Tag Archives: गिला शायरी

शायरी फोटो – अब असर करता नहीं दुनिया का कोई जहर

red prev shayari pic red next

नागिन शायरी फोटो
जिंदगी को एक बार नागिन ने जो डस लिया
अब असर करता नहीं दुनिया का कोई जहर
Advertisements

शायरी – दिल लगाना भी सजा होता है

love shayari hindi shayari


दिल लगाना भी सजा होता है
तेरे दर पे ये सिला मिलता है

मैंने क्या-क्या ना किए तेरे लिए
तुझे खोजूं तो गिला मिलता है

जब गुजरता हूं गली से तेरी
तेरा घर बंद किला मिलता है

बुत तो जिंदा रही खामोशी से
कोई मंदिर में जला मिलता है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत

love shayari hindi shayari

हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत
ऐसे में दिल-ए-आशिक कैसे रहे सलामत

एक बूंद दर्द में डूबा, तब बन गया समंदर
किसी बेवफा ने की थी उसपे कभी इनायत

सब सूख चुकी हैं वो गुलाब की पंखुरियां
संभाल के रखा था आखिरी तेरी अमानत

आंखों में जमा होके गिले-शिकवे हुए पानी
चेहरे पे बहता दरिया, आईने की है शिकायत

©RajeevSingh # love shayari

 

शायरी – कांटें मिले हैं जिसको उसे मैं दिलजला लिखूं

love shayari hindi shayari

इस दर्द की तारीफ में अब क्या गिला लिखूं
दिन-रात के फिराक का क्या सिला लिखूं

बस्ती में खिला फूल भी औरों का हो चुका
कांटे मिले हैं जिसको उसे दिलजला लिखूं

घर लौटते हैं किसलिए अपनों से लड़ते लोग
नहीं जानता उन्हें तो क्यूं बुरा भला लिखूं

मेरे सफर में रह सका न कोई मेरे साथ
तन्हाइयों को ही मैं अब सिलसिला लिखूं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे आगोश में मिटता है मेरा नामोनिशां

love shayari hindi shayari

बंद कर ली आंखें और लब थरथराए
आ गए करीब फिर तुम क्यूं शरमाए

दिन में कह लेना जो भी हो गिले शिकवे
तेरी खामोश जुबां मुझे रातों को समझाए

तेरे आगोश में मिटता है मेरा नामोनिशां
सिर्फ अहसास मेरी रूह बनकर रह जाए

जब तलक सामने ये तेरी हसीं सूरत है
तब तलक सारे जमाने का गम मर जाए

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – दर्द टूटा है बड़ी जोर से आहें भरके

love shayari hindi shayari

दर्द टूटा है बड़ी जोर से आहें भरके
आह निकली है बड़ी देर से सजदा करके

दीद तेरी ही हुई थी, हिज्र तुमसे ही मिले
इश्क तो रह गया है मौत का नगमा बनके

शमा, मेरे हाल पे मेरे तू नाराज न हो
तू देख खामोशी से एक परवाना जलते

मौत जब आ ही गई तो गिला क्या करें
जिंदा रहते तो तेरे गम को सदमा कहते

सजदा- इबादत, सिर झुकाना
दीद- दर्शन, to see
हिज्र- जुदाई

©RajeevSingh #love shayari