा, मुझे गिन के बता
मेरे जख्म का क्या हिसाब है

जो बेवफाई से ही जला
ये जहान ऐसा चिराग है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुझे करते हैं याद, दिन हो या रात

love shayari hindi shayari

ये जिस्मो-जां और मेरे सारे जज़्बात
तुझे करते हैं याद, दिन हो या रात

चांद अब तक नहीं आई मेरे दामन में
उदास है मन सोचकर बस यही बात

मैं समंदर हूं, दरिया हूं या कुछ भी नहीं
जब पानी नहीं तो सबके एक से हालात

मन में आती है, पहलू में तो नहीं आती
क्यों कराते हो ऐ ख्वाब उनसे मुलाकात

अब तो इंतहा हो चुकी है मेरे सब्र की
शायद खुदा को मंजूर नहीं हमारा साथ

शायरी – हैं दुनिया में कम ऐसे तेरे दीवाने

love shayari hindi shayari

किधर है ठिकाना, कहां आशियाने
आवारा चला खुद को आजमाने

अपनी हस्ती को जो मिटाने चला
हैं दुनिया में कम ऐसे तेरे दीवाने

मेरी सूरत को ऐसी उदासी मिली
हंस न पाया कभी करके झूठे बहाने

जिनको अपनों ने ही रुलाया बहुत
तू भी आई उसी के दिल को दुखाने

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – आ लौट के तू आ जा, पहलू उदास है

love shayari hindi shayari

आ लौट के तू आ जा, पहलू उदास है
बरसात में जलता दिल का चिराग है

तू तो बड़ा प्यासा है पर जानती हूँ मैं
समंदर नहीं तुमको रेतों की तलाश है

हर ओर से कयामत उठाया है जिगर ने
शायद ये मेरे खून में चढ़ता शबाब है

सावन का पपीहा भी रो-रो के थक गया
एक बूंद की खातिर वो इतना हताश है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जाने क्या कहानी है जो खत्म नहीं होती

love shayari hindi shayari

अपनी जुबां तो खोलिए जब राहों में हैं मिलते
हम थक चुके हैं आपको सलाम करते-करते

मेरी निगाहें देखिए, दो उदास झील हैं बस
मुरझा गए हैं कितने ही कंवल खिलते-खिलते

जाने क्या कहानी है जो खत्म नहीं होती
ये उम्र गुजर जाए आपको पढ़ते-पढ़ते

महसूस ये होता है हर रोज मेरे दिल में
एक चांद सा जलता है हर शाम ढलते-ढलते

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं

love shayari hindi shayari

ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं
खा कसम मेरी कि तू रातभर रोयी नहीं

बन गयी है जुल्फें तेरी उजड़ी-उजड़ी सी बहार
आंधियों में घिर के भी तू चमन से गई नहीं

ये तेरा उदास चेहरा, ये तेरी गमगीन आंखें
आने से पहले जरा तू आईने में झांकी नहीं

हूं मैं हैरां देखकर कि क्या ये तेरा हाल है
इश्क में मुझपे कभी ऐसी कयामत आती नहीं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – अपनी आंखों में उसे बांध कर भला मैं कैसे रखूं

love shayari hindi shayari

शाम तो रख लिया अब रात को मैं कैसे रखूं
इतने उदास लम्हों को एक दिल में कैसे रखूं

हाथ आए थे चंद अश्क, छिटक के भाग गए
अपनी आंखों में उसे बांध कर भला कैसे रखूं

यादों के बयार संग मेरे दिल तक चले आए हैं
इन गर्द गुबारों को इस जिगर में अब कैसे रखूं

बूंद बनकर जो मेरी आंखों से दर्द बहा ले गया
ऐसे सावन को तेरे तोहफे के लिए मैं कैसे रखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मुझे देखते ही हर निगाह पत्थर सी क्यूँ हो गई

prevnext

अब जानेमन तू तो नहीं, शिकवा-ए-गम किससे कहें
या चुप रहें या रो पड़ें, किस्सा-ए-गम किससे कहें

मुझे देखते ही हर निगाह पत्थर सी क्यूं हो गई
जिसे देख दिल हुआ उदास,हैं आंखें नम,किससे कहें

इस शहर की वीरां गुलशनें, हैं फूल कम, कांटे कई
दामन मेरा छलनी हुआ, हम दर्दो-गम किससे कहें

कोई रहगुज़र तो देर तक टिकता नहीं कदमों तले
तेरा निशां है कहीं नहीं, मंज़िल न सनम, किससे कहें

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जो रह गए थे दरम्यां वो फासले क्या थे

love shayari hindi shayari

जो रह गए थे दरम्यां वो फासले क्या थे
मसला-ए-दिल सुलझा नहीं, वो मामले क्या थे

तेरे इश्क में सूरत से मैं उदास हो गया
जिसे देखकर तू निखर गई वो आईने क्या थे

अपने ही कयामत में बसर कर रहा हूं मैं
जो दर्द बनके जी लिए वो मरहले क्या थे

शरमाए हुए आए थे जो मेरे दर के सामने
सब लूट के मेरा चल दिए, वो हुस्न भी क्या थे

(मरहले- मंजिल)

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जब कभी तुम करीब से गुजर जाती हो

new prev new shayari pic

उदास लड़की जब तुम मुस्कुराती हो
मेरे सोये हुए अरमान को छेड़ जाती हो

मन के तार बज उठते हैं यूं तड़पकर
जब कभी तुम करीब से गुजर जाती हो

तुम्हारी तलाश में दिल कितना भटका
तुम मिली तो मुझे दर्द से भर जाती हो

जाने कब समझोगी अपने दीवाने को
इश्क में क्यों इतना इंतजार करवाती हो

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – जब गुजरा मुझे छूकर तेरी चाहत का सावन

new prev new shayari pic

जब गुजरा मुझे छूकर तेरी चाहत का सावन
प्यासी आंखों से टूटे ख्वाबों की बरसात हुई

देखता है वो मुझको तन्हाई में जागता हुआ
चांद कहता है कि सो जाओ बहुत रात हुई

उनके सवालों का आखिर हम क्या जवाब दें
लोग पूछते हैं कि उदास हो, क्या बात हुई

कोई मेरे दर्द को समझता नहीं है ऐ खुदा
तेरी दुनिया में ऐसे बेदर्दों से मुलाकात हुई

prev shayari green next shayari green

©rajeevsingh       शायरी