Tag Archives: कयामत शायरी

शायरी – मैंने कुछ इस तरह से खुद को संभाला है

love shayari hindi shayari

मैंने कुछ इस तरह से खुद को संभाला है
तुझे भुलाने को दुनिया का भरम पाला है

अब किसी से मुहब्बत मैं नहीं कर पाता
इसी सांचे में एक बेवफा ने मुझे ढाला है

कौन मेरे सीने में उठा दर्द मिटा पाएगा
जब ये दिल ही इस जख्म का रखवाला है

कोई कयामत मुझे कभी डरा नहीं पाती
खुदा ने इस कदर मुसीबत में मुझे डाला है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत

love shayari hindi shayari

हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत
ऐसे में दिल-ए-आशिक कैसे रहे सलामत

एक बूंद दर्द में डूबा, तब बन गया समंदर
किसी बेवफा ने की थी उसपे कभी इनायत

सब सूख चुकी हैं वो गुलाब की पंखुरियां
संभाल के रखा था आखिरी तेरी अमानत

आंखों में जमा होके गिले-शिकवे हुए पानी
चेहरे पे बहता दरिया, आईने की है शिकायत

©RajeevSingh # love shayari

 

शायरी – हुस्न है जैसे एक कयामत और बला उसका अफसाना

love shayari hindi shayari

कलम चले हैं उसके खातिर, लिख डाला उसका अफसाना
हुस्न है जैसे एक कयामत और बला उसका अफसाना

शाख पे पत्तों के जीवन ने अक्सर दिल हैरान किया
पल-पल टूटने के खतरों से जूझता है उसका अफसाना

इस दुनिया में जाने कितने दर्द सुनाने आते हैं
मुश्किल है अब तय करना, कौन सा है किसका अफसाना

मंजिल की क्या फिक्र फकीरा, राह ही जिसका साथी है
चांद लिखता है रातों को आसमां पे उसका अफसाना

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – आग से सीने को भरिए, पानी को आंखो में रखिए

love shayari hindi shayari

आग से सीने को भरिए
पानी को आंखो में रखिए

आएगी एक दिन कयामत
दिल में थोड़ा धीरज रखिए

आपसे हैं मेरे मरासिम
आप रखिए या न रखिए

जाने कब प्यास जग जाए
पैमाने में दर्द को रखिए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुम्हारे गम से दिल रोता रहा रातभर तन्हा

love shayari hindi shayari

जमाना सो गया और मैं जगा रातभर तन्हा
तुम्हारे गम से दिल रोता रहा रातभर तन्हा

मेरे हमदम तेरे आने की आहट अब नहीं मिलती
मगर नस-नस में तू गूंजती रही रातभर तन्हा

नहीं आया था कयामत का पहर फिर ये हुआ
इंतजारों में ही मैं मरता रहा रातभर तन्हा

अपनी सूरत पे लगाता रहा मैं इश्तहारे-जख्म
जिसको पढ़के चांद जलता रहा रातभर तन्हा

(इश्तहारे-जख्म-  जख्म का इश्तहार)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं

love shayari hindi shayari

ऐसा लगता है मुझे तू रातभर सोयी नहीं
खा कसम मेरी कि तू रातभर रोयी नहीं

बन गयी है जुल्फें तेरी उजड़ी-उजड़ी सी बहार
आंधियों में घिर के भी तू चमन से गई नहीं

ये तेरा उदास चेहरा, ये तेरी गमगीन आंखें
आने से पहले जरा तू आईने में झांकी नहीं

हूं मैं हैरां देखकर कि क्या ये तेरा हाल है
इश्क में मुझपे कभी ऐसी कयामत आती नहीं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – हो जाता है दिल ये हल्का गम के आंसू रोने से

love shayari hindi shayari

चाहे कोई भी मौसम हो, सबको मैं अपनाता हूं
न कोई अपना, न ही पराया, सबको गले लगाता हूं

एक कयामत जब है गुजरती, दूजी कयामत आती है
जीवन के इस सच को भी मैं आठों पहर दुहराता हूं

सबके दिल के रहगुजरों पे कांटे ही देखे हमने
दर्द की कोई बात करे तो अपनी गज़ल सुनाता हूं

हो जाता है दिल ये हल्का गम के आंसू रोने से
लेकिन भारी मन लेकर ही आखिर में रह जाता हूं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – जी नहीं लगता आशियां में तेरे बिन शाम ढले

love shyari next

छू गई वो चांदनी काली घटा में छुप गई
इश्क की शमा जलाकर वो शहर में खो गई

हर अंधेरे में उजाला आस बनकर रहता है
तेरे आने की हर आहट जुगनू बनकर बुझ गई

जी नहीं लगता आशियां में तेरे बिन शाम ढले
रातों के इन रहगुजरों पे जिंदगी तन्हा रह गई

आईना दिल की दास्तां को रोज ही दुहराता है
एक कयामत संवर के उसमें, उसका दिल तोड़ गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जो रह गए थे दरम्यां वो फासले क्या थे

love shayari hindi shayari

जो रह गए थे दरम्यां वो फासले क्या थे
मसला-ए-दिल सुलझा नहीं, वो मामले क्या थे

तेरे इश्क में सूरत से मैं उदास हो गया
जिसे देखकर तू निखर गई वो आईने क्या थे

अपने ही कयामत में बसर कर रहा हूं मैं
जो दर्द बनके जी लिए वो मरहले क्या थे

शरमाए हुए आए थे जो मेरे दर के सामने
सब लूट के मेरा चल दिए, वो हुस्न भी क्या थे

(मरहले- मंजिल)

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – मुझसे मेरे ही खयालों में बात करती हो

love shyari next

हम भी लेते हैं इन चांद-सितारों से सबक
रोशनी हो तो वो दिखती है बड़ी दूर तलक

तेरे जादू से कयामत भी ठहर जाती है
आज भी दिल में रूकी है तेरे गम की कसक

मुझसे मेरे ही खयालों में बात करती हो
बंद रखता हूं तेरे खातिर अपने दोनों पलक

दिल के सागर में तो बस खारे आंसू हैं
मेरी आंखों ने भी देखे हैं तूफां की झलक

©RajeevSingh # प्यार शायरी