Tag Archives: उम्मीद शायरी

अपने दिल की सारी ख्वाहिशों को मसल चुके

shayari latest shayari new

जिंदगी तेरे इश्क में कितनी दूर हम चल चुके
मिला सुकूं कहीं नहीं, कितने शहर बदल चुके

घर की उम्मीदों को पूरी करने की कोशिश में
अपने दिल की सारी ख्वाहिशों को मसल चुके

आग बुझाने की कोशिश में सांस हम लेते रहे
सीने में उठते धुएं से कतरा कतरा जल चुके

मोम से ये वजूद मेरा बहुत जल्दी पिघलता है
दुख के इतने सांचों में अब तक हम ढल चुके

©rajeevsingh            शायरी

shayari green pre shayari green next

Advertisements

शायरी – किसकी सिसकी ये कहती है

new prev new shayari pic

कट कट के ही रात कटेगी
जाने कितने करवट बदेलगी

किसकी सिसकी ये कहती है
ऐ दरिया, तू चुपके से बहेगी

इश्क की राख अपने बदन पे
जिंदगी कब तक मलती रहेगी

जुगनू जैसी उम्मीद है बाकी
मुझमें तू जल जल के बुझेगी

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – कभी गली में वो दिखती नहीं

new prev new next

इश्क का ये उदास मंजर है
दर्द सीने में गड़ा खंजर है

वो हुस्न पिंजरे में बंद पंछी है
इधर दिल रोता घर के अंदर है

आंखें झरने की तरह गिरती हैं
जिस्म में भर गया समंदर है

कभी गली में वो दिखती नहीं
ये उम्मीद भी कितनी बंजर है

©RajeevSingh

शायरी – मुहब्बत में जिंदगानी यूं पाले बदलती है

love shayari hindi shayari

अपनी ही सांस किसी और की लगती है
मुहब्बत में जिंदगानी यूं पाले बदलती है

आज न कल हसीन चांद कहीं तो टपकेगा
इसी उम्मीद में ये जमीं दिन-रात चलती है

तेरा अक्स खींचता रह गया मैं गजलों में
न जाने कितने चेहरों में तू रोज मिलती है

कोई इस पार से उस पार आखिर कैसे पहुंचे
जब बीच समंदर में तू कश्ती से उतरती है

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जिस गम ने जीना सिखाया, बस उसका तकाजा है

love shayari hindi shayari

जिस गम ने जीना सिखाया, बस उसका तकाजा है
कि दिल अब तक ढो रहा मुहब्बत का जनाजा है

उम्मीदों के फूल गुलशन में कबके मुरझा चुके
जो बचा है खिजां में वो कांटों का तमाशा है

सावन से कह दो कि मेरे आंगन में ना बरसे
यहां पहले से आंखों को बरसने में मजा सा है

मुंतजिर है तेरी राह देखता कबसे एक मुसाफिर
उसको तेरे हुस्न में सुकूं पाने का दिलासा है

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जब तलक है ये जिंदगी, दिल में मेरी वफा है

prevnext

जब तलक है ये जिंदगी, दिल में मेरी वफा है
तेरी उम्मीद में जिए जाने का यही फलसफा है

माहताब निकलने में जाने कितनी देर है बाकी
गम की अंधेरी रात भी अब लगती बेवफा है

तेरी हसरत लेकर हम मरते रहे जो उम्रभर
यह जानकर ऐ दिलबर, तू हो गई क्यों खफा है

एक समंदर गुम हुआ अब गर्दिश की रेत में
साहिल पे है लिखा कि मुहब्बत की ये जफ़ा है

जफ़ा- जु्ल्म

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जिसे हम फूल की तरह इस दिल में खिला बैठे

love shayari hindi shayari

जुल्फ की ओट में कोई अमावस सा नजर आया
जब उसे देखा तो एक चांद बुझता सा नजर आया

कौन सुनसान सी राहों पे तन्हा चल रहा था कल
गौर से देखा तो मेरा ही साया सा नजर आया

जिसे हम फूल की तरह इस दिल में खिला बैठे
वही आखिर में सीने को चुभता सा नजर आया

तुम्हारा दर्द ही सहके हम उस मंजिल पे आ पहुंचे
जहां से आगे का रस्ता खोता सा नजर आया

बहुत उम्मीद है हमसे जमाने को मगर ऐ दिल
जमाने में जीना ही मुश्किल सा नजर आया

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जहां खो जाते हैं आवाज मेरी आहों के

love shayari hindi shayari

हम तेरा कर्ज कभी ना चुका पाएंगे
जितने आंसू दिए तूने, ना बहा पाएंगे

पूछने आए थे वो मुझसे मेरे दिल की खबर
कह दिया उनसे कि हम न बता पाएंगे

जख्म होते हैं हरे दर्द की आहट पाकर
तेरे आने की उम्मीद ना मिटा पाएंगे

बीत जाने दो ये रात भी यूं रोते हुए
ऐ मेरे दिल, हम तुझे न हंसा पाएंगे

जहां खो जाते हैं आवाज मेरी आहों के
ऐसे दर से तो कभी ना वफा पाएंगे

शायरी – मुश्किल हुआ है शहर में रहना मेरा, चलना मेरा

love shayari hindi shayari

मुश्किल हुआ है शहर में रहना मेरा, चलना मेरा
बस कुसूर इतना है कि रहता हूं मैं तन्हा बड़ा

सुबह का जख्म खाके वो भूल गए शाम को
लेकिन हमारा आज तक कोई भी जख्म नहीं भरा

ये लोग चाहते हैं कि उनकी तरह मैं बन जाऊं
सैकड़ों की भीड़ से लड़ने को हूं तन्हा खड़ा

जाने किस उम्मीद में वो घर बसाकर रह गए
मैं भटकता हूं तो वो कहते हैं मुझको सरफिरा

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जिसमें दर्द होता है, वो सच्चा प्यार करते हैं

prevnext

तन्हाइयों के गम आँखो से बहे जाते हैं
कुछ बात है दर्द में जो यूँ जीए जाते हैं
बहुत है तमन्ना कि एक मुस्कान चेहरे पे खिले
मगर तेरी उम्मीद में हम उदास हुए जाते हैं

सबको ऐतराज है दुनिया में मेरी फितरत पे
कि क्यूँ मैं तुमपे ये जाँनिसार करता हूँ
लोग कहते हैं कि सैकड़ों परियाँ हैं यहाँ
फिर जुदा होके क्यूँ तेरा इंतजार करता हूँ

दुनिया ये नहीं जानती कि जिनको दर्द होता है
वो जिस्म से नहीं, दिल से प्यार करते हैँ
और ऐसा दिल लाखों में किसी एक में रहता है
जिसमें दर्द होता है, वो सच्चा प्यार करते हैं

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – यही ख्वाहिश है जिस्मो-जां से लब तलक

love shyari next

टूटेंगे नहीं उम्मीद के तारे तब तलक
दुनिया में रहेंगे बेसहारे जब तलक

शाम बेचेहरा अक्स है इंतजारों का
रहेगा आईने-मुद्दत ये जाने कब तलक

तू फसाने को कागज पे लिखती तो है
मेरा किरदार नहीं लिखा तूने अब तलक

मेरी देहरी की सीढ़ी तेरे कदम चूमे
यही ख्वाहिश है जिस्मो-जां से लब तलक

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दे रहा हूं मैं ये इश्क की इम्तहां अपनी

love shayari hindi shayari

गमजदा रूह से लिखता हूं दास्तां अपनी
दे रहा हूं मैं ये इश्क की इम्तहां अपनी

मेरे सीने से छलकते हैं धड़कनों की सदा
आहटों की इस जुंबिश की है फुगां अपनी

अश्कों की झील में खिले फूल कई उम्मीदों के
वो समझ न सकी दर्द की ये जुबां अपनी

बंद आंखों में अटके रहे शबनम कितने
आईने से ये छुपाती हैं हर बयां अपनी

फुगां- रोना
जुंबिश- कंपन

©RajeevSingh #love shayari