Tag Archives: खूने जिगर शायरी

शायरी – ये हुस्न देखकर ही तो वो चाँद परेशान है

love shayari hindi shayari

गम की नजर से देखिए, दिल के असर से देखिए
है अश्क भी लाल रंग, खूने-जिगर से देखिए

तैराक भी कितने यहां प्यासे ही मर गए
संसार की नदी में भी जरा फिसल के देखिए

खुशबू से भीग जाएगी नाजुक सी उंगलियां
मेरे दिए गुलाब को आप मसल के देखिए

ये हुस्न देखकर ही तो वो चांद परेशान है
वो जल रहा है आपसे, घर से निकल के देखिए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है

love shyari next

गम इस कदर बरस पड़े, सावन भी शर्मसार हो
इस हिज्र में दो आंखों से, कुदरत की तकरार हो

हर सिलसिला रूका रहे, हर जलजला थमा रहे
ठहरी-अंधेरी रात में खामोशी की झनकार हो

कोई रास्ता नहीं मिला खूने-जिगर को तब मुझे
ऐसा लगा कि जख्म भी खंजर से धारदार हो

मेरा दर्द मसला फूल है, मेरी आह टूटा राग है
मेरी मौत का शायद तुम्हें, मुद्दत से इंतजार हो

हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जबसे खबर हुई कि मेरा दिल आशना है

prevnext

जबसे खबर हुई कि मेरा दिल आशना है
तबसे हम बेचैन हुए तेरे हर पल की खबर के लिए

कई दिन हो गए तुमसे मुहब्बत किए हुए
पर तरसते रहे अब तक तेरी इक नजर के लिए

तेरे साये से दूर हूं कि तेरी रुसवाई न हो
यही करता है हर आशिक अपने दिलबर के लिए

अश्क तो बह रहे हैं तन्हाई में जीते हुए
कोई मरहम तो अब बता दे तू खूने-जिगर के लिए

©RajeevSingh

शायरी – अश्क में डूबी नज़र है, दर्द है खूने जिगर

new prev new next

इश्क की बाजी में हारे जाने कितने बाजीगर
इस तिजारत में बिके जाने कितने सौदागर

सिर्फ इतनी सी खला है मौत भी मुमकिन नहीं
अश्क में डूबी नज़र है और दर्द है खूने जिगर

फासला ही एक हकीकत और यही अंजाम है
फुरकतों की वादियों में है आशिकों का शहर

जिंदगी को एक बार नागिन ने जो डस लिया
अब असर करता नहीं दुनिया का कोई जहर

तिजारत – व्यापार
फुरकत – जुदाई

©RajeevSingh