Tag Archives: खुशी शायरी

शायरी – कहीं पर भी मगर इश्क का बसेरा नहीं निकला

new prev new shayari pic

इधर वो चांद डूबा था उधर सूरज नहीं निकला
गमे दिल से कभी खुशी का सबेरा नहीं निकला

आवारगी की जिंदगी तो जिंदगीभर चलती रही
कहीं पर भी मगर इश्क का बसेरा नहीं निकला

जमाने में जाने किस किसको नागन डस चुकी
उसे पकड़ने को डर से कोई सपेरा नहीं निकला

जब जब मुसीबतों में घिर गया था मैं बुरी तरह
मुझे बचाने को घर से वो यार मेरा नहीं निकला

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – मेरी जान अब तुमको भुलाना है मुश्किल

love shayari hindi shayari

ये जीवन तेरी याद में बिताना है मुश्किल
मेरी जान अब तुमको भुलाना है मुश्किल

तेरे इश्क में सनम हम इतना रो चुके हैं
हंसती हुई दुनिया में मुसकाना है मुश्किल

दर्द का वजन इस कदर बढ़ चुका कि
अब जरा सी खुशी भी उठाना है मुश्किल

कहां जाएं हम इस उदासी को लेकर
तुझे गमजदा चेहरा दिखाना है मुश्किल

किस-किसको समझाएं, सब हमसे खफा हैं
अब अपने ही घर में ठिकाना है मुश्किल

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – इन भरी आंखों से दुआ न दो

love shyari next

बुझ गए चांद को सदा न दो
इस कदर दिल को सजा न दो

तुम किसी की खुशी के लिए
इन भरी आंखों से दुआ न दो

जिसने दुनिया में जीना सीखा
उसके ईमान का वास्ता न दो

हुस्न और सादगी का वो चेहरा
यादकर दर्द को रास्ता न दो

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जुल्म करती है जब मुझपे तन्हाई

love shyari next

बेवफा हो गया है दर्द मुझी से
दूर का रिश्ता हो गया खुशी से

एक बादल का टुकड़ा उड़ता था
हमने बरसते देखा उसे बेबसी से

कोई कश्ती जब किनारे लगती है
वो ठहरती है कितनी खामोशी से

जुल्म करती है जब मुझपे तन्हाई
कत्ल करता हूं अपनी बेखुदी से

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इश्क में दिल मेरे ये तो होना ही था

love shayari hindi shayari

आसमां देखने में खता हो गई
चांदनी आज मुझसे खफा हो गई

मेरे कदमों ने जिसपे भरोसा किया
राह अक्सर वही बेवफा हो गई

जिंदगी ऐसे मंजर दिखाती रही
मुझमें रोने की ताकत दफा हो गई

इश्क में दिल मेरे ये तो होना ही था
एक खुशी थी जो हमसे जुदा हो गई

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – मैं किसी की ख्वाहिशों का गुलाम नहीं

love shayari hindi shayari

मैं किसी की ख्वाहिशों का गुलाम नहीं
मेरी आजादी का लेना कभी इम्तहान नहीं

दिल भले ही मुहब्बत के लिए रोता है
मगर हमने लिया कभी तेरा अहसान नहीं

आग की लहरों में देखा कीए अपना चेहरा
आईनों का किया घर में कभी इंतजाम नहीं

क्यूं नहीं आई खुशी तेरी जिंदगी में ऐ दोस्त
तुम लोगों की तरह हंसे कभी सरेआम नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari