Tag Archives: खुशबू शायरी

शायरी – प्यार के अहसास पर मर मिटा है दिल

love shyari next

सफर वहीं तक है जहां तक तुम हो
नजर वहीं तक है जहां तक तुम हो

हजारों फूल देखे इस गुलशन में मगर
खुशबू वहीं तक है जहां तक तुम हो

चांद और सूरज भी आके यही कहते हैं
रोशनी वहीं तक है जहां तक तुम हो

प्यार के अहसास पर मर मिटा है दिल
जिंदगी वहीं तक है जहां तक तुम हो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – है कौन सा ये शहर, जहां कोई न हमसफर

#100 दर्द शायरी

है कौन सा ये शहर, जहां कोई न हमसफर

बस्तियों में गुल खिले हैं, पर खुशबू है बेअसर

सुबहो शाम उदास है, रात रोती कराह कर

धूप निकलता शोला सा, चांदनी थोड़ी मुरझा कर

  1. तेरे इश्क में दीवाना मरता नहीं कभी
  2. माना कि तेरे हुस्न के काबिल नहीं हूं मैं
  3. कोई इल्ज़ाम न लेगी वो अपने सर पे
  4. आह और दर्द बस तेरा तलबगार हुआ
  5. तू न आई तो अधूरी है जिंदगी की गजल

शायरी – अपने खयालों में देखा जिनको

love shayari hindi shayari


दोनों चिरागों में दो समंदर
देखा है उनकी आंखों के अंदर

अपने खयालों में देखा जिनको
आज नजर में आए वो दिलबर

जुल्फें या आंखें, चेहरा या चितवन
हरसू हैं उनमें जलवों के खंजर

नाजुक बदन जब निकले फिजा में
खुशबू से भर जाए सारा मंजर


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द खुद को ही यूं मिटाता है

love shyari next

किसने तोड़ा है सागर मैखाने में
कोई टूटा है शायद मैखाने में

मैंने सर पे कफन जबसे बांध लिया
सब डरते हैं मुझसे जमाने में

दर्द खुद को ही यूं मिटाता है
अश्क दिखते नहीं सिरहाने में

आज भी सीने में वो खुशबू है
कोई आया था कभी इन बाहों में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हर आदमी में वफा हो ऐसा हो नहीं सकता

love shayari hindi shayari

हर आदमी में वफा हो ऐसा हो नहीं सकता
गुलशन का हरेक फूल खुशबू दे नहीं सकता

तुम मुझसे मुखातिब हो ऐसे क्यूं देखते हो
क्या मेरे सिवा तुमको कुछ और नहीं दिखता

मेरा दर्दो-बयां सुनकर ऐसे वो हंस पड़े
जैसे रोने का उन्हें कभी मौका नहीं मिलता

सब साथ चल पड़े थे मगर राह तो कई थे
हर मोड़ पे बिछड़ा हुआ फिर साथ नहीं चलता

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – फूल बन जाएंगी कलियां मेरे आंचल की

love shayari hindi shayari

दूर बैठ रहोगे, पास न आओगे कभी
ऐसे रूठोगे तो जान ले जाओगे कभी

फूल बन जाएंगी कलियां मेरे आंचल की
अपने दामन की खुशबू से जो सींचोगे कभी

हाथ गालों पे लिए, दर्द को आंखों में
ऐसी तस्वीर में मुझको भी पाओगे कभी

एक नदी कह रही तुमसे कि रोते क्यूं हो
उसके पानी को आंखों में क्या रखोगे कभी

©RajeevSingh #love shayari