Tag Archives: एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर स्टोरी

बीवी की बड़ी बहन से पति के रिश्ते बन गए और फिर अब घर टूटने की नौबत

मैं परी हूं।। मैं मेरी बेस्ट फ्रेंड के बारे में कुछ बताना चाहती हूं और उसकी लाइफ में बहुत प्रॉब्लम चल रही है…मैं हेल्प नहीं कर पा रही हूं इसलिए यहां उसकी स्टोरी पोस्ट करके आप सबके सपोर्ट और एडवाइस से मैं शायद उसकी लाइफ बचा सकती हूं।

मेरी बेस्ट फ्रेंड का नाम नेहा है, उसकी शादी को डेढ़ साल हो गए। लव मैरिज उसने की थी। लड़के से शादी के लिए मैंने भी उसको कहा था। उसकी एक बड़ी बहन है जिसके हसबैंड दो साल पहले गुजर गए। वो मायके में ही रहती है और नेहा हर तरह से बड़ी बहन की हेल्प करती रही, उसको संभालती रही।

pari friend story

लेकिन नेहा के पति और उसकी बड़ी बहन ने उसके विश्वास को ठेस पहुंचाई और धोखा देने लगे। दोनों एक दूसरे से मिलने लगे, फोन पर बात करने लगे, वाट्सएप पर चैट शुरू कर दिया। नेहा को एक बेटा है और उसकी बड़ी बहन के दो बच्चे हैं। अब हमें समझ नहीं आ रहा कि क्या करें…

कोई बाहर का होता तो समझ आता लेकिन खुद की बहन ने ही उसके पति के साथ रिश्ता जोड़ लिया। कैसे वो खुद को संभाले, कैसे मैं उसे समझाऊं? मुझे समझ नहीं आ रहा इसलिए जज्बात पेज पर पोस्ट कर रही हूं ताकि आप लोग बेस्ट सजेशन दें और मैं अपनी फ्रेंड की लाइफ बचा पाऊं।

उसने पति से इस बारे में बात की तो उसने नेहा की बड़ी बहन से रिश्ते को स्वीकार किया और कहा कि तुम दोनों को साथ रखूंगा। जब नेहा ने कहा कि किसी एक को चुनना पड़ेगा तो उसने उसकी बड़ी बहन को चुना।

मैंने नेहा को समझाया कि घर में बात कर लो और अब तलाक के सिवा कोई और रास्ता नहीं है क्योंकि अब हसबैंड के साथ रिश्ते का कोई फ्यूचर नहीं है। अगर वो उसकी बड़ी बहन से रिश्ते बना सकता है तो वो आगे भी धोखा ही करेगा लेकिन नेहा मानने को तैयार नहीं है…हर पल डर लगता है कि कहीं कुछ वो गलत कदम न उठा ले, मैं पूरी कोशिश करके समझा रही हूं लेकिन आप लोगों की हेल्प चाहिए…

पेज एडमिन राजीव की बात

ये काफी जटिल मामला है। पहले तो पूरी कोशिश ये होनी चाहिए कि बड़ी बहन रिश्ते से पीछे हट जाए। अगर वो नहीं हटती है तो फिर तलाक के सिवा कोई रास्ता नहीं।

Advertisements

पति दूसरी औरत के साथ नाजायज रिश्ता रखता है, मैं बहुत परेशान हूं

मैं मेघा हूं। मेरी शादी एक बिजनेसमैन से हुई है। मेरे दो बच्चे हैं। मुझे अपने पति से शिकायत है और उन लड़कियों से भी शिकायत है जो जानबूझकर मेरा घर बर्बाद करने पर तुली हुई हैं। एक शादीशुदा लड़की से मेरे पति के नाजायज रिश्ते हैं। मैं अपने पति को टोकती हूं, इस बात को लेकर झगड़ा होता है लेकिन पति में कोई सुधार नहीं है।

मैंने उस लड़की से बात की तो उसने कहा कि वो उसके पति को नहीं छोड़ सकती है क्योंकि वहां उसे पैसा भी मिल रहा है और बाकी चीजें भी। उस लड़की ने कहा कि फिजिकल रिलेशन क्या है, आज इसके साथ, कल उसके साथ, यह तो लाइफ का एक पार्ट है।

मैं अपने पति की फितरत से परेशान हूं। वो और भी कई लड़कियों से कॉन्टेक्ट में है और उन सबसे बात करता रहता है। अगर बच्चे नहीं होते तो मैं इसको कबके छोड़ देती। वैसे भी बच्चे बड़े हो जाएंगे तो मैं इसे छोड़ दूंगी। लेकिन फिलहाल क्या करूं, ये समझ में नहीं आ रहा है।

मैं उन लड़कियों से यह सवाल करना चाहती हूं कि क्या उनमें इंसानियत नहीं, क्या फिजिकल रिलेशन और पैसा ही सबकुछ है? किसी का घर बर्बाद कर उनको क्या मिलता है? अय्याश पति के सुधारने का कोई उपाय हो तो बताइए?

एडमिन राजीव का जवाब

समस्या ये है कि वैवाहिक जीवन में फंसी उस बीवी के पास पति को छोड़ना आसान नहीं होता जिसके पास अपना कोई आर्थिक साधन या पैसा कमाने का जरिया नहीं। साथ ही अगर बच्चे हों तो कोर्ट भी जल्दी तलाक नहीं देता। तलाक के मामले भी काफी लंबा खिंचते हैं। पैसा कमा रही कई महिलाएं भी पति से अलग होने की हिम्मत नहीं कर पाती हैं।

ऐसे समाज में पति को कैसे सुधारा जाय, इस सवाल का जवाब मिलना बहुत मुश्किल है। वैसे अगर आप चाहें तो उस घर में रहकर भी पति से अलग रह सकती हैं। बच्चों को अपनी जिंदगी बनाकर उनकी परवरिश में अपना ध्यान लगा सकती हैं। हां ये सही है कि पति को आप दूसरी औरत के साथ बर्दाश्त नहीं कर सकती हैं लेकिन पति अगर न सुधरे तो और रास्ता ही क्या बचता है?

पेज रीडर्स की सलाह

शादीशुदा महिलाओं का इंटरनेट पर टाइमपास वाला प्यार – भाग 1

इंटरनेट आने के बाद फेसबुक जैसे प्लेटफॉर्म पर ऐसे लोगों की बाढ़ आ गई जिनको सिर्फ टाइमपास के लिए किसी को पकड़ना था। ऐसे में प्रेम जाल से बेहतर और चैट पर कई तरह की बातें करने से अच्छा रास्ता और क्या हो सकता था। कई लोग फेक प्रोफाइल बनाकर बस इसी काम में लग गए। हाल में ऐसी कई कहानियां आईं जिसमें पति से परेशान शादीशुदा औरतें इंटरनेट पर लड़कों से बातचीत करते-करते तब गायब हो गईं जब लड़का मिलने के लिए या शादी करने के लिए फोर्स करने लगा।

ऐसी ही एक कहानी अभी-अभी आई। इसमें दो बच्चों की मां से लड़के की पहले दोस्ती हुई और फिर प्यार हो गया। दोनों बातचीत करते थे। लड़के का कहना था कि महिला को पति से परेशानी थी। लड़का उस महिला के साथ शादी के सपने देखने लगा और उसके बारे में सबकुछ जानकर भी उसके साथ जिंदगी बिताने की कोशिश में लग गया।

उसने घर में मां को ये बात बता दी। फिर उसने महिला को भी कहा कि वो बच्चों को संभाल लेगा। महिला ने उससे कहा कि अभी इंतजार करो तो लड़का बोला कि ठीक है, जितना कहोगी उतना इंतजार कर लूंगा। इसके बाद लड़का उस महिला को मिलने के लिए फोर्स करने लगा।

जिस दिन मिलने की बात तय हुई उस सुबह से महिला ने उस लड़के का कॉल उठाना या मैसेज का रिप्लाई देना बंद कर दिया। अब लड़का मानसिक रूप से परेशान होकर जिए जा रहा है। अब वो समझ चुका है कि महिला उसे छोड़ देगी।

हमारे समाज में आजकल शादीशुदा महिलाएं ये खूब कर रही हैं। पहले लड़कों से काफी बात करके टाइमपास करती है और जब लड़का आगे बढ़ना शुरू करता है तो ब्लॉक करके या नंबर बदलकर गायब हो जाती है। इंटरनेट पर अंजाने लोग चाहे महिला हो या पुरुष , उनसे दोस्ती या प्यार जैसे संबंध बढ़ाने से पहले इसके खतरों को जानिए। टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल जागरूकता के साथ कीजिए वरना रोने के सिवाय और कुछ हाथ न आएगा।

धारा 497- किसी मर्द से शादीशुदा औरत जब संबंध बनाती है तो सजा सिर्फ मर्द को ही क्यों?

आजकल धारा 497 काफी चर्चा में है। जब शादीशुदा औरत यानी किसी और की पत्नी से गैर मर्द के शारीरिक संबंध बनते हैं तो ऐसे मामले में मर्द के खिलाफ धारा 497 के तहत व्यभिचार का केस दर्ज किया जा सकता है। मर्द को पांच साल तक की कैद की सजा हो सकती है और उस पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है। धारा 497 के तहत उस शादीशुदा औरत पर कोई मुकदमा नहीं चलाया जा सकता जो स्वेच्छा से गैर मर्द के साथ संबंध बनाती है। केंद्र सरकार ने कहा है कि इस कानून को नहीं बदला जाना चाहिए क्योंकि शादी की संस्था को सुरक्षित रखने के लिए ऐसा किया गया है।

supreme court

धारा 497- मर्दों के खिलाफ कानून

इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई जिसमें कहा गया है कि धारा 497 में मर्दों के खिलाफ भेदभाव किया गया है। जब शादीशुदा औरत भी स्वेच्छा से शारीरिक संबंध बनाती है तो ऐसे में मर्द ही दोषी क्यों? औरतों को क्यों इस मामले में छूट दी जा रही है?

धारा 497- औरत मर्द की प्रॉपर्टी

याचिकाकर्ता का कहना है कि धारा 497 औरतों को मर्द की प्रॉपर्टी बनाता है। महिला का पति उस मर्द के खिलाफ केस दर्ज करा सकता है जिससे वो संबंध बनाती है। यह ठीक वैसा ही है जैसे कोई किसी की प्रॉपर्टी पर कब्जा कर ले तो प्रॉपर्टी मालिक कब्जा करने वाले के खिलाफ केस कर सकता है।

धारा 497- समानता और जीवन के अधिकार का उल्लंघन

याचिका में यह कहा गया है कि धारा 497 के तहत जो कहा गया है उससे संविधान की धारा 14 (समानता का नियम) और धारा 15 व 21 का उल्लंघन होता है जिसमें किसी को भी जीवन के अधिकार दिए गए हैं। इस याचिका में एक्सट्रा मैरिटल अफेयर संबंधों के लिए औरत और मर्द दोनों को समान रूप से जिम्मेदार बनाने की मांग की गई है।

धारा 497 पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा। केंद्र सरकार ने कहा है कि धारा 497 भारतीय समाज को देखकर बनाया गया है और इसमें महिलाओं को सुरक्षा दी गई है क्योंकि इससे शादी सुरक्षित रहेगी। फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने इसे संविधान पीठ के पास विचार के लिए भेजा है।

मैंने उसके लिए दुनिया छोड़ दी और वो फिर भी मुझे भूल गया – प्रीत की लव स्टोरी

मेरा नाम प्रीत है और मैं एक मिड्ल क्लास की हैंडिकैप लड़की हूं। उससे मेरी मुलाकात कोचिंग इंस्टीट्यूट में हुई थी। वो मुझे पहली नजर में ही बहुत अच्छा लगने लगा और मैं उसके पास वाली सीट पर ही बैठने लगी। धीरे-धीरे उसको भी मुझसे प्यार हो गया और वो मुझे देखने मेरी गली में आने लगा।

preet love story
—–
कुछ समय के बाद मेरी शादी की बात घर में होने लगी। जब मैं उससे ये कहती तो वो बहुत रोता और कहता कि मैं तेरे बिना नहीं रह सकता। मुझे भी उस पर पूरा भरोसा था पर हमारा धर्म अलग-अलग था और मेरे पैरेंट्स की समाज में एक पहचान थी जिस वजह से मैं ब्वॉयफ्रेंड के साथ शादी के बारे में कभी सोच नहीं पाई।
—–
वो भी ये जानता था कि शादी नहीं हो सकती तो हमने कभी शादी का सपना भी नहीं देखा पर एक वादा किया था कि हम एक दूसरे को कभी भी नहीं भूलेंगे। एक दिन मेरी शादी हो गई और जब मेरे फेरे हो रहे थे तो वो मेरे सामने बैठा बहुत रो रहा था। मुझे बहुत दुख हुआ कि मैं उसे छोड़कर जा रही हूं। कहीं वो कोई गलत कदम न उठा ले।
—-
मैंने उसके दोस्तों से उसका ख्याल रखने को बोला और मैं ससुराल आ गई। ससुराल में सब मुझे अपाहिज समझ रहे थे क्योंकि उन लोगों ने शादी सिर्फ दहेज के लिए ही की थी। मुझे वहां किसी का भी नेचर समझ नहीं आया। मेरे हसबैंड ने तो पहली रात में ही अपना असली रूप दिखा दिया। मैंने सब बर्दाश्त किया। सब लोग सिर्फ पैसों की ही बात करते रहते थे।
—–
मेरा दिमाग खराब होने लगा और हसबैंड से मेरी लड़ाई होने लगी। मुझे मेरे प्यार की याद आने लगी और मैं कुछ दिनों के लिए मायके आ गई। मैं जैसे ही स्टेशन पर उतरी, मेरा ब्वॉयफ्रेंड मेरे सामने था। बहुत बेबस सा, मायूस सा, मुझे उसको देखकर बहुत दुख हुआ। मैंने उससे बात की तो उसने मुझे अपने दोस्त के घर मिलने बुलाया।
—–
दोस्त के यहां वो मेरे गले लगकर बहुत रोया। बोलोा कि मैं नहीं जी पाऊंगा तेरे बिना। कहने लगा कि मैं आज तेरे सामने ही जान दे दूंगा। मैंने बहुत समझाया पर कुछ भी सुनने को तैयार नहीं था। मैंने पूछा कि क्या चाहते हो तुम, अब तो मेरी शादी हो चुकी है और अब तुम्हारा ये पागलपन सही नहीं है, तुम भी जल्दी शादी कर लो।

मेरी बात सुनकर उसने कहा कि ये नामुमकिन है, मैं तेरे जैसा नहीं हूं जो मुझे अकेला छोड़कर चली गई, मैं तेरी कसम खाता हूं कि तब तक शादी नहीं करूंगा जब तक तू मुझे अपना नहीं लेती, तू ससुराल छोड़ दे, वहां तुझे कोई नहीं चाहता, तू यहीं रह।
—-
ब्वॉयफ्रेंड ने कहा कि छोड़ दो अपने पति को जिसको तेरी परवाह नहीं। मेरे मन ने उसकी बात मान ली और मैं ज्यादातर मायके में ही रहने लगी। वो मुझे मेरी गली में रोज आकर देखता था। फोन पर उससे घंटों बातें होती थी। कई महीने बीत गए और मैंने उसके लिए अपने हसबैंड को अहमियत नहीं दी।
—–
एक दिन उसको किसी दूसरे शहर से जॉब का ऑफर आया और वो मुझे यहां छोड़कर चला गया। वहां उसकी एक दूसरी लड़की से दोस्ती हो गई और वे दोनों बहुत करीब आ गए। उसने मेरा फोन उठाना भी कम कर दिया। एक दिन मैंने फोन किया तो उसी लड़की ने उठाया। मैंने उसको अपने बारे में सारी बातें बता दी तो उसने कहा कि अगर आप उससे शादी कर सकती हो तो मैं उसे छोड़ दूंगी।
——
मैं यहां उसकी यादों में रोती रहती हूं। जो मेरे लिए आंसू बहाता था वो आज मुझे भूल गया। इधर मेरे ससुरालवाले भी नहीं चाहते कि अब मैं वहां रहूं और मेरा बीएफ भी मुझे भूल गया। जिसके लिए मैंने दुनिया छोड़ दी, क्या वो मेरा सच्चा दोस्त बनकर नहीं रह सकता था। आप ही बताइए, अब मेरे लिए क्या रास्ता है?

मैं पति से प्यार नहीं करती और बीएफ के लिए सबकुछ छोड़ सकती हूं – सिया की एक्सट्रा मैरिटल लव स्टोरी

मैं बिहार से सिया हूं। मेरी शादी 15 साल की एज में हो गई थी। मेरे दो बच्चे हैं। उस टाइम मैं समझदार नहीं थी तो पता नहीं था कि हसबैंड वाइफ का रिश्ता क्या और कैसा होता है। वो अपने एक कजिन के साथ भी रिश्ता बनाए हुए था। मैं पागल कुछ नहीं समझती थी। ऐसा करते-करते पांच साल बीत गए थे। फिर मैं प्रेग्नेंट हो गई और मेरी बेटी आ गई।

siya extra marital love story
—–
हम दोनों के बीच लड़ाई झगड़ा कभी खत्म नहीं हुआ न ही मैं अपने घरवालों को बता पाई। फिर 5 साल बाद दूसरी बेटी भी हो गई। मैंने हसबैंड की लड़ाई पर ध्यान देना बंद कर दिया। 2 साल पहले मेरी मां की डेथ हो गई और मैं अकेली पड़ गई। मैंने फोन यूज करना शुरू कर दिया।
—–
एफबी चलाने लगी तो एक लड़के से मेरी दोस्ती हुई। बात करने लगी। मैंने उसको अपने बारे में सबकुछ बता दिया। मैं उसके प्यार में पड़ गई। हसबैंड को पता चला तो मुझे मारा-पीटा। इसके बाद उस लड़के ने भी कॉन्टेक्ट तोड़ लिया। मेरा हसबैंड के साथ रिश्ता बस शरीर तक सीमित रह गया है। दो साल बाद अब वो लड़का फिर से मेरी जिंदगी में लौट आया है।
—–
लड़के ने कहा कि तुम्हारा हसबैंड तुमको परेशान कर रहा था इसलिए दूर हो गया था। उसके घरवालों ने उसकी शादी की बात चलाई तो उसने मुझे बताया कि मेरे बारे में उसने घर में बता दिया है। मैं अब उसके लिए सबकुछ छोड़ सकती हूं लेकिन वो बोलता है कि पहले बच्चों को देखो, मैं तुम्हारे साथ हूं।
—–
उसको मैं बोल चुकी हूं कि मैं तुम्हारे साथ भाग सकती हूं, वो फिर भी मना कर रहा है। वो बोलता है कि आगे बच्चों का क्या होगा, दुनिया क्या बोलेगी उनको। वो मेरा इंतजार कर सकता है, मुझे पता है। उसने कभी भी मुझसे मिलने के लिए नहीं बोला, ना हम कभी मिले हैं।
—–
उसने एक दिन सवाल किया कि मैं उससे कितना प्यार करती हूं तो मैंने कहा कि जितना मैं बच्चों से प्यार करती हूं, उससे एक कदम ज्यादा। फिर उसने कहा कि मैं प्यार पाने में तुम्हारे बच्चों से एक कदम पीछे रहना चाहता हूं।
——
उसको शादी की जल्दी नहीं है। वो बोलता है कि पहले बच्चों की शादी करोगी फिर अपना सोचना। पति से मेरा तो दो साल मेरा रिलेशन खत्म है, बस फिजिकल रह गया है। मैं बस उस लड़के के बारे में सोचती रहती हूं। पर अब शायद उसके पास मेरे लिए टाइम नहीं है। वो कहता है कि वो शायद ज्यादा दिन नहीं जिएगा। अभी हाल में हॉस्पिटल से आया है। उसने बताया कि 15 दिन तक वह हॉस्पिटल में रहा। उसके घरवाले मुझे दोषी ठहरा रहे हैं।
——
उसके घरवाले कह रहे हैं कि मेरी वजह से वो हॉस्पिटल गया है। मुझे उसने बताया कि मुझसे दूर होने की वजह से वह ड्रग्स लेने लगा था जिस वजह से वह बीमार हो गया। मैं बस उसकी खुशी चाहती हूं और उसके लिए परेशान रहती हूं।