Tag Archives: कुरबान शायरी

शायरी संग्रह – आई हूं घर लौटकर तो उलझी सी हूं

new prev new shayari pic

तुझे देखकर अचानक बेजान हो गई
तेरी आशिक नजर पे कुरबान हो गई

तुमको लबों से कुछ कह भी न सकी
इस कदर मैं दिल से परेशान हो गई

आई हूं घर लौटकर तो उलझी सी हूं
मेरी सुबह से जाने कब शाम हो गई

घरवाले पूछते हैं कि क्या हुआ है मुझे
मेरी जिंदगी तो अब इम्तहान हो गई

©rajeevsingh             हिंदी शायरी

prev shayari green next shayari green

Advertisements

शायरी – जिनके दर्द पे हम दिल से कुरबान हो गए

love shayari hindi shayari

जिनके दर्द पे हम दिल से कुरबान हो गए
वो मेरे आंसुओं को बेचकर धनवान हो गए

जब पाया कि अब हम हैं किसी काम के नहीं
तो उनके पैरों तले कुचले गए सामान हो गए

दुनिया बड़ी बुरी है, ये दिल जानता है क्या
खा-खाके चोट हम तो अब परेशान हो गए

किसी यार की वफा को पा जाने के खातिर
जाने क्यों हम बेवफाओँ पे मेहरबान हो गए

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – अब आप कत्ल भी कर दें तो कोई गम नहीं

new prev new shayari pic

आपकी अदाओं पर ये दिल कुरबान करते हैं
आपकी नजर ए इनायत को सलाम करते हैं

आप आईं मेरी तरफ इश्क का चिराग लेकर
हम आपके नूर से जज्बातों को जवान करते हैं

दिल में दबे जख्म हैं मरहम के इंतजार में
आप ही तो इलाज ए दर्द का इंतजाम करते हैं

अब आप कत्ल भी कर दें तो कोई गम नहीं
मोहब्बत में मर मिटने का हम ऐलान करते हैं

©राजीव सिंह शायरी