Tag Archives: कोरा कागज शायरी

शायरी – लिखती हूं तेरा नाम, तेरे इंतजार में

love shayari hindi shayari

प्यासी मैं प्यासी कितना तेरे इस प्यार में
जीना मरना अब यारा तेरे इस प्यार में

दिल की किताबों में हमने लिखा है
कोरे कागज पे तेरा नाम लिखा है
लिखती हूं तेरा नाम, तेरे इंतजार में
प्यासी मैं प्यासी इतना तेरे इंतजार में

ले ले तू इम्तहान मेरी वफा का
कुछ तो खबर लो मेरी खता का
दर्द है कितना मेरे दिले बेकरार में
प्यासी मैं प्यासी इतना तेरे इस प्यार में

कसम है, कसम है ऐ दूर रहनेवाले
दीवाने हम हैं ऐेसे दुआ करनेवाले
तुझको मांगू रब से सुबहो शाम मैं
प्यासी मैं प्यासी इतना तेरे इस प्यार में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – तुम मेरे दर्द को मिटा दोगी एक दिन

prevnext

अपने दिल के सनमखाने के हर जर्रे पे
आँसुओं से तेरे नाम लिखे हैं हमने
ये ख़ामोशी और दर्द के अफ़साने
कोरे कागज़ पे सजाए हैं हमने

ये जो पत्थर के बेदिल मकान हैं
इस दुनिया की गलियों के श्मशान हैं
तन्हाई के जिंदादिली के साये में
तुमको ख़यालों में बसाए हैं हमने

राहों के मुकद्दर में कई मुसाफिर हैं
पर मेरी पगडंडियों पे तू अकेली है
इस भीड़ भरी अंधेर नगरी में
तेरे नूर के माहताब जलाए हैं हमने

मेरी दीवानगी छलक न जाए आंखों से
हम हर फुगां को दिल में दबा लेते हैं
तुम मेरे दर्द को मिटा दोगी एक दिन
इसी उम्मीद में जख्म संभाले हैं हमने

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – वो जो तन्हा सा, परेशां सा है

जब इश्क होता है जिंदगी तन्हा और परेशान सी हो जाती है। ये भी सच है कि दिल नादान न होगा तो इश्क भी न होगा। किसी से प्यार के लिए थोड़ी नादानी चाहिए वरना अक्ल के पास इश्क का इल्म कहां। लेकिन महबूब की तलाश में जब दिल पड़ता है तो उसी वक्त वो अकेला हो जाता है क्योंकि उसे दुनिया में कोई ऐसा नजर ही नहीं जिससे वो प्यार करे।

dil ka tamasha shayari image
Tu Apni Aashiqui Se Hi Badnam Huaa Hai
Har Koi Tujhe Dushman Najar Aayega Ek Din

फिर अचानक दिल किसी का चेहरा तलाशने लगता है। उस चेहरे को सीने में उकेरते हुए, आईने में उसका चेहरा देखते हुए मन कहीं खोने सा लगता है और आशिक खुद से अजनबी होता चला जाता है। वो खुद ही नहीं पहचान पाता कि वो कौन है और उसे भी पहचान नहीं पाता जिसके लिए वो खोया है।

दुनिया की भरी महफिल में फिर वो कोई कोना तलाशने लगता है जहां वो इस भीड़ से दूर उसे याद कर सके। उसे दुनिया की कोई रवायत अच्छी नहीं लगती, कोई जश्न उसे रास नहीं आता। इश्क का ऐसा असर होता है…

चेहरा जैसे कोरा कागज सा बन जाता है। उस पर आंसुओं से हर जगह उसी का नाम लिखा होता है। इश्क का दर्द आंखों से झलकता है और छलकता है, फिर चेहरे पर वो तमाम निशानियों को छोड़ता हुआ रातें काटता है।

ऐसी ही तन्हाई और इश्क के अहसास को इस गजल में पिरोया गया है। एक आशिक के वजूद और जेहन पर लिखी गई यह गजल एक तस्वीर है जिसमें हर सच्चा प्यार करनेवाला ढलता है।

वो जो तन्हा सा, परेशान सा है
इस दुनिया में दिले-नादान सा है

जाने क्या खोया उसका अपना
अजनबी खुद से ही अंजान सा है

इस जमाने की भरी महफिल में
किसी कोने में रखे सामान सा है

कोरे कागज से उदास चेहरे पे
आंसुओं से लिखा बयान सा है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari