Tag Archives: खामोशी

शायरी – तुझे सोच सोच कर जीने मरने लगा हूं

shayari latest shayari new

शायरी तेरी खामोशी

तुझे सोच सोच कर जीने मरने लगा हूं
कैसे कहूं मैं तुमसे प्यार करने लगा हूं

चुपके से एक नजर तुझे देखने के लिए
बार बार घूमकर तेरे पास आने लगा हूं

तेरी खामोशी इतनी दिलकश लगती है
अब गुमसुम सा अक्सर मैं रहने लगा हूं

कर लेता हूं तुमसे मैं इधर उधर की बातें
तुम समझती नहीं कि क्या करने लगा हूं

©rajeevsingh                             shayari

shayari green pre shayari green next

Advertisements

शायरी – उसे फिर से पा लिया जिसे खो चुका था मैं

love shayari hindi shayari

उसे फिर से पा लिया जिसे खो चुका था मैं
फिर से मिली सांस वरना मर चुका था मैं

अच्छा हुआ फिर रास्तों पर तुम मिल गए
तेरी यादों के हर जख्म से उबर चुका था मैं

कांटे जब दिल को फूल सा सुख देने लेगे
उससे पहले दर्द से बहुत गुजर चुका था मैं

इश्क की खामोशी में कहां तक सुकूं मिले
बेचैन रात में सन्नाटा सा पसर चुका था मैं

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – प्यासा है तू बरसों बरस से

love shayari hindi shayari

उसी मोड़ पे क्यूं आया मुसाफिर
जहां पर मैं पहले से ही खड़ी थी
पल भर में तुमसे इश्क हुआ था
पल भर ही तो निगाहें लड़ी थी

तुझे देखकर मुझे ऐसा लगा था
कि प्यासा है तू बरसों बरस से
आंखों में शबनम, जुबां पे खामोशी
सूरत में तेरे उदासी जड़ी थी

तूने भी मुझको नजर भर के देखा
मैंने भी तुमको जरा डर के देखा
कुछ तेरी आंखों में हमने पढ़ी थी
कुछ मेरी आंखों ने तुमसे कही थी

अगर मेरा तुमसे है कोई मरासिम
तो आओ चलें हम हसीं सफर पे
नहीं थी खबर ऐ नादां मुसाफिर
हमारे भी किस्मत में ऐसी घड़ी थी

मरासिम – संबंध

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे दिल में छुपा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

love shayari hindi shayari

तेरे दिल में छुपा क्या है, खुदा जाने या तू जाने
लकीरों में लिखा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

खयालों का वो शहजादा जो तेरे पास आता है
तू पहचाने उसे कब तक, खुदा जाने या तू जाने

मेरी आहें छलकती हैं या खामोशी के हैं शबनम
निगाहों की सदा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

कभी मुझसे मिलोगी तो हकीकत खुल ही जाएगी
वो मोहलत आएगा कब तक, खुदा जाने या तू जाने

©RajeevSingh #love shayari