Tag Archives: किस्मत शायरी

शायरी – मौत से इश्क को मुहब्बत है

love shayari hindi shayari


दर्द ही इश्क की हकीकत है
मौत से इश्क को मुहब्बत है

बादल आवारा चांद क्यूं पाए
रोनेवालों की यही किस्मत है

ये जमाना तो मेरा दुश्मन है
और जमाने से मुझे नफरत है

कैसे भुलूं मैं जिंदगी में तुझे
मेरी तन्हाई की तू जरूरत है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – सौगात दी गम की चंद बरस के प्यार में उसने

love shyari next

कभी किस्मत ने दिया धोखा, कभी हमने उसे मारी ठोकर
जिंदगी यूं ही गुजरी खुद से लड़ने और झगड़ने में

सौगात दी गम की चंद बरस के प्यार में उसने
मौत के आखिरी पल तक तड़पे हम इंतजार करने में

जज्बातों के सौदे में हम साबित हुए अनाड़ी सौदागर
खुशियां बेचते रहे और मसरूफ रहे दर्द खरीदने में

इक प्यासी रूह है मेरे अंदर जिसे चाहत है चांद की
उम्र बीत गई मेरी बेदर्द आस्मा की की राह तकने में

 

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – यूं ही मरता है आशिक इस दुनिया में

love shyari next

दो कदम साथ चले तुम इस दुनिया में
मुद्दतों दर्द सहे हम इस दुनिया में

हमने आंचल जिसे समझा, कफन निकला
कितने धोखे हैं या रब इस दुनिया में

जुर्म ये तेरा नहीं है ओ जानेजां मेरी
मेरी किस्मत ही है मुजरिम इस दुनिया में

मौत ख्वाबों में भी आकर नहीं आती है
यूं ही मरता है आशिक इस दुनिया में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरी खातिर तेरे दिल में दुआ भी नहीं

love shayari hindi shayari

हमें तुम छोड़ गए हो, ये सोचा भी नहीं
जिसे तुम तोड़ गए हो, वो टूटा कि नहीं

तुम दामन में समेटती हो गैरों की वफा
मेरी खातिर तेरे दिल में दुआ भी नहीं

तेरी पलकों में बसे थे दर्द के शबनम
उन निगाहों में अब कोई हया भी नहीं

तेरा अक्स जवां है किसी और के आईने में
मेरी किस्मत में अब तेरा साया भी नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल लेके तेरे दर की चौखट पे आ गए

love shayari hindi shayari


दिल लेके तेरे दर की चौखट पे आ गए
हमदर्द की आवाज की आहट पे आ गए

गुजरे थे हम इधर से मुसाफिर की तरह
तेरी गली में आज भी आदत से आ गए

इस शहर में रहता हूं मैं इतने बरस से
अब सोचते हैँ हम यहां किस्मत से आ गए

तुम हसीन शायरी की तस्वीर  जैसी हो
तुझसे यही कहने की चाहत से आ गए


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जिनको भी गमे-इश्क में मौत मिल गई

love shyari next

जिनको भी गमे-इश्क में मौत मिल गई
समझो कि उसे मरने से फुरसत मिल गई

ना रोक तू हमें अब पीने से ऐ वाइज
कुछ जाम से मेरे रूह को जन्नत मिल गई

श्मशान मुझे कांधे पे ले जाने के लिए
रिश्तों को भी किस्मत से मोहलत मिल गई

दिल को कभी देखा नहीं मुझमें तो किसी ने
पर मुझको हरेक शख्स से नफरत मिल गई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इन गुलाबों में पलता है खुशबू सा कोई

love shyari next

दर्द दुनिया में सहकर चले जाना है
अपनी किस्मत पे रोकर चले जाना है

खोजते रह गए लेकिन मुहब्बत न मिली
तेरे दर से भी गुजरकर चले जाना है

उड़ रहे सूखे पत्तों को मुसाफिर न कहो
आँधियों में इसे उड़कर चले जाना है

इन गुलाबों में पलता है खुशबू सा कोई
तेरे हाथों में जिसे टूटकर चले जाना है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इस दर्द के सागर में दिल कैसे सलामत हो

love shyari next

कब जाने मरासिम हो, कब जाने मुहब्बत हो
इस आस में जीते हैं, एक दिन तो कयामत हो

किसका कदम बढ़ेगा, किसके रहगुजर पर
मंजिल तो दो तरफ हैं, दोनों में कशमकश हो

एक रंज सा होता है, सीने के सफीने में
इस दर्द के सागर में दिल कैसे सलामत हो

परवाज़ आसमां में उस चांद को छू लेता
गर उसके ही वश में मिलने की किस्मत हो

(मरासिम- रिश्ता, संबंध)
(सफीना- नाव)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे जैसा कोई भी गजल हो न सका

love shayari hindi shayari

मेरी तन्हाई में किसी का दखल हो न सका
मेरी किस्मत में कभी भी बदल हो न सका

यूं तो लिखी हैं हमने तुझपे ही सैकड़ों गजलें
पर तेरे जैसा कोई भी गजल हो न सका

मैं भी एक आशियां में बंद हूं दुनिया की तरह
तेरे बिन कैद में सुकूं से बसर हो न सका

इतनी बेचैनी है कि रूह निकल न जाए कहीं
हिज्र में मौत से भी मेरा मिलन हो न सका

(हिज्र- जुदाई)

शायरी – दिल को इश्क में जलने की किस्मत तो मिले

new prev new next

मेरे दिल में सुकूं को बरकत तो मिले
बेरहम दर्द को कहर ढाने से फुरसत तो मिले

अंधेरा ही अंधेरा बिखरा है मेरे आंगन में
चांद को इधर आने की मोहलत तो मिले

जिंदगी को आग में बदलते देर नहीं लगती
दिल को इश्क में जलने की किस्मत तो मिले

बेवफाई को खुलेआम बरसते देख लिया
इस शहर में मुझे सावन की मोहब्बत तो मिले

©RajeevSingh

शायरी – दर्दे जुदाई हम सह न सके

 

new prevnew shayari pic

दर्दे-जुदाई हम सह न सके
तेरे बिना हम रह न सके

किस्मत में था इस जनम में
जीकर भी जिंदा रह न सके

कोशिश की तुझे भूलने की
याद किए बिना रह न सके

अपनी खबर न जमाने की
पर तुमसे बेखबर रह न सके

©RajeevSingh

prev shayari greennext shayari green