Tag Archives: खुदगर्ज शायरी

शायरी- हुआ फूलों का कत्ल अभी

love shayari hindi shayari


खत्म न होंगे ये दर्द कभी
याद रह जाएंगे हमदर्द सभी

जो बहता है, वो रूकता नहीं
हो जाएगा वो सर्द कभी

जाने किस बुत की इबादत में
हुआ फूलों का कत्ल अभी

जिस्म है जिसमें दिल ही नहीं
हो चुके हैं खुदगर्ज सभी


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दिल के मसले पे न बनिए खुदगर्ज सनम

love shayari hindi shayari

दिल से गुजरे हैं इस तरह से हमदर्द सनम
दर्द ही दर्द ही दे गए हैं वो हमदर्द सनम

क्या खबर थी कि आप इतना दर्द देते हैं
हम तो समझे थे कि आप भी हैं बेदर्द सनम

बांटकर देखिए हमसे भी अपने गम को
दिल के मसले पे न बनिए खुदगर्ज सनम

आपकी हूं और हमेशा आपकी ही रहूं
यही ख्वाहिश है, आप समझें मेरा दर्द सनम

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – रोशनी के लिए तेरी याद जला लेते हैं

love shyari next

जख्म खाकर ही अपनी भूख मिटा लेते हैं
आंसू पीकर ही अपनी प्यास बुझा लेते हैं

झलकता है हर आईने में खुदगर्ज कोई
अपने चेहरे से हम आंखें हटा लेते हैं

मेरी रातों को दीपक की जरूरत ना रही
रोशनी के लिए तेरी याद जला लेते हैं

लोग मरते रहे जन्नत की खुशियों के लिए
और हम हैं कि अपना हर दर्द बढ़ा लेते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari