Tag Archives: खंजर शायरी

शायरी – मौत यूं भी तेरे हाथों लिखी है जालिम

love shayari hindi shayari

जानेजां हूं मैं अब तेरा गुनहगार सही
ले तू खंजर और कर दे आर-पार सही

मौत यूं भी तेरे हाथों लिखी है जालिम
जो लिखी है उसे तू पढ़ ले एक बार सही

सामने तुम जो रहोगी तो मर न पाऊंगा
चाहे खंजर ये चुभाओगी कई बार सही

जानता हूं कि ये सजा भी न दे पाओगी
आ भी जाऊं तेरे दर पे मैं बार-बार सही

©RajeevSingh #love shayari

Advertisements

शायरी – तूने आशिकी में मेरे दिल के टुकड़े किए

love shayari hindi shayari

जख्मे-दिल सीने में दरिया सा बहता है
मेरे खूने-जिगर में तेरा खंजर रहता है

तूने आशिकी में मेरे दिल के टुकड़े किए
तेरा जाना मुझे शीशे की तरह चुभता है

कोई अंजाम बाकी नहीं मेरे जीवन में
दर्द ही दर्द आठों पहर आंखों से रिसता है

जहां भी रहो, तुम खुश रहना मेरी जान
ये दिल तेरी खातिर यही दुआ करता है

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज की रात बरसेगा रातभर

love shyari next

आज की रात बरसेगा रातभर
अश्क नजरों से बहेगा रातभर

जुदाई के हाथ में खंजर होगा
मेरा सीना छलनी होगा रातभर

बेखुदी दिल में रहेगी मेजबानी में
दर्द मेहमान बन रहेगा रातभर

जिसने ठुकराया हमें जमाने में
आज वो याद आएगा रातभर

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – मेरे हमराह तेरी राह के हम मुसाफिर हैं

love shayari hindi shayari

खंजर मेरे दिल को खून से तर कर दे
ऐ पत्थर मेरी आंखों में तू पानी भर दे

तू सूरज है, चंदा है, शम्मा भी है
मेरे अंधियारे जीवन में रोशनी भर दे

मेरे हमराह तेरी राह के हम मुसाफिर हैं
तू मेरे संग चले, ऐसा मंजर कर दे

रात बीते हैं जैसे गुजरते हैं सितम
तू कभी आके अमावस को पूनम कर दे

©RajeevSingh # love shayari

 

शायरी – कौन समझाएगा इश्क में रोनेवालों को

love shyari next

वो आंखों में समंदर की तरह आता है
आईने में भी पत्थर की तरह आता है

कौन समझाएगा इश्क में रोनेवालों को
टूटा सपना भी दिलबर की तरह आता है

वक्त-बेवक्त बेसबब बेतकल्लुफ सा
मेरे सीने में वो खंजर की तरह रहता है

ना गमगीन हो मेरे दोस्त मेरी मैयत पे
कोई दुनिया में मुसाफिर की तरह आता है

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – ये दर्द तेरा मेरी जान न ले जाए

love shayari hindi shayari

ये दर्द तेरा मेरी जान न ले जाए
मेरे दिल के सारे अरमान न ले जाए

ऐ मुकद्दर कुछ तो करो हमारे लिए
उनको कोई धनवान न ले जाए

मैं रोता हूं दिल से उनके खातिर
कोई उन तक ये पैगाम न ले जाए

मेरी चाहत मुझे चुभती है खंजर सी
ये जख्म कहीं मेरी जान न ले जाए

©RajeevSingh #love shayari