Tag Archives: गमे दिल शायरी

शायरी – दिल जो टूटे तो कोई जख्म न जुबां पे लाए

new prev new shayari pic

दिल जो टूटे तो कोई जख्म न जुबां पे लाए
कैसे फिर कोई उनके गम को समझ पाए

एक खुलते ही कई और गांठ लग जाते हैं
दिल के धागे भी उलझकर न सुलझ पाए

आप हंसते हैं मेरी हालत पर, हंसते रहिए
ये मेरा दर्द भी दुनिया का कुछ सबक पाए

जब भी खुलता है ये एक आस जगा देता है
घर के दरवाजे भी तेरे आने की कसक पाए

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – एक महबूबा की दुआएं रोती हैं

new prev new shayari pic

आसमान टूटता है, घटाएं रोती हैं
जब दिल टूटता है, निगाहें रोती हैं

रिश्तों के बाजार में भीख मांगती
प्यार की कितनी सदाएं रोती हैं

तनहाई के आलम में तकिए पर
एक महबूबा की दुआएं रोती हैं

दूर शहनाई की आवाज सुनकर
किसी की मातमी फिजाएं रोती हैं

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – तेरी मोहब्बत के गम का असर न मिटे

red pre red nex

तेरी मोहब्बत के गम का असर न मिटे
अमृत न मिले सही, ये जहर न मिटे

अब मेरी तन्हाई तकलीफ नहीं देती
तुझमें खोये रहने का ये पहर न मिटे

अपने वजूद की तलाश में भटका मैं
मरते दम तक मेरा ये सफर न मिटे

चांद की चाहत में जो दीवाना हुआ हो
आंखों के समंदर में वो लहर न मिटे

©राजीव सिंह शायरी