Tag Archives: कुदरत शायरी

शायरी – ये खामोश दर्द, ये खामोश आह

love shayari hindi shayari


ये बंजर सी जमीं, ये बंजर आस्मा
ये बंजर सा शमा, ये बंजर दास्तां

काली सी घटा, काली सी हवा
है काले वक्त पे कुदरत के निशां

ये खामोश दर्द, ये खामोश आह
है खामोश इश्क, बेबस है जुबां

एक कली खिली मगर टूट गई
उसे लग गई शहर की आंधियां


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – दर्द कम न हो कभी इस दिल में

love shayari hindi shayari


दो चिरागों को आग मिल जाए
दो दीवानों की आंख मिल जाए

हुस्न और इश्क पास बैठे हों
कोई तो ऐसी शाम मिल जाए

दोनों रूहों का कुदरती रिश्ता
काश दोनों को खबर मिल जाए

दर्द कम न हो कभी इस दिल में
चांद को भी तो दाग मिल जाए


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मुझसे कुदरत की ख़ामोशियों की बात करो

love shayari hindi shayari

दर्द ये क्या है इस दर्द पे ही बात करो
और कुछ भी नहीं बस आंसुओं की बात करो

न ये दुनिया, न ही रिश्ते, न ही बंधन की
इन हवाओं में उड़ते पंछियों की बात करो

राज़ तन्हाई की और बोलियां निगाहों की
मुझसे कुदरत की ख़ामोशियों की बात करो

मुझे समझा न सकोगे कभी दोस्त मेरे
सोचने की नहीं, अहसासों की बात करो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दीवानों का ये पागलपन, ये फितरत आप क्या जाने

love shyari next

मुहब्बत आप क्या जाने, शराफत आप क्या जानें
अरे दुनिया के सौदाई, ये उल्फत आप क्या जानें

दिलों में जल रहे शोले, निगाहों से गिरे झरने
कभी महसूस न हो तो ये कुदरत आप क्या जानें

जिन्हें महबूब की सूरत से बेहतर कुछ नहीं दिखता
दीवानों का ये पागलपन, ये फितरत आप क्या जानें

न दौलत है न जागीरें, न रहने का ठिकाना है
फकीरों की तरह जीने की कीमत आप क्या जानें

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – ये नजर-नजर की बात है कि किसे क्या तलाश है

love shyari next

ये नजर-नजर की बात है कि किसे क्या तलाश है
तू हंसने को बेताब है, मुझे रोने की ही प्यास है

तुम फूल देखते हो जब, रख लेते हो उसे तोड़कर
मेरे लिए हर फूल इस कुदरत का हसीं ख्वाब है

तुम चाहते हो लोग तुम्हें देखें और तारीफ करें
हम सोचते हैं दुनिया में वो करता झूठी बात है

इन चांद-तारों में है क्या, इन हसीं नजारों में है क्या
उसे क्या पता जिसकी नजर पर दौलत का नकाब है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है

love shyari next

गम इस कदर बरस पड़े, सावन भी शर्मसार हो
इस हिज्र में दो आंखों से, कुदरत की तकरार हो

हर सिलसिला रूका रहे, हर जलजला थमा रहे
ठहरी-अंधेरी रात में खामोशी की झनकार हो

कोई रास्ता नहीं मिला खूने-जिगर को तब मुझे
ऐसा लगा कि जख्म भी खंजर से धारदार हो

मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है
मेरी मौत का शायद तुम्हें, मुद्दत से इंतजार हो

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल में दर्द बसाने की हसरत ही नहीं

new prev new next

तेरी दुनिया बेरहम हो चुकी मालिक
यहां आंसू बहाने की फुरसत ही नहीं

हर कोई परेशां है खुशियों के लिए
दिल में दर्द बसाने की हसरत ही नहीं

ऐसी दुनिया में कोई क्यों करे मुहब्बत
जिसने पहचाना तेरी कुदरत ही नहीं

जो सामने किसी के सच बोल देता हो
उनसे रखता यहां कोई सोहबत ही नहीं

©RajeevSingh