Tag Archives: ख्वाब शायरी

शायरी – बहुत मुसीबतें थी इश्क की राह में

new prev new shayari pic

न तेरे ख्वाब होते, न हम खाक होते
न ही दिल में दर्द भरे जज्बात होते

बहुत मुसीबतें थी इश्क की राह में
आखिर कब तक तुम मेरे साथ होते

तेरी खुशियों की बड़ी ख्वाहिश थी
वरना क्यों हम सूरत से उदास होते

जीने की जद्दोजहद आसान हो जाती
सोचता हूं, काश तुम मेरे पास होते

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – गम से घिरे इंसान को यूं छोड़ देता है जहान

love shayari hindi shayari

वो जानेवाला चला गया, मुड़ के कभी देखा नहीं
एक भीड़ देखती रही, किसी ने उसे रोका नहीं

गम से घिरे इंसान को यूं छोड़ देता है जहान
तन्हा ही वो मरता रहा और तूने भी टोका नहीं

राज ए दिल छुपा के जो खामोशी से जीता रहा
कहने को तो मिला उसे हसीन सा मौका नहीं

सुकून से है सो रहा जो कब्र में पड़ा हुआ
जिस ख्वाब ने जगाया था, वो देगी अब धोखा नहीं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

खुदाई शायरी- तेरी बंदगी अब तेरी गली में

prevnext

मेरी जिंदगी अब तेरी गली में
तेरी बंदगी अब तेरी गली में

तेरे शहर में भटका बहुत हूं
ये आवारगी अब तेरी गली में

दिल से नजर तक तू छा गई
खोजूं मैं खुद को तेरी गली में

तू मेरे ख्वाबों की कमसिन परी
देखता हूं तुझे मैं तेरी गली में

©RajeevSingh

शायरी – अपने ख्वाबों में जिस दिन देखा तुमको

love shayari hindi shayari

अपने ख्वाबों में जिस दिन देखा तुमको
मोहब्बत ने कहा ये दिल दे दूं तुमको

कोई बनाए ख्वाब का अक्स कागज पे
उसे देखकर मैं पहचान लूं तुमको

जाने किस शहर में तुम मिलोगी मुझसे
तुम्हीं बताओ मैं कहां खोजूं तुमको

अब तो बस जी यही करता रहता है कि
जहां भी रहूं वहां बस सोचूं तुमको

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – फिर तेरी बेवफाई से दिल में दर्द उठे

love shayari hindi shayari

टूटा ख्वाब तलाशता हूं शहर दर शहर
तेरा शबाब तलाशता हूं शहर दर शहर

फिर तेरी बेवफाई से दिल में दर्द उठे
वही अज़ाब तलाशता हूं शहर दर शहर

कहां चले गए तुम हमें तन्हा छोड़कर
कोई जवाब तलाशता हूं शहर दर शहर

जिसकी रोशनी से दिल का अंधेरा हटे
एक माहताब तलाशता हूं शहर दर शहर

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – ये तेरा गम है जो हमको मरने नहीं देता

love shayari hindi shayari

तन्हाई की दीवारें हैं उल्फत के महल में
हुस्न का शम्मा जला है दीवाने के दिल में

कुछ देर सोच ले ऐ मेरे दर्द के खुदा
सिर्फ ज़फा ही क्यूं मेरे लिए तेरे दिल में

ये तेरा गम है जो हमको मरने नहीं देता
आंखों में रोशनी है जब तू है मेरे दिल में

बहारों का शमा सा, खुशबू का झोंका सा
ख्वाबों का धोखा सा है उजड़े हुए दिल में

उल्फत- प्यार
जफ़ा- जुल्म

©RajeevSingh # love shayari