Tag Archives: खंजर शायरी

शायरी – मौत यूं भी तेरे हाथों लिखी है जालिम

love shayari hindi shayari

जानेजां हूं मैं अब तेरा गुनहगार सही
ले तू खंजर और कर दे आर-पार सही

मौत यूं भी तेरे हाथों लिखी है जालिम
जो लिखी है उसे तू पढ़ ले एक बार सही

सामने तुम जो रहोगी तो मर न पाऊंगा
चाहे खंजर ये चुभाओगी कई बार सही

जानता हूं कि ये सजा भी न दे पाओगी
आ भी जाऊं तेरे दर पे मैं बार-बार सही

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

शायरी – तूने आशिकी में मेरे दिल के टुकड़े किए

love shayari hindi shayari

जख्मे-दिल सीने में दरिया सा बहता है
मेरे खूने-जिगर में तेरा खंजर रहता है

तूने आशिकी में मेरे दिल के टुकड़े किए
तेरा जाना मुझे शीशे की तरह चुभता है

कोई अंजाम बाकी नहीं मेरे जीवन में
दर्द ही दर्द आठों पहर आंखों से रिसता है

जहां भी रहो, तुम खुश रहना मेरी जान
ये दिल तेरी खातिर यही दुआ करता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज की रात बरसेगा रातभर

love shyari next

आज की रात बरसेगा रातभर
अश्क नजरों से बहेगा रातभर

जुदाई के हाथ में खंजर होगा
मेरा सीना छलनी होगा रातभर

बेखुदी दिल में रहेगी मेजबानी में
दर्द मेहमान बन रहेगा रातभर

जिसने ठुकराया हमें जमाने में
आज वो याद आएगा रातभर

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरे हमराह तेरी राह के हम मुसाफिर हैं

love shayari hindi shayari

खंजर मेरे दिल को खून से तर कर दे
ऐ पत्थर मेरी आंखों में तू पानी भर दे

तू सूरज है, चंदा है, शम्मा भी है
मेरे अंधियारे जीवन में रोशनी भर दे

मेरे हमराह तेरी राह के हम मुसाफिर हैं
तू मेरे संग चले, ऐसा मंजर कर दे

रात बीते हैं जैसे गुजरते हैं सितम
तू कभी आके अमावस को पूनम कर दे

©RajeevSingh # love shayari

 

शायरी – कौन समझाएगा इश्क में रोनेवालों को

love shyari next

वो आंखों में समंदर की तरह आता है
आईने में भी पत्थर की तरह आता है

कौन समझाएगा इश्क में रोनेवालों को
टूटा सपना भी दिलबर की तरह आता है

वक्त-बेवक्त बेसबब बेतकल्लुफ सा
मेरे सीने में वो खंजर की तरह रहता है

ना गमगीन हो मेरे दोस्त मेरी मैयत पे
कोई दुनिया में मुसाफिर की तरह आता है

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – ये दर्द तेरा मेरी जान न ले जाए

love shayari hindi shayari

ये दर्द तेरा मेरी जान न ले जाए
मेरे दिल के सारे अरमान न ले जाए

ऐ मुकद्दर कुछ तो करो हमारे लिए
उनको कोई धनवान न ले जाए

मैं रोता हूं दिल से उनके खातिर
कोई उन तक ये पैगाम न ले जाए

मेरी चाहत मुझे चुभती है खंजर सी
ये जख्म कहीं मेरी जान न ले जाए

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – चिड़िया है मुंतजिर कि आप जाल डालिए

love shayari hindi shayari

खंजर न शमशीर पर आप धार डालिए
अपनी ही दो नजर से हमें मार डालिए

मेरे मरमरी से दिल को कोई पूछता नहीं
नाजुक से इस गुलाब को जरा तोड़ डालिए

इस रंगमहल में है मेरी बेरंग जिंदगी
अपनी अदा से इसमें कुछ रंग डालिए

हम जी नहीं सकते हैं अब आपके बिना
चिड़िया है मुंतजिर कि आप जाल डालिए

(मुंतजिर- इंतजार में)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – फिर क्यूं शिकायत करें बेवफा से

love shayari hindi shayari

दुख भी सहा था दिल की रजा से
फिर क्यूं शिकायत करें बेवफा से

करजदार हूं मैं दुनिया में सबका
दगा भी मिले हैं सबकी दुआ से

खंजर को पहलू में रखा था लेकिन
चलाया था खुद पे अपनी अदा से

तेरा आशियाना तुम्हीं को मुबारक
मुसाफिर को क्या काम ऐसी बला से

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

prevnext

महसूस करेगा वो मेरे दर्द की जुबाँ
मेरी उदासियाँ भी सुनाएगी दास्ताँ

पतझड़ की बारिशों में वो भीग गया है
अब धूप के लिए जलाएगा आशियाँ

लाएगा रंग इश्क ये उसमें इस तरह
अपनी चिता के वास्ते खोजेगा लकड़ियाँ

अपने ही लहू से लिखेगा मेरा नाम
अपने ही खंजर से तराशेगा ऊंगलियाँ

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – जाने कैसा जादू किया है तूने मुझपे ओ कातिल

prevnext

प्यार की कोई हद समझना, मेरे बस की बात नहीं
दिल की बातों को न करना, मेरे बस की बात नहीं

कुछ तो बात है तुझमें तब तो दिल ये तुमपे मरता है
वरना यूँ ही जान गँवाना, मेरे बस की बात नहीं

जाने कैसा जादू किया है तूने मुझपे ओ कातिल
खंजर को सीने से हटाना, मेरे बस की बात नहीं

जब तक ये यकीं न हो कि मुझे सीने से लगाओगे
तब तक तेरे करीब जाना, मेरे बस की बात नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तुमसे तेरी ही शिकायत मैं भला कैसे करूं

love shyari next

जिंदगी तेरी इबादत मैं भला कैसे करूं
तुमसे तेरी ही शिकायत मैं भला कैसे करूं

दर्द को दिल में समेटा है मरने के लिए
अब कोई भी चाहत मैं भला कैसे करूं

टूट जाएगा ये आईना, छूट जाएगा जिस्म
इस हकीकत से बगावत मैं भला कैसे करूं

जो मुझे ना दिखे पर सीने पे खंजर मारे
ऐसे दुश्मन से अदावत मैं भला कैसे करूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है

love shyari next

गम इस कदर बरस पड़े, सावन भी शर्मसार हो
इस हिज्र में दो आंखों से, कुदरत की तकरार हो

हर सिलसिला रूका रहे, हर जलजला थमा रहे
ठहरी-अंधेरी रात में खामोशी की झनकार हो

कोई रास्ता नहीं मिला खूने-जिगर को तब मुझे
ऐसा लगा कि जख्म भी खंजर से धारदार हो

मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है
मेरी मौत का शायद तुम्हें, मुद्दत से इंतजार हो

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – अगर पत्थर के सीने में भी कोई दर्दे-दिल होता

love shyari next

अगर पत्थर के सीने में भी कोई दर्दे-दिल होता
किसी शीशे को ये तोड़े, कभी मुमकिन नहीं होता

मसीहा ने जमाने को सिखाया राह पे चलना
मगर दुनिया में कोई सच्चा मुसाफिर नहीं होता

जिस्म में दर्द ही रूह का अहसास करता है
हर किसी के सीने में ये जख्म का खंजर नहीं होता

दाग ये धुल न जाए, आग ये बुझ ना जाए
इश्क में इनके सिवा और कुछ हासिल नहीं होता

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari